घूरों - खंडहरों के दिन भी फिरते हैं...

-----------

-----------

image

ये तो, फिर भी, सरकारी स्कूल हैं!

पढ़ाई, इतनी इंटरेस्टिंग कभी नहीं रही थी - कसम से! सोच रहा हूँ, किसी सरकारी स्कूल में फिर से दाखिला ले लूँ!

 

image

किसी सरकारी स्कूल में पढ़ना कैसा होता है, ये तुम क्या जानो नेता-नौकरशाह-न्यायाधीश बाबू!

-----------

-----------

0 Response to "घूरों - खंडहरों के दिन भी फिरते हैं..."

एक टिप्पणी भेजें

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.