सन् 2016 का वैरायटीज़ से भरा साल - कार्टूनिस्टों की नज़र में

-----------

-----------

कार्टूनिस्टों की नजर में वर्ष 2016 कैसा रहा? लेखा जोखा दिसम्बर 2016 के हिंदी फ़ेमिना में उपलब्ध है. इस्माइल लहरी, मन्जुल, कीर्तीश भट्ट और अजीत नैनन मौजूद हैं यहाँ. मेरे पसंदीदा कार्टूनिस्ट काजल कुमार को भी होना चाहिए था यहाँ, मगर ख़ैर.

मैंने फ़ेमिना के इस अंक को अपने स्मार्टफ़ोन में मुफ़्त जियो मैग्स ऐप्प के जरिए पढ़ा है और इसके कुछ पन्ने आपसे नीचे साझा किए हैं - ऐप्प पर वहाँ मौजूद साझा विकल्प के जरिए. यदि आपके पास रिलायंस जियो कनेक्शन है तो आप भी जियो मैग्स ऐप्प डाउनलोड कर यह अंक मुफ़्त में डाउनलोड कर इसका आनंद उठा सकते हैं - हाँ, अच्छे अनुभव के लिए आपके स्मार्टफ़ोन की स्क्रीन पांच इंच या बड़ी होनी चाहिए. टैबलेट पर यह और अच्छे से पढ़ा जा सकता है. बाजार में प्रिंट मैग्जीन का विकल्प तो खैर है ही - कीमत - केवल 40 रुपए.

image

image

image

 

image

-----------

-----------

0 Response to "सन् 2016 का वैरायटीज़ से भरा साल - कार्टूनिस्टों की नज़र में"

एक टिप्पणी भेजें

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.