मंगलवार, 26 सितंबर 2017

व्यंग्य जुगलबंदी 53 - बांध बनते हैं तभी तो ढहते हैं...

image

... क्योंकि मेरे सब्र का बांध तो कब का टूट चुका है!


व्यंज़ल

जिनके सीपेज भी हैं पूरे सौ प्रतिशत
वे भी गर्व से लिए घूम रहे हैं बांध

जिन्हें मालूम नहीं जल-मृदा-विज्ञान
बना रहे हैं वे तमाम लोग नए बांध

कारनामा किया है मेरे देश ने दोस्तों
बिना फ़ाउंडेशन हवा में बनाए बांध

हो गई है दुनिया रबर पॉलीथीन की
टूटते नहीं अब लोगों के सब्र के बांध

अब हम भी सफल में शुमार हैं रवि
दूसरों के कैचमेंट में बनाया है बांध

--

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

---------------------------------------------------------

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------