बुधवार, 30 नवंबर 2016

राष्ट्रवादी सरकार की राष्ट्रवादी न्यायपालिका!

सिनेमा ही क्यों, हर टीवी चैनल पर हर सीरियल के पहले राष्ट्रगान सुनाया जाना चैये! अनिवार्य रूप से! लोगों की राष्ट्रभक्ति तो जाने कहाँ गायब ह...

रविवार, 27 नवंबर 2016

नया रुपया पुराना रुपया

इधर मैंने वह खबर टीवी पर देखी,  उधर मेरे दिमाग का हाजमा खराब हुआ था. मुझे रात में हजारों सूरज दिखाई देने लगे थे. सुबह ही मैंने एटीएम से...

गुरुवार, 24 नवंबर 2016

रेत में से तेल निकालने की क्लासिक कवायद

वह भी पूरी तरह देसी, निपट भारतीय.

नोटबंदी - बिजनेस की नई, नायाब संभावनाएं

ओह, तो अब पता चला कि नए नोट कहां जा रहे हैं और नए नोटों की मारामारी क्यों है!

बुधवार, 23 नवंबर 2016

मंत्रियों का असली काम क्या है?

ओह, तो यह है मंत्रियों का असल काम-

रविवार, 20 नवंबर 2016

भक्त एटीएम विरुद्ध आपिया एटीएम

  भक्त एटीएम विरुद्ध आपिया एटीएम नोटबंदी के साइड-इफ़ेक्ट के चलते काम के अधिक बोझ की वजह से एटीएम खराब हो रहे हैं. सुधारने के लिए तकनीशिय...

शुक्रवार, 18 नवंबर 2016

सोनम गुप्ता बेवफ़ा क्यों है... / मंजीत ठाकुर

यह मुई सोनम गुप्ता है कौन, और यह बेवफा क्यों है?   जब इंसान के हाथ में नोट ही न हों, पता लगे कि आपके पास के 86 फीसद, अरे साहब वही 5 सौ ...

गुरुवार, 17 नवंबर 2016

व्हाट्सएप्प से परेशान हैं? छोड़ने की सोच रहे हैं? तो यह पोस्ट आपके लिए है.

तकनीक के पंडित बी.एस.पाबला जी ने व्हाट्सएप्प को छोड़ने की घोषणा की है. अपने फ़ेसबुक स्टेटस पर  - स्क्रीनशॉट नीचे है - व्हाट्सएप्प एक नो-न...

शब्द-उपनिषद् - डा. सुरेन्द्र वर्मा

शब्द उपनिषद ‘ उपनिषद” का शब्दार्थ ‘समर्पणभाव से निकट बैठना’ है.उप का अर्थ है निकट;;नि; से तात्पर्य है’समर्पण’भाव और सद माने बैठना है.ऋष...

निर्विवादित रूप से, दुनिया का सर्वकालिक, सबसे ज्यादा बहुमुखी-प्रतिभा वाला इन्सान!

मेरे जैसे अलालों के लिये

अल्टीमेट आविष्कार!

सोमवार, 14 नवंबर 2016

रविवार, 13 नवंबर 2016

व्यंग्य जुगलबंदी - एक चुटकी नमक की कीमत तुम क्या जानो रवि बाबू!

अंततः मैं भी आधा दर्जन पैकेट नमक के ले ही आया. थोड़ी बहुत मशक्कत तो खैर करनी ही पड़ी, और बहुत सारा जुगाड़ भी. जो कि इस देश-वासियों की खासिय...

शनिवार, 12 नवंबर 2016

मेरी अलाली का आखिर मैं क्या करूँ?

जबकि यह समस्या यूनिवर्सल और जेनेटिक है!

शुक्रवार, 11 नवंबर 2016

आपके उपकरणों के साइलेंट किलर

ओह, तो ये हैं हमारे उपकरणों के साइलेंट किलर!

क्या आपकी भी कभी अवमानना हुई है?

सवाल ये है कि (क्या ) केवल न्यायालय की ही अवमानना (क्यों) होती है?

ओह, तो काला धन इधर था!

शनिवार, 5 नवंबर 2016

व्यंग्य जुगलबंदी - व्यंग्य का विषय

व्यंग्य का विषय क्या हो? (चित्र - काजल कुमार http://kajalkumarcartoons.blogspot.in/2016/11/india-kajal-cartoon-orop-khattar-kejriwal-suic...

रे फ़ेसबुक, इब तो फ्रेंड सीमा 5000 हटा ही दे...

मैं तो, फ़ेसबुक में (ही), पूरी दुनिया को अपना फ्रेंड बनाना चाहूंगा!

---------------------------------------------------------

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------