शनिवार, 23 सितंबर 2017

फ़ेसबुक फ़र्ज़ी है...

image

आज विभिन्न समाचार पत्रों में फ़ेसबुक ने पूरे पन्ने का विज्ञापन छपवाया है और सोशल मीडिया, खासकर फ़ेसबुक में फैल रहे फर्जी खबरों से आगाह किया है.

समस्या इतनी गंभीर है कि फ़ेसबुक को विज्ञापन जारी कर आगाह करना पड़ा है (शायद यह कोई न्यायलीयन वैधानिक बाध्यता भी हो!).

भले ही सोशल मीडिया फर्जी खबरों और फर्जी सूचनाओं से भरी पड़ी हो, लंबे समय में लोगों की समझ बढ़ेगी, और फर्जी लोग हाशिए में चले जाएंगे यह तो तय है. फर्जी लोगों के फर्जी सूचनाओं और खबरों का तात्कालिक लाभ भले ही उन्हें मिल जाए, मगर उनका पर्दाफाश होने में देर भी नहीं लगती.

मैं अपनी बात कहूं? थोड़ा अतिशयोक्तिपूर्ण लग सकता है, परंतु है यह सत्य ही. सोशल मीडिया में मेरा पाला फर्जी लोगों, फर्जी खबरों, फर्जी सूचनाओं से कम ही पड़ा है. न्यूनतम. मेरी छठी इन्द्रिय सक्रिय हो जाती है और फर्जी पने का पता तुरंत पड़ जाता है और मैं दाएँ बाएँ से खिसक लेता हूँ. यकीन करें, थोड़ा सावधानी रखें तो आप भी यह कौशल आसानी से हासिल कर सकते हैं.

--

व्यंज़ल

क्या कुछ नहीं फ़र्ज़ी है

तेरी दुनिया भी फ़र्ज़ी है


सब जायज था जहाँ

वो प्यार अब फ़र्ज़ी है


चमक उठा है तबसे

बना वो जबसे फ़र्ज़ी है


जवाब का क्या तो कहें

सवाल ही जब फ़र्ज़ी है


वक़्त का तक़ाज़ा है ये

अब तो रवि भी फ़र्ज़ी है

1 टिप्पणियाँ./ अपनी प्रतिक्रिया लिखें:

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

----

नया! छींटे और बौछारें का आनंद अपने स्मार्टफ़ोन पर बेहतर तरीके से लें. गूगल प्ले स्टोर से छींटे और बौछारें एंड्रायड ऐप्प image इंस्टाल करें. ---