रविवार, 31 अक्तूबर 2010

विंडोज़ लाइव राइटर का नया संस्करण 2011 जारी

ब्लॉग लेखन का उन्नत औजार विंडोज़ लाइव राइटर का नया संस्करण 2011 जारी हो गया है. इसमें उन्नत किस्म का रिबन इंटरफेस है तथा इसकी गति पहले से ब...

मंगलवार, 26 अक्तूबर 2010

कौन किसको गंगा में फेंक रहा है - फिंका फिंके को गंगा में फेंक रहा है

गंगा में क्या फेंकें और क्या नहीं? गंगा तो वैसे भी पहले ही घोर प्रदूषित हो रही है. ऊपर से अब राजनेताओं को उसमें फेंकने की बात की जा रही ...

शनिवार, 23 अक्तूबर 2010

इंटरनेट फ्रॉड प्रिवेंशन - फ्रॉड के ऊपर फ्रॉड, बोलो कितने फ्रॉड?

ये मजेदार ईमेल आज मुझे मिला. इंटरनेट फ्रॉड प्रिवेंशन की तरफ से मिलियन डॉलर का कंपनशेसन! फ्रॉड करने वालों, तुस्सी ग्रेट हो. कोई भी संभव-असं...

शुक्रवार, 22 अक्तूबर 2010

फ़ॉन्ट कन्वर्टर अब नए साइट से डाउनलोड/प्रयोग करें

गूगल अपने समूहों से फ़ाइलों की होस्टिंग खत्म कर रहा है . गूगल तकनीकी हिंदी समूह में बहुत सी काम की फ़ाइलें हैं. गूगल तकनीकी हिंदी समूह के फ़...

गुरुवार, 21 अक्तूबर 2010

कुरूपता मापी : नवीन टेक्नोलॉज़ी के नवीन खतरे

नई टेक्नोलॉज़ी के अपने नए-नए खतरे हैं. अलग किस्म के. भयंकर. लीजिए, अब आपके लिए आ गया है कुरूपता मापी. अभी तो यह आईफ़ोन के एप्लीकेशन के रूप...

सोमवार, 18 अक्तूबर 2010

कॉमनवेल्थ खेलों के बाद अब दिल्ली में एशियाड, ओलंपिक और विंटर ओलंपिक भी!

कॉमनवेल्थ खेलों का आयोजन सफलतापूर्वक हो गया. तमाम आरोपों प्रत्यारोपों के बीच आयोजन कई मामलों में अच्छा खासा सफल रहा. एक अकेले 40 करोड़ रुप...

गुरुवार, 14 अक्तूबर 2010

ब्लॉग : आइए, आचार संहिता को मारें गोली!

एक छोटा सा दूरस्थ प्रस्तुतिकरण जो मैंने वर्धा कार्यशाला में दिया था, वह नीचे एम्बेड है, जिसे चलाकर आप देख सकते हैं. स्लाइड में दिए उपशीर्षको...

शनिवार, 9 अक्तूबर 2010

किसी भी ब्लॉग के समस्त प्रविष्टियों की सम्यक सूची कैसे देखें?

बहुत से सुंदर ब्लॉगों में शानदार प्रविष्टियाँ होती हैं, परंतु उनमें नेविगेशन बहुत ही निराशाजनक होता है. आप चाहते हुए भी उनकी पिछली प्रविष्टि...

मंगलवार, 5 अक्तूबर 2010

आपकी हिफ़ाजत कौन कर रहा है?

अपनी स्वयं की हिफ़ाजत के लिए सतर्क हो जाइए. जब शेरों की हिफ़ाजत के लिए कुत्तों को लाइन से हाजिर किया जा रहा है तो आम आदमी की औक़ात क्या?  ...

शुक्रवार, 1 अक्तूबर 2010

तेरे मुल्क में ये क्या हो रहा है, भगवान का बीमा हो रहा है…

भगवान के लिहाज से, प्रीमियम तो सचमुच बड़ा सस्ता है!   व्यंज़ल मेरे मुल्क में ये क्या हो रहा है भगवान का भी बीमा हो रहा है   मुल्क में...

---------------------------------------------------------

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------