टेढ़ी दुनिया पर रवि रतलामी की तिर्यक, तकनीकी रेखाएँ...

May 2016

सोशल साइट लिंक्डइन के उपयोगकर्ताओं के पासवर्ड लीक हो गए.

एक साइट पर शीर्ष पासवर्ड उपयोग के आंकड़े दिए गए हैं.

ये हैं सबसे सरल, कभी न भूलने वाले पासवर्ड.

इनमें से छांटकर आप भी उपयोग में ले सकते हैं, और फिर आप कभी न भूलेंगे. पर हाँ, अपने खाते में उतनी ही आसानी से हैकिंग के लिए भी तैयार रहें Sad smile

image

एंड्रायड से क्रोमकास्ट धुंआधार चलता है, कोई समस्या नहीं. परंतु मामला विंडोज़ पर अटक जाता है. खासकर विंडोज डेस्कटॉप कंप्यूटर पर. यहाँ क्रोम ब्राउज़र से आप टैब को कास्ट कर सकते हैं, परंतु यदि आपको कोई प्लेलिस्ट प्ले करनी हो या कई मीडिया फ़ाइलें प्लेलिस्ट में जोड़नी हों तो समस्या आती है. कुछ क्रोमकास्ट एक्सटेंशन तो हैं, परंतु यदि आप विनएम्प जैसे एमपी3 प्लेयर के ऑडियो को क्रोमकास्ट में स्ट्रीम करना चाहें तो?

इससे पता चलता है कि विंडोज हर मामले में एंड्रायड से पिछड़ क्यों रहा है, और कुछ वर्षों में विंडोज का कोई नामलेवा क्यों नहीं रहेगा यह भी तयशुदा है - विडोज़ में नवाचार का पूरा अभाव है. नई टेक्नोलॉज़ी का समर्थन इसमें उस तेजी से नहीं मिल रहा है जिस तेजी से एंड्रायड में मिल रहा है. एंड्रायड वैसे भी फुल डेस्कटॉप कंप्यूटर की शक्ति दिखाने की ओर अग्रसर है.

 

बहुत खोजबीन करने के बाद एक उपाय यहाँ दिखा -

 

http://lifehacker.com/how-to-send-your-computers-audio-to-a-chromecast-1750297581

 

उपाय सरल है, एक एप्लिकेशन है क्रोमकास्ट ऑडियो स्ट्रीम. डाउनलोड कर फ़ाइल एक्सट्रैक्ट करें, एप्लीकेशन ऑ़डियोकास्ट.ईएक्सई को चलाएँ, सिस्टम ट्रे से क्रोमकास्ट सलेक्ट करें, और सिस्टम में बजते संगीत का आनंद लें.

ऑडियोकास्ट डाउनलोड लिंक -

 

https://github.com/acidhax/chromecast-audio-stream

 

tag - how to play music in chromecast audio through windows 10 winamp windows media player

फ़ेसबुक दैत्याकार है, और यह कुछ कुछ ब्लैक होल की तरह है. आज जो दिख रहा है, कल गायब और ऐसा कि नजर ही न आए.

साथ ही, इसका इंटरफ़ेस और शैली इस तरह नित्य परिवर्तित होती रहती है (शायद नित्य डेवलपमेंट साइकल के कारण) कि खोज बीन करना मुश्किल प्रतीत होता है, और बहुधा सर्च बॉक्स या सर्च आइकन ही पेज से गायब मिलता है.

ऐसे में फ़ेसबुक में सर्च कर सामग्री कैसे खोजें

वैसे, फ़ेसबुक में खोजना बेहद आसान है, भले ही सामग्री की प्रचुरता के कारण सार्थक सार सामग्री प्राप्त करना भले ही खासा मुश्लिक हो. फिर भी, जो सामग्री खोजना है, उसे निम्न तरीके से खोजें तो बहुत कुछ वाजिब परिणाम मिल सकते हैं.  जो इनपुट हिंदी में उदाहरण के रूप में दिए गए हैं, उन्हें बदलना न भूलें.

 

फ़ेसबुक सर्च

सामान्य सर्च -
https://www.facebook.com/search/results.php?q=अनूप+शुक्ल&init=public

सबकुछ में से खोजें -
https://www.facebook.com/search/all/?q=कहानी

 

व्यक्ति खोजें -
https://www.facebook.com/search/people/?q=अनूप+शुक्ल

 

पेज खोजें -
https://www.facebook.com/search/pages/?q=रचनाकार

 

स्थान खोजें -
https://www.facebook.com/search/places/?q=भोपाल

 

समूह खोजें -
https://www.facebook.com/search/groups/?q=कविता

 

ऐप्प खोजें -


https://www.facebook.com/search/apps/?q=वर्ग+पहेली

 

इवेंट खोजें -
https://www.facebook.com/search/events/?q=जन्मदिवस

सोशल मीडिया के निर्विवाद बादशाह - फ़ेसबुक ने हाल ही में बड़े गर्व से घोषणा की कि अब आप फ़ेसबुक में आसानी से हिंदी – माने देवनागरी में लिख सकते हैं. इसके लिए उसने एक औजार भी प्रस्तुत किया जो फ़ेसबुक उपयोगकर्ता के सामने इनपुट बक्से में वैकल्पिक रूप से उपलब्ध रहेगा. यह औजार है रोमन फ़ोनेटिक देवनागरी टाइपिंग – जिसका लब्बोलुआब ये हुआ कि आपको राम लिखने के लिए ram कुंजी दबाना होगा. वैसे, यदि आप थोड़ी नजदीकी दृष्टि डालेंगे तो आप पाएंगे कि कोई भी सोशल मीडिया हो – चाहे फ़ेसबुक, ब्लॉग, ट्विटर या वाट्सएप्प – हिंदी सामग्री भरपूर उपयोग में ली जा रही है – मगर उसमें देवनागरी हिंदी की मात्रा अभी भी बहुत कम है – लोगबाग अभी भी रोमन हिंदी में ही काम चला ले रहे हैं, जो बेहद अजीब बात है. और, शायद इसी बात को ताड़कर, भले ही अब उतनी जरूरत नहीं रह गई हो, फिर भी, फ़ेसबुक ने अपना नया देवनागरी टाइपिंग टूल प्रस्तुत किया. अब जब सब तरफ चहुँओर – कंप्यूटरों से लेकर मोबाइल फ़ोनों – सभी में देवनागरी टाइप करने की उन्नत सुविधाएँ उपलब्ध हो गई हैं, तो हिंदी जनता को जवाब देना ही चाहिए कि वो क्यों अभी तक रोमन हिंदी में चिपकी पड़ी है? रोमन हिंदी बेहद उबाऊ, बहुधा अर्थ का अनर्थ करने वाला, घोर अपठनीय होता है, और अब जबकि फ़ेसबुक ने भी सोशल मीडिया में सक्रिय हिंदी वालों को ललकार दिया है तो रोमन हिंदी में सक्रिय लोगों को देवनागरी अपनाना ही चाहिए.

अब सवाल ये है कि आखिर देवनागरी में लिखें तो कैसे, और किस टूल से? यदि आप पहले से ही देवनागरी में लिख रहे हैं तो अपनी उत्पादकता बढ़ाने – माने और अधिक तेज़ी से, और अधिक शुद्धता से देवनागरी में कैसे लिखें? आइए, आज पड़ताल करते हैं - आपके लिए उपलब्ध कुछ शानदार हिंदी टाइपिंग टूल के बारे में – कौन सा टूल किस प्लेटफ़ॉर्म के लिए बेहतर होगा?

मैं कोई पिछले पंद्रह वर्षों से प्रायः सभी किस्म के कंप्यूटरों और कंप्यूटिंग उपकरणों पर हिंदी टाइपिंग का उपयोग धड़ल्ले से करता आ रहा हूँ, और मैंने आमतौर पर, बेहतर की तलाश में सभी प्रमुख टाइपिंग टूल को एकाध बार तो आजमाया ही है. इन्हीं में से चुनकर, आपके लिए कुछ टाइपिंग टूल की जानकारी प्रस्तुत करूंगा जिसे प्रयोग कर आप सोशल मीडिया में अपनी गतिविधि में चार चाँद लगा सकते हैं. यहाँ पर कुछ तकनीकी अनुमान हम स्वीकार कर लेते हैं कि आप विंडोज़ पीसी और एंड्रायड स्मार्टफ़ोन और टैबलेट का उपयोग कर रहे हैं क्योंकि आमतौर पर भारत में यही लोकप्रिय हैं, और हम इन्हीं के लिए उपलब्ध हिंदी देवनागरी टाइपिंग टूल के बारे में चर्चा करेंगे.

पहले हम लेते हैं स्मार्टफ़ोन को. आप आश्चर्य करेंगे कि आपके हाथों में उपलब्ध नए स्मार्टफ़ोन में आपके पुराने डेस्कटॉप कंप्यूटर से भी ज्यादा कंप्यूटिंग ताकत है. यदि थोड़ा भी उन्नत किस्म का हुआ तो हो सकता है कि आपके स्मार्टफ़ोन में एक नहीं, दो नहीं, आठ-आठ प्रोसेसर (कंप्यूटर के सिंगल सीपीयू मदर बोर्ड जैसा आठ) लगे हों. चार प्रोसेसर तो आम बात हैं, और बेहद किफ़ायती दामों वाले फ़ोनों में भी होते हैं. और, आपके ये स्मार्टफ़ोन आपके लिए हिंदी टाइप करने में हर तरह के उन्नत कार्य कर सकने में सक्षम होते हैं.

स्मार्टफ़ोनों में उपलब्ध हिंदी टाइपिंग की सुविधाएँ –

फ़ेसबुक की हालिया घोषणा को भूल जाएँ. जो हिंदी टाइपिंग का रोमन ट्रांसलिट्रेश औजार उनके द्वारा अभी जारी किया गया है, वो इंटरनेट पर ऑनलाइन टूल और डेस्कटॉप तथा स्मार्टफ़ोनों में बहुत पहले से उपलब्ध है, और आमतौर पर हिंदी में सक्रियता से काम करने वालों के लिए बेकार है. क्योंकि चार हिंदी अक्षर वाले शब्द को टाइप करने के लिए छः से आठ कुंजियां दबानी पड़ती हैं और ट्रायल व एरर अपनाना पड़ता है. तो सवाल ये है कि सर्वश्रेष्ठ टूल कौन सा है? सर्वश्रेष्ठ टूल हर उपयोगकर्ता के लिए भिन्न हो सकता है, और यदि आप अपनी हिंदी टाइपिंग में पहले से ही किसी टूल में मास्टर हैं, तो आपको अपना हिंदी टाइपिंग टूल बदलने की जरूरत नहीं है. फिर भी, यदि आप अपने स्मार्टफ़ोन के लिए किसी सर्वश्रेष्ठ हिंदी टाइपिंग टूल की तलाश में हैं तो प्ले स्टोर से स्विफ़्टकी (swiftkey) इंस्टाल करें, और इंस्टाल करने के बाद उसमें हिंदी कीबोर्ड एनेबल करें. यह टूल निःशुल्क है.

हिंदी टाइपिंग के लिए, स्विफ़्टकी क्यों सर्वश्रेष्ठ है? – स्विफ़्टकी विश्व की सभी प्रमुख भाषाओं में टाइपिंग टूल उपलब्ध करवाता है और इसकी टीम केवल टाइपिंग टूल में बेहतर गुणवत्ता प्रदान करने के लिए ही काम करती है. हिंदी में स्मार्टफ़ोनों में टचस्क्रीन सुविधा के कारण आपको कीबोर्ड रटने की वैसे भी कोई आवश्यकता नहीं है, क्योंकि सब सामने रहता है, फिर भी यह आसानी से याद हो जाने वाले हिंदी वर्णमाला तथा बारह-खड़ी वाला कुंजीपट लेआउट का प्रयोग करता है. साथ ही इसमें कई तरह की उन्नत सुविधाएं हैं. जैसे कि यदि आपको रोमन ट्रांसलिट्रेशन टूल से ‘क्वचिदन्यतोअपि’ जैसे कुछ हिंदी-संस्कृत का जटिल शब्द लिखने को कहा जाए तो बड़ी कठिनाई होती है, और कई बार असंभव हो जाता है. परंतु इस टूल में ऐसे जटिल शब्दों को टाइप करने के लिए त्रि-स्तरीय कुंजीपट उपलब्ध हैं और वे आपके द्वारा टाइप किए जा रहे शब्दों-अक्षरों का पूर्वानुमान लगा कर आपके लिए शानदार विकल्प भी पेश करते हैं. आइए, इसे जरा चित्रों से समझें –

जैसे ही आप क टाइप करते हैं, आपके सामने प्रेडिक्टिव टैक्स्ट के विकल्प आते हैं जो आपके पूर्व के कार्य पर निर्भर होते हैं. यदि आपको इनमें से कुछ नहीं चुनना है तो नीचे बारह खड़ी में से चुन सकते हैं, वह भी नहीं चाहिए, तो क्षत्रज्ञ लिखे बटन को टच करें.

clip_image002

क्षत्रज्ञ बटन को टच करने पर कुंजी पट का एक नया लेवल खुलता है जिसमें आपको और विकल्प मिलते हैं – आप देखेंगे कि न सिर्फ ‘क’ के विभिन्न संयुक्ताक्षर वाले रूप बल्कि अन्य पौराणिक चिह्न आदि भी मिलते हैं.

clip_image004

जैसे ही आप कोई शब्द टाइप कर लेते हैं, यह प्रेडिक्टिव टैक्स्ट इनपुट से आपके पुराने उपयोग पैटर्न के हिसाब से एक नहीं बल्कि दो-दो शब्दों का भी एक साथ टाइप करने का सुझाव देता है. इससे आप महज कुछ ही कुंजी दबा कर पूरा वाक्य टाइप कर सकते हैं.

clip_image006

इसमें केवल यही सुविधा नहीं है बल्कि फ्लो टाइपिंग की सुविधा भी है. आप अपनी उँगली उठाए बिना ही शब्दों में निहित अक्षरों को छूकर बेहतर और तेजी से टाइप कर सकते हैं. उदाहरण के लिए कहानी टाइप करने के लिए आपको सीक्वेंस में क ह न को छूना भर है, और कहानी टाइप हो जाएगा. थोड़े से प्रैक्टिस से आप इसमें महारत हासिल कर सकते हैं और बेहद सुविधाजनक तो है ही, आपकी उंगलियों को राहत भी देता है.

अपने स्मार्टफ़ोन में बोलकर टाइप करें –

प्रसिद्ध कथाकार सूरज प्रकाश सोशल मीडिया में अति सक्रिय हैं. वे फ़ेसबुक, ट्विटर और ब्लॉग पर शुद्ध देवनागरी हिंदी में लिखते हैं और क्या आप अंदाजा लगा सकते हैं कि वे ये कैसे करते हैं? वे कोई पिछले सालेक भर से अपने स्मार्टफ़ोन में बोल कर ही टाइप करते हैं!

जी हाँ, गूगल वाइस लेखन नामक निःशुल्क उपलब्ध टूल के जरिए वे यह कार्य बखूबी कर रहे हैं. ऊपर से अब आपको वाइस टाइपिंग के लिए ऑनलाइन रहने की भी जरूरत नहीं. हिंदी के लिए ऑफ़लाइन डेटा डाउनलोड हो जाता है जिससे आप कहीं भी कभी भी बोलकर हिंदी देवनागरी में लिख सकते हैं. इसके लिए गूगल इनपुट तथा गूगल वाइस इनपुट टूल इंस्टाल कर हिंदी लैंग्वेज पैक प्ले स्टोर से इंस्टाल करें. यकीन मानिए, इसका उपयोग बेहद आसान है और आश्चर्यकारी है. इतना ही नहीं, आप हिंदी में बोलकर कमांड भी दे सकते हैं.

अपने स्मार्टफ़ोन में लिखकर टाइप करें –

जी हाँ, आपने सही पढ़ा.

आपका देवनागरी हिंदी में लिखा हस्तलेख अब आपका स्मार्टफ़ोन समझ जाता है और उसे डिजिटली कन्वर्ट कर सकता है जिसका उपयोग आप सोशल मीडिया में सक्रिय बने रहने के लिए कर सकते हैं. यदि आपको कुंजियों को टच कर लिखने में सहज नहीं हैं, और अपने प्रिय पेन-पेंसिल कागज जैसी फ़ीलिंग छोड़ना नहीं चाहते तो कोई सौ रुपल्ली (वैसे आप अपनी उँगली का बढ़िया उपयोग कर सकते हैं) में डिजिटल पेंसिल खरीद लाएँ और गूगल हस्तलेखन इनपुट हिंदी इंस्टाल कर इसके जरिए अपना काम करें

आपके विंडोज पीसी के लिए सबसे बढ़िया टूल –

अब तो तमाम तरह के जुगाड़ हैं, परंतु जनता बहुधा ट्रांसलिट्रेशन का ही उपयोग करती है. यही सोचकर फ़ेसबुक ने भी पहले से उपलब्ध ट्रांसलिट्रेशन टूल को धो-पोंछकर नया रूप रंग देकर फिर से जारी कर दिया. परंतु यदि आपको अपनी उत्पादकता बनाए रखना है, सक्रियता और शुद्धता बनाए रखनी है, टाइपिंग में गुम हो जाने (राम का रामा टाइप हो जाने या न होने) के फ्रस्ट्रेशन से बचे रहना चाहते हैं तो इनस्क्रिप्ट कुंजीपट अपनाएँ. यह सभी आधुनिक पीसी, विंडोज, मैक, लिनक्स आदि में डिफ़ॉल्ट रूप में मौजूद होता है, बस इनेबल करना होता है और आमतौर पर हर एप्लिकेशन हर प्रोग्राम में चलता है. इसे सीखना बेहद आसान है. यह हिंदी वर्णमाला के अनुक्रम के आधार पर बना है और टचटाइपिंग – यानी बिनदेखे शीघ्रता से टाइप करने के लिए डिजाइन किया गया है. इसके कई टाइपिंग ट्यूटर भी हैं जिन्हें डाउनलोड कर आप आसानी से इसे सीख सकते हैं. जब यूनिकोड नहीं था, इनस्क्रिप्ट कुंजीपट नहीं था, तो हिंदी इंटरनेट व हिंदी कंप्यूटिंग के शुरुआती दिनों में मैंने शुषा, रेमिंगटन, कृतिदेव, चाणक्य, रोमन, ट्रांसलिट्रेशन, फ़ोनेटिक आदि न जाने कितने कुंजी पट उपयोग किए और फेंक दिए. सभी में समस्याएँ होती थीं. जब से मैंने इनस्क्रिप्ट अपनाया, हिंदी टाइपिंग का लाइफ़ हो गया झिंगालाला. इस आलेख को भी मैंने इनस्क्रिप्ट से टाइप किया है, और कुंजीपट को बगैर देखे – 40 शब्द प्रतिमिनट की रफ़्तार से भी अधिक. मैं अपनी देवनागरी हिंदी टाइपिंग में पास तो हो गया ना?

हिंदी टाइपिंग संबंधी और अधिक तकनीकी जानकारियाँ आप मेरी निम्न साइट में दिए गए लिंक से भी ले सकते हैं -

http://rachanakar.org

जीएम की जय हो!
ये पीला तरबूज़ पहली बार देखा।
कस्टमाइजेशन का विकल्प मिले तो चटख बैंगनी रंग का तरबूज़ खाना चाहूँगा, अब स्वाद भले ही उन्नीसा हो।

कोई बताएगा जरा?
मामला अनुवाद में खो जाने (लास्ट इन ट्रांसलेशन) का लगता है।
वैसे ये स्क्रीनशॉट विज्ञापन के रूप में जबरिया दिखने में आ रहा है जिस पर भरोसा न ही करें तो बेहतर।

हंसते बोलते जाने क्यों रो पड़ा
चोट खाई नहीं फिर भी रो पड़ा

लोग सब अपनों को ही देखते हैं
वो तो दूसरों के हाल पर रो पड़ा

ऐसी कौन-सी चूक हो गई हमसे
लोग समझे खुशी के मारे रो पड़ा

शायद जीवन का डिफ़ॉल्ट है ये
आदमी यहाँ आया और रो पड़ा

ये तो महज समझ का फेर है रवि
जिस पर ठहाके लगे वो रो पड़ा

लीजिए सुनिए! वैज्ञानिकों ने एक ऐसा कैटरबॉक्स बना लिया है जिसे बिल्लियों के गले में टांगने के बाद उसके मुँह से निकली हुई मियाँऊँ को मनुष्य (के समझने ) की आवाज में रूपांतरित किया जा सकता है।
अब, आपको नहीं लगता है कि हमारे नेताओं के श्रीमुख से निकलने वाले उवाचों के सही सही अर्थों के लिए नेतारबॉक्स बनाना चाहिए? फिर ये समस्या नहीं होगी कि उन्हें संदर्भ से बाहर समझा गया या उन्हें गलत उद्धृत किया गया।

अन्य रचनाएँ

[random][simplepost]

व्यंग्य

[व्यंग्य][random][column1]

विविध

[विविध][random][column1]

हिन्दी

[हिन्दी][random][column1]

तकनीकी

[तकनीकी][random][column1]

आपकी रूचि की और रचनाएँ -

[random][column1]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget