संदेश

July, 2015 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

हुर्रे! याहू!! यूरेका!!! - विंडोज़ 10 - मुझे मेरा डेस्कटॉप व स्टार्ट मेनू वापस मिल गया!!!!

चित्र
विंडोज 8 बुरी तरह फेल हो गया था - कम से कम मेरे लिए तो. मेरे कंप्यूटर में इंस्टाल/प्री-इंस्टाल दर्जनों ऐप्प/ऐप्लिकेशनों को चलाने के लिए न जाने क्या क्या पापड़ बेलने पड़ते थे. वे कहीं से नजर ही नहीं आते थे. ढूंढ-ढांढ कर प्रोग्रामों के शॉर्टकट के डेस्कटॉप आइकन बनाया तो डेस्कटॉप भर गया, और डेस्कटॉप चालू करने के लिए भी आपको एक अदद क्लिक या टैप मारना पड़ता था.और, किसी एप्लीकेशन के खुलने पर उसे बंद करने का तो साला कोई विकल्प ही नहीं होता था. पता नहीं वो कहाँ जा कर मर जाता था या जिंदा रहता था. (ख़ैर, जो हो, अब विंडोज 10 के साथ मुझे मेरा पुराना डेस्कटॉप व स्टार्ट मेनू मिल गया. और न केवल यही, बल्कि बड़े  काम का टास्कबार फुल्ली रीलोडेड भी वापस मिल गया.जैसा कि आप जानते हैं, यदि आप विंडोज 7 या बाद के संस्करण उपयोग में ले रहे हैं, तो विंडोज 10 को आप साल भर तक मुफ्त में  पा सकते हैं - मुफ़्त अपग्रेड के रूप में.विंडोज 10 की और मुख्य बातें हैं -घोषित रूप से यह विंडोज का आखिरी वर्जन होगा - यानी कोई बड़ा फेरबदल नहीं होगा, और यदि आपने यह विंडोज ले लिया या मुफ़्त अपग्रेड कर विंडोज 10 प्राप्त कर लिया तो भ…

येल्लो! धपाधप ब्लॉग पोस्ट लिखने में आपकी सहायता के लिए आ गया एक ऐप्प!!

चित्र
ऐप्प इंस्टाल करें और धपाधप ब्लॉग पोस्टें लिखें. क्या लिखें, क्या छोड़ें की चिंता ऐप्प पर छोड़ दें. और, लगता है कि ऐप्प अपने कंसेप्ट के दिनों से ही खासा प्रभावशाली होने लगा है. एक ही चीज को कई एंगल से आप लिख सकेंगे. शायद  इसी लिए, आज के टाइम्स ऑफ इंडिया, भोपाल संस्करण में यह खबर दो बार छपी है - एक ही पेज पर, ठीक एक दूसरे के नीचे-ऊपर! एक बार लंबाई में, और दूसरी बार, ठीक नीचे - चौड़ाई में!देखें -मैंने तो दोनों ही खबर को आनंद लेकर पढ़ा. लंबाई में छपे खबर का मजा कुछ और था, चौड़ाई में छपे खबर को पढ़ने का आनंद कुछ और आया. सही में!

सत्यानाश हो गूगल का, मेरी सारी क्रिएटिविटी इसने खत्म जो कर दी!

चित्र
सम्माननीय पत्रकार जी, ग़म गलत करने के लिए, चलिए क्यों न कुछ ईगो सर्फिंग कर लें?

अपने यहाँ, 100% असली आखिर कुछ है भी?

चित्र

नरेन्द्र मोदी हैकर्स और फ़िशर्स में भी खासे लोकप्रिय!

चित्र
अब, ये तो तयशुदा बात है कि हैकर्स और फ़िशर्स मनमोहन सिंग को नहीं जानते थे, या फिर उन्हें जानने में रूचि नहीं थी. परंतु नरेन्द्र मोदी के मामले में मामला जरा उलटा है.आज मेरे पास ये ईमेल आया. पक्का नाईजिरियन टाइप फ़िशिंग ईमेल.और, देखिए, कि प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी का नाम, जाल के रूप में कैसे फेंका गया है -आप पूछेंगे कि ये मैं कैसे कह सकता हूँ कि ये जेनुइन ईमेल नहीं है, और फ़िशिंग ईमेल है. तो एक तो इसकी भाषा फिशिंग की टिपिकल भाषा है तथा दूसरी यह कि यह मेरे एक डंप पड़े पुराने याहू केईमेल पते पर आया है जिसका स्पैम फ़िल्टर उतना ही पुराना, सड़ियल किस्म का है जितना पुराना यह ईमेल सेवा है.

फ़ेसबुक के धकाधक उपयोग करने के फायदे...

चित्र
जल्द ही धरती मानव रहित हो जाएगी :)

हाँय! तो, क्या मैं अब तक अघोषित नॉन-वेजिटेरियन था?

चित्र
और नहीं तो क्या! अलबत्ता, यदि आपने अब तक कोई कैप्सूल नहीं निगला हो तो बात दूसरी है. पर, फिर, जो पोलियो वैक्सीन आपने पिया-पिलाया होगा, वो भी मृत जंतु के अवशेष ही हैं! (आदि, आदि...)

भारतीयों को किन किन चीजों से प्रतिबंधित कर दिया जाना चाहिए?

चित्र
सबसे पहले तो भारतीयों को सड़कों पर वाहन चलाने से प्रतिबंधित कर देना चाहिए!

कार का तो ठीक है श्रीमान, यार दोस्त परिवार और पाठकों के लिए कुछ है क्या?

चित्र
और, आपने क्या सही समझा कि मैं क्या कह रिया हूँ? एब्सल्यूटली नो ऑफेंस टू एनी वन!

भाइयों, बहनों! वजन घटाना है? फ़ेसबुक-2 खेलो!!

चित्र
वैसे भी फेसबुक पोस्टों से लोगों का वजन जनता को दन्न से पता लग जाता है!! और बहुत से लोग यहां हल्के हो लेते हैं 

तो फिर, विंडोज १० को केवल बच्चे ही उपयोग में ले पाएंगे...

चित्र
और हम सब बड़े, बुजुर्गों के लिए लिनक्स और एंड्रॉयड है ना!

मुझे बखूबी मालूम है कि आप डिप्रेशन में हैं...

चित्र
और आपको इलाज की जरूरत है!

अब केवल स्मार्ट चड्ढी आना बाकी है

चित्र
सब कुछ तो स्मार्ट हो गया, तो फिर इसे भी तो स्मार्ट हो जाना चाहिए कि नहीं?

ये ल्यौ... इब इंटरनेट में भी जातिवाद, अमीरी-गरीबीवाद आ ग्या!

चित्र
भाई, इसकी तो बहुत जरूरत भी थी हम जैसे गरीबों को!

एंड्रायड के लिए असली माइक्रोसॉफ़्ट वर्ड ऐप्प - हिंदी वालों के लिए क्या?

चित्र
माइक्रोसॉफ़्ट ऑफ़िस एंड्रायड मोबाइल / टैबलेट के लिए कुछ समय पहले जारी किया गया है. गूगल प्ले स्टोर पर माइक्रोसॉफ़्ट वर्ड से सर्च करते हैं तो इसके ऐप्प का विवरण कुछ इस तरह से आता है -और विवरण देखते हैं - वाह! यह तो बढ़िया विवरण दिखा रहा है. अपने मोबाइल में माइक्रोसॉफ़्ट वर्ड की सुविधा! क्या बात है!!चलिए, इंस्टाल कर ही लेते हैं. इंस्टाल करने के बाद इसका आइकन अलग अलग दिखता है - वर्ड, एक्सेल आदि का हर एक का अलग. जो जरूरत हो इंस्टाल करें, पूरा ऑफिस नहीं. क्योंकि इसका वर्ड का ही डाउनलोड 100 एमबी से अधिक है. और पता नहीं क्यों, दो-तीन बार डाउनलोड 99 प्रतिशत पूरा होने के बाद भी फेल हो जाता था. जैसे भी हो, हमने इंस्टाल कर लिया. अब इसके आइकन पर टच कर इसे चालू करते हैं -ऐप्प को पहली बार चालू करने में कुछ सेटिंग करने में समय लेता है -चलिए, अब कोई दस्तावेज खोलते हैं. अरे! यह क्या? ये तो मेरे यूनिकोड दस्तावेज को डब्बा दिखा रहा है. हद है! पूरा डब्बा ऐप्प है - हम  हिंदी वालों के लिए!!

एक और यात्रा संस्मरण

चित्र
बहुत से लोग यात्रा संस्मरण लिखते हैं. बीहड़ जंगलों में जाते हैं और वहाँ के संस्मरण लिख मारते हैं. कई पश्चिमी, विकसित देशों की यात्रा करते हैं और अमेरिका, पेरिस और स्विटजरलैंड जैसे खूबसूरत देशों के उतने ही खूबसूरत, मगर आधे-अधूरे यात्रा संस्मरण लिखते हैं. आधे-अधूरे का अर्थ वे लोग भली प्रकार जानते हैं जिन्होंने ऐसे देशों के अपने यात्रा संस्मरण लिख मारे हैं. इधर, भारत के बहुत से लोग मलेशिया, सिंगापुर और बैंकाक की यात्राएं करने लगे हैं, मगर उनमें से अधिकांश अपने यात्रा संस्मरण नहीं लिखते. अब भई बहुत सी यात्राएं केवल स्वयं के संस्मरण के लिए भी तो होती हैं, सार्वजनिक लिखने बताने के लिए नहीं, और उनके सार्वजनिक होने पर स्वयं व आसपास के जीव-जगत में तूफान उठ खड़ा होने का डर बना रहता है. बहुत दिनों से मैं भी एक अदद यात्रा संस्मरण लिखने के चक्कर में था. परंतु मेरे साथ बडी विकट समस्या थी. कोई यात्रा हो ही नहीं रही थी. अरसे से मैंने कोई यात्रा ही नहीं की थी. विश्वस्तरीय तो दूर की बात है, स्थानीय, मोहल्ला स्तरीय सम्मेलनों में भी एक अरसे से अतिथि के रूप में मुझे बुलाया नहीं गया तो मेरी यात्रा भी एक अ…

ओह, तो कई और बड़े घोटाले हैं...

चित्र
जिनके राज अभी खुलने बाकी हैं

अपने दिमाग को मारना नहीं चाहते?

चित्र
तो, फौरन से पेश्तर अपना स्मार्टफ़ोन फेंक दें!

रचनाकार अब गूगल प्ले स्टोर पर ऐप्प के रूप में उपलब्ध

चित्र
खुशखबरी!रचनाकारhttp://www.rachanakar.org/    अब गूगल प्ले स्टोर पर ऐप्प के रूप में उपलब्ध हो गया है.गूगल प्ले स्टोर पर आप रचनाकार या rachanakar से सर्च करें और इस ऐप्प को इंस्टाल करें.इस ऐप्प को इंस्टाल करने के बहुत से फायदे नीचे स्क्रीनशॉट से स्पष्ट हो जाएंगे, मगर फिर भी कुछ विशेष आकर्षण हैं -रचनाकार में अब तक प्रकाशित रचनाओं पर एक समग्र दृष्टि रचनाओं को क्रमित (सार्ट करने या छांटने) करने की अतिरिक्त सुविधा नई रचनाएं प्रकाशित होने की सूचना (नोटिफिकेशन) रचनाओं की सूची भिन्न तरीके से देखने की सुविधा पसंदीदा रचनाओं को छांटने का तेज तरीका आदि.. आदि...रचनाकार ऐप्प इंस्टाल करें, और साहित्य की दुनिया में खो जाएँ!यदि आपने अपने मोबाइल या टैबलेट को डिवाइस मैनेजर के जरिए कंप्यूटर से जोड़ रखा है तो आप इस लिंक से भी इस ऐप्प को अपने मोबाइल उपकरण पर इंस्टाल कर सकते हैं -https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.orgऔर हाँ, महत्वपूर्ण बात यह कि इस ऐप्प को तकनीक द्रष्टा के श्री विनय प्रजापति ने बनाया है. उन्हें धन्यवाद.ऐप्प का पहला पेज - जब रचनाकार ऐप्प लोड होता है -दूसरे पृष्ठ …

बधाईयाँ! भारतीय सड़कों पर महाजाम की तैयारी!

चित्र
और, आपको आने वाले समय में सड़कों के ट्रैफिक महाजाम के बीच में से जैसे तैसे आने जाने व लेट या महालेट पहुँचने के लिए शुभकामनाएँ!

अपने स्मार्टफ़ोन में हिंदी में तकनीकी जानकारी पाने के लिए तकनीक द्रष्टा ऐप्प इंस्टाल करें

चित्र
वर्णनतकनीक द्रष्टा एक लोकप्रिय अग्रणी हिंदी ब्लॉग है। इस ब्लॉग के द्वारा लाखों ब्लॉगर्स ब्लॉग, ब्लॉगिंग और ब्लॉग से अच्छी कमाई के करने के विभिन्न तरीक़ों के बारे में सीखते हैं। यह वर्ष २००८ से पुरस्कृत इंटरनेट मार्केटिंग ब्लॉग है। गूगल ब्लॉगर, ब्लॉगर विजेट्स, ऐडसेंस, वर्डप्रेस, डिस्कस कमेंट सिस्टम, यूटूब, फ़ीडबर्नर, ब्लॉगिंग टिप्स, ब्लॉगिंग की प्रमुख ग़लतियाँ, सर्च इंजन ऑप्टिमाइज़ेशन, ऑनलाइन कमाई, हिंदी उपकरण (हिंदी टाइपिंग टूल, फ़ॉन्ट परिवर्तन आदि), पोस्ट सुरक्षा, एंड्रायड ऐप्स, एंड्रॉयड टिप्स एंड ट्रिक्स, सोशल मीडिया, सोशल मीडिया मार्केटिंग, स्मार्टफ़ोन, कम्प्यूटर टिप्स और ट्रिक्स, कम्प्यूटर सॉफ़्टवेयर (जैसे माइक्रोसॉफ़्ट ऑफ़िस, इंडिक इनपुट आदि), तकनीकी गैजेट, ब्लॉग से कमाई इत्यादि के बारे में हज़ारों लेख प्रकाशित कर चुका है और नियमित रूप से प्रकाशित कर रहा है। तकनीक द्रष्टा को इंजीनियर विनय प्रजापति द्वारा स्थापित किया गया व संचालित किया जा रहा है। तकनीक द्रष्टा उन ब्लॉगरों के लिए प्रेरणा स्रोत है जो ब्लॉगिंग करते हैं और प्रोफ़ेशनल ब्लॉगर बनने की इच्छा रखते हैं। जैसे एक पौधे का बीज बोकर उसकी…

डिजिटल इंडिया के जमाने में यह क्या!

चित्र
सरकारी डिजिटल इंडिया विपक्ष की नींद हराम कर ही रहा है, कहीं जनता की नींद हराम न हो जाए!

दुकालू का अंकीय भारत

चित्र
अब आप यदि कन्फ़्यूज़ हो रहे हों, कि ये ‘अंकीय भारत’ क्या बला है, तो, केवल आपके लिए क्लीयर करे दे रहे हैं – दुकालूज़ डिजिटल इंडिया. तो, किस्सा ये है कि जब दुकालू को पता चला कि उसका भारत, उसका अपना भारत, डिजिटल इंडिया बन गया है तो जाहिर है कि वो भी बड़ा खुश हुआ. मारे खुशी के, उसने अपना स्मार्टफ़ोन उठाया और सोशल मीडिया में अपना खुशी वाला स्टेटस अपडेट करना चाहा. मगर ये क्या? उसके स्मार्टफ़ोन ने चेताया कि इंटरनेट अभी बंद है. हद है! ब्रॉडबैंड फिर से बंद. कल ही तो पिछले पंद्रह दिनों से बंद ब्रॉडबैंड ठीक हुआ था. कोई न कोई सरकारी महकमा कोई न कोई प्लान जब देखो तब ले आता है और सड़क को खोद डालता है, जिसके कारण केबल कट जाता है. इन अनवरत किस्म के कामों के चलते पिछले छः महीने में सड़क पर कोई पचासवीं बार खुदाई हुई थी, और कोई उतनी ही बार दुकालू का इंटरनेट ब्रॉडबैंड बंद रहा था. लगता है कि किसी महकमे को कोई नया फंड जारी हुआ है, और अब वो इस फंड को खपाने को इस सड़क का इक्यावनवीं बार पोस्टमार्टम करेगा. यानी अब अगले पंद्रह दिनों के लिए ब्रॉडबैंड फिर से बंद. चलो, कोई बात नहीं. दुकालू ने सोचा, डिजिटल होना…

विशाल लाइब्रेरी में से पढ़ें >

अधिक दिखाएं

---------------

छींटे और बौछारें का आनंद अपने स्मार्टफ़ोन पर बेहतर तरीके से लें. गूगल प्ले स्टोर से छींटे और बौछारें एंड्रायड ऐप्प image इंस्टाल करें.

इंटरनेट पर हिंदी साहित्य का खजाना:

इंटरनेट की पहली यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित व लोकप्रिय ईपत्रिका में पढ़ें 10,000 से भी अधिक साहित्यिक रचनाएँ

हिन्दी कम्प्यूटिंग के लिए काम की ढेरों कड़ियाँ - यहाँ क्लिक करें!

.  Subscribe in a reader

इस ब्लॉग की नई पोस्टें अपने ईमेल में प्राप्त करने हेतु अपना ईमेल पता नीचे भरें:

FeedBurner द्वारा प्रेषित

ऑनलाइन हिन्दी वर्ग पहेली खेलें

***

Google+ Followers

फ़ेसबुक में पसंद करें