वही तो! चौर्य कर्म तो मेरे जीन में है

-----------

-----------


जिसका जिम्मेदार मैं भला कैसे हो सकता हूँ!

-----------

-----------

2 Responses to "वही तो! चौर्य कर्म तो मेरे जीन में है "

  1. योर ऑनर, मेरा मुवक्किल बेकसूर है. इस चोरी की सजा उसके बाप को दी जानी चाहिए.

    उत्तर देंहटाएं
  2. :)

    वैसे भारत में कानून के नियम कुछ अलग चलते हैं - जैसे कि - योर ऑनर, मेरा मुवक्किल बेकसूर है. इस चोरी की सजा सामग्री के मालिक को दी जानी चाहिए - न उसके पास सामान होता न यह चोरी होती :)

    उत्तर देंहटाएं

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.