गूगल पर हिंदी के सर्च इंजन की जरूरत!

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

image

 

और, यह किसी फेकिंग न्यूज की हेडलाइन नहीं है.

जी हाँ!!!

गूगल पर हिंदी के सर्च इंजन की बेहद जरूरत है.

साथ ही हिंदी के स्पेल चेक की!

यह मेरा नहीं, माखनलाल पत्रकारिता विश्वविद्यालय के कुलपति, कुठियाला महोदय का कहना है.

और इस समचार को प्रमुखता से प्रकाशित किया है भारत के नंबर 1 हिंदी समाचार पत्र - दैनिक भास्कर ने.

जबकि गूगल में हिंदी सर्च बाबा आदम के जमाने से अंतर्निर्मित है, और गूगल के तमाम उपक्रमों में उन्नत स्तर की हिंदी की वर्तनी जाँच की सुविधा भी पिछले कई वर्षों से उपलब्ध है.

 

यह सही है कि हम सभी को सभी चीज का ज्ञान नहीं हो सकता. मगर विद्वानों का सही कहना भी तो है - गधा तब तक ही विद्वान बना रहता है, जब तक कि वो रेंकना न शुरू कर दे!

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

16 टिप्पणियाँ "गूगल पर हिंदी के सर्च इंजन की जरूरत!"

  1. वे कह रहे हैं त मान लीजिये भाई कि गूगल हिंदी की जरूरत है! :)

    उत्तर देंहटाएं
  2. मेरा भी इसी स्तर के कई विद्वानों से पाला पड़ा जब में सरकारी विभागों में अपने हिन्दी उपकरणों को लेकर गया। एक विद्वान श्री सिंह मुझे मध्य-प्रदेश के जन-संपर्क विभाग में मिले थे अब तो वह सेवानिवृत्त भी हो चुके हैं। अनुवादक के मामले में बोले कि संसद में तो बहुत पहले से ही एक ऐसा सॉफ़्टवेयर है जो कि बोलने वाले नेताओं की भाषा को सुन कर ही अलग-अलग प्रांत के लोगों की भाषा में स्वतः ही कन्वर्ट कर देता है। उनके सम्मुख और भी उसी स्तर के विद्वान थे जो उनकी हाँ में हाँ मिला रहे थे। मैं उन्हे क्या कहता? मैं खामोश रहा। आपकी इस पोस्ट को पढ़ कर मुझे अचानक वह याद आ गये।

    उत्तर देंहटाएं
  3. @गधा तब तक ही विद्वान बना रहता है, जब तक कि वो रेंकना न शुरू कर दे!

    हा हा हा कमाल के गोठियाएस गा रवि भैया। मजा आगे।

    उत्तर देंहटाएं
  4. हा हा अच्छा हुआ हमें भी आज पता चल गया, कि गूगल को हिन्दी सर्च इंजिन की जरूरत है :)

    उत्तर देंहटाएं
  5. यह व्यावहारिक ज्ञान की कमी है....कुलपति महोदय और अखबारी संपादक जी में !

    उत्तर देंहटाएं
  6. अन्धाधुन्ध दरबार में ** पंजीरी खायं ...

    उत्तर देंहटाएं
  7. इसीलिए मुण्‍े अपने से बेहतर लोगों का वार्तलाप सुनना सदैव ही अच्‍छा लगता है।

    उत्तर देंहटाएं
  8. आपसे सहमत हूँ, लेखन और पठन में बहुत ही सहायक होगा।

    उत्तर देंहटाएं
  9. कुछ दिन बाद कुलपति महोदय कहेंगे कि एक हिन्दी टाइपिंग सॉफ्टवेयर की भी सख्त जरूरत है। :-)

    उत्तर देंहटाएं
  10. mujhe bahut achcha laga or me aapka aabhari hu

    उत्तर देंहटाएं
  11. गधा तब तक ही विद्वान बना रहता है, जब तक कि वो रेंकना न शुरू कर दे!

    :)

    उत्तर देंहटाएं

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.