रविवार, 26 मार्च 2017

व्यंग्य जुगलबंदी 27 : आपने कभी गरमी खाई है?

  (कार्टून - साभार काजल कुमार )   गरमी अभी ठीक से आई नहीं है, और लोगों को गरमी चढ़ रही है. एक नेता इतनी गरमी खा बैठे कि सीधे हवाई जहाज से ...

बुधवार, 22 मार्च 2017

मंगलवार, 21 मार्च 2017

व्यंग्य जुगलबंदी 26 : जम्बूद्वीप में सन् 3050 के चुनाव के बाद

आज मैं आपको एक ऐसा व्यंग्य सुनाने जा रहा हूँ जिसे आप एक सांस में पढ़कर वाह! वाह!! कह उठेंगे. आज नहीं तो कल, पर ये तय है कि रवि रतलामी के व...

शनिवार, 18 मार्च 2017

शुक्रवार, 17 मार्च 2017

20 मार्च गौरैया दिवस पर विशेष... गौरैया की बनी रहे फुदकन / डॉ. सूर्यकांत मिश्रा

आलेख रचनाकार पर यहाँ देखें - http://www.rachanakar.org/2017/03/20.html

रिफ़स्टेशन से किसी भी एमपी 3 गीत को बजाने का नोटेशन/कॉर्ड प्राप्त करें

टेक्नोलॉज़ी की जय हो! यदि आप गीत संगीत गाने-बजाने में रुचि रखने हैं, तो रिफ़स्टेशन के बारे में जानते होंगे. यदि नहीं, तो यह आपके लिए बहुमू...

मंगलवार, 14 मार्च 2017

आईफोन लें कि एंड्रॉयड?

क्यों नहीं दोनों ही ले लिया जाए? वैसे भी, मेरा काम किसी एक से तो होता ही नहीं है!

सोमवार, 13 मार्च 2017

प्रस्तुत है, हिंदी कीबोर्ड की समस्या का एकमात्र, संपूर्ण हल - हिंदी देवनागरी भौतिक कीबोर्ड

मित्र संजय बेंगाणी ने जब बताया कि उन्होंने हिंदी का भौतिक कीबोर्ड ऑनलाइन साइट से खरीदा है और उस पर काम करना सीख रहे हैं तो मुझे उत्सुकता हु...

रविवार, 12 मार्च 2017

व्यंग्य जुगलबंदी - 25 : हुड़दंग – होली बेहोली

बेचारा होली बेकार ही बदनाम है हुड़दंग के लिए. जबकि इस देश में गाहे बेगाहे, जब तब, कारण बेकारण, बात बेबात, यत्र तत्र सर्वत्र हुड़दंग होते ह...

गुरुवार, 9 मार्च 2017

आईबस टाइपिंग बूस्टर से अपनी हिंदी टाइपिंग को बूस्ट कीजिए!

(आईबस हिंदी आईएमई में रेमिंगटन, फ़ोनेटिक, इनस्क्रिप्ट, आईट्रांस आदि आदि कीबोर्ड से हिंदी टाइपिंग की सुविधा)   बहुत सी जनता विंडोज़ 10 में...

रविवार, 5 मार्च 2017

व्यंग्य जुगलबंदी 24 - आधुनिक अभिव्यक्ति

  (चित्र - अनूप शुक्ल के फ़ेसबुक वॉल से साभार) आदमी जितना सभ्य, टेक्नोलॉज़ी एडॉप्टिव होता जा रहा है, अपनी प्रकाशित-अप्रकाशित, व्यक्त-अव्...

शनिवार, 4 मार्च 2017

लीजिए, खास आपके लिए पेश है हर्बल नॉनवेज

हर्बल अंडे के बाद अब जल्द ही हर्बल चिकन, मटन, फिश, पोर्क आदि। और बीफ़ तो शुरु से ही हर्बल है!

गुरुवार, 2 मार्च 2017

पढ़ेलिखों का अनपढ़

भई, मैं तो, नित्य 300 ईमेल, 500 फ़ेसबुक स्टेटस पोस्ट, 1000 ट्वीट, 2500 वाट्सएप्प संदेश पढ़ता हूँ, मगर, कुछ स्टैण्डर्ड, कुछ मानकों के हिसाब ...

---------------------------------------------------------

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------