ये ल्यौ... इब इंटरनेट में भी जातिवाद, अमीरी-गरीबीवाद आ ग्या!

भाई, इसकी तो बहुत जरूरत भी थी हम जैसे गरीबों को!

0 टिप्पणी "ये ल्यौ... इब इंटरनेट में भी जातिवाद, अमीरी-गरीबीवाद आ ग्या! "

एक टिप्पणी भेजें

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.