संदेश

September, 2010 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

कड़वे आचरण?

चित्र
(समाचार कतरन साभार - पत्रिका)

जालघरों के प्रतीक

चित्र
एक बेहद मनोरंजक, जानकारी परक परियोजना – जालघरों के प्रतीक के बारे में आपको बताते हैं. कोई दस लाख जालघरों के पते एकत्र किए गए जो अलेक्सा के शीर्ष अनुक्रम में आते हैं. फिर उन जालघरों के फ़ेविकॉन (जालघरों के प्रतीक चिह्न जो आप ब्राउज़र में पता पट्टी के बाजू में देखते हैं – जैसे कि ब्लॉगर का है ) को एकत्र कर उनकी रैंकिंग के लिहाज से एक मोजाएक का रूप जटिल प्रोग्राम व स्क्रिप्ट के जरिए दिया गया. फलस्वरूप बना एक बढ़िया पोस्टर. देखें -आप देखेंगे कि गूगल का प्रतीक सबसे बड़ा है. फिर फेसबुक का नंबर है. याहू, विकिपीडिया, यू-ट्यूब, एमएसएन पीछे पीछे हैं.उपर्युक्त चित्र को बड़े आकार में यहाँ देख सकते हैं.रंग-बिरंगे, चित्र-विचित्र प्रकार के जाल स्थलों के उतने ही रंगीन, चित्र-विचित्र प्रतीक चिह्नों को एक साथ देखना भी एक अलग अनुभव है.इसका इंटरेक्टिव संस्करण यहाँ है जहाँ से आप इस 1.4 गीगा-पिक्सेल के विशाल पोस्टर में जूम इन कर पैन कर इसका विस्तृत नजारा कर सकते हैं. एक छोटे टुकड़े का जूम किया हिस्सा मुझे कुछ यूं दिखा -और, आपको ज्यादा ही मजा आया हो तो इसका पोस्टर खरीदने हेतु अपना ईमेल पता भी वहाँ पर दर्ज …

अंग्रेज़ों, वापस भारत आओ!

चित्र
दुनिया, सचमुच गोल है. नहीं?
---
अब, रूबिक क्यूब से भी बढ़िया एक उलझन-सुलझाऊ पहेली. चित्र में दिखाए गए स्टीरिओ हेडफोन को आप तारों के जंजाल में से जल्दी से जल्दी कितनी जल्दी निकाल बाहर कर सकते हैं?
और हाँ, ध्यान रखें, कोई जादूगिरी नहीं चलेगी!

हिंदी में लिखने का एक और बढ़िया औजार – विशाल मोनपारा का प्रमुख टाइपपैड

चित्र
यूँ तो गूगल ट्रांसलिट्रेशन ने यूनिकोड हिंदी लिखना बेहद आसान बना दिया है, मगर सिर्फ चंद लाइनें ही लिखनी हो तब. यदि आप लंबे लेख और उपन्यास लिखने की सोच रहे हैं वो भी कठिन और युग्म शब्दों में, तो गूगल का हिंदी लेखन औजार आपको नानी याद दिला देगा. इस लिहाज से इनस्क्रिप्ट आईएमई का कोई मुकाबला नहीं. दूसरे नंबर पर आता है आईएमई हिंदी टाइपराइटर रेमिंगटन. मगर क्या करें, जनता को आसान विकल्प – फ़ोनेटिक ही पसंद आता है.

इस लिहाज से हिंदी (तथा अन्य भारतीय भाषा में) लेखन के फ़ोनेटिक औजारों में विशाल मोनपारा के बनाए गए कुछ औजार बेहद काम के हैं.

1. प्रमुख आईएमई (डाउनलोड कड़ी) – 500 केबी का यह औजार एक एक्जीक्यूटेबल फ़ाइल में आता है, जिसे इंस्टाल करने की आवश्यकता नहीं. इसे डाउनलोड कर किसी भी डिरेक्ट्री/फोल्डर से डबल क्लिक कर चलाएँ अथवा स्टार्टअप में डाल दें. इसे चलाने पर सिस्टम ट्रे में आइकन बन जाता है जिसे क्लिक कर टॉगल कर हिंदी में लिख सकते हैं. इस टूल के जरिए फ़ोनेटिक हिंदी में (जैसे कि कमल के लिए kamala, कमला के लिए kamalaa तथा कमाल के लिए kamaala ) विंडोज के किसी भी प्रोग्राम/ब्राउजर के इन…

फ़ोर फ़िगर सब्सक्राइबरों की ओर छलांग लगाते हिंदी चिट्ठे

चित्र
एक हजार नियमित पाठक वाले हिंदी चिट्ठों से किसी भी चिट्ठाकार को जलन हो सकती है. हिंदी ब्लॉगिंग का एक नया मील का पत्थर जल्द ही रखा जाने वाला है. कुछ चिट्ठों के नियमित सब्सक्राइबरों की संख्या जल्द ही हजार से पार होने वाली है! याहू!

हजारी ग्राहक पाठक संख्या में जल्द ही पहुँचने वाला है चिट्ठा - शब्दों का सफर. वर्तमान में(15 सितम्बर 2010 की स्थिति में) नियमित पाठक संख्या 977. नियमित पाठकों के हजार के आंकड़े तक पहुँचने में कुछ ही पाठकों और कुछ ही दिनों की देरी. किसी भी हिंदी चिट्ठे के लिए आज  के लिहाज से बेहद महत्वपूर्ण उपलब्धि.


(शब्दों का सफर के नियमित फ़ीड पाठक)

इधर साथ साथ ही है उत्तरांचल. शानदार (15 सितम्बर 2010 की स्थिति) 968 नियमित पाठक संख्या. किसी भी दिन आंकड़ा हजारी हो सकता है.  उत्तरांचल की एक पोस्ट (लिंक?) को वैसे भी सर्वकालिक सर्वाधिक बार पढ़ा जाने वाला चिट्ठाप्रविष्टि का दर्जा प्राप्त है. तीनेक साल पहले, तब जब हमारे चिट्ठों के पाठक बमुश्किल दर्जन भर लोग होते थे, इस पोस्ट को पढ़ने और टिपियाने वाले हजार से पार हो चुके थे!


(उत्तरांचल के नियमित फ़ीड पाठक)

मेरे अपने सुनिश्चित विचार म…

इलेक्ट्रॉनिक माध्यमों में हिंदी – यह किशोरी हिंदी अल्हड़ है और चुलबुली भी

चित्र
दैनिक भास्कर ने 14 सितंबर 2010 हिंदी दिवस पर 24 पृष्ठों का एक राष्ट्रीय विशेषांक निकाला था. यह एक अलग किस्म की, संग्रहणीय पहल रही. उक्त विशेषांक में हिंदी के तमाम दिग्गजों के बीच एक अदने से हिंदी ब्लॉगर (मेरा) का भी एक आलेख छपा है. पढ़िए वह आलेख: मनुष्य जब जन्म लेता है तो वो रो कर दुनिया को अपने वजूद का अहसास दिलाता है. दुनिया को अपने वजूद का अहसास दिलाने का उसका यह प्रयास उसके महाप्रयाण तक नित्य, निरंतर जारी रहता है. हर माकूल जगह पर वो अपने विचारों को परोसने के लिए सदैव तत्पर रहता है. धन्य है आज की टेक्नोलॉज़ी दुनिया – इस काम के लिए उसके पास आज मोबाइल है, इंटरनेट है. मोबाइल और कंप्यूटिंग टेक्नोलॉज़ी ने भाषाई दीवारों को ढहाने में ग़ज़ब का काम किया है. आप किसी का भी – जी हाँ, किसी भी हिंदी भाषी व्यक्ति का मोबाइल उठाकर उसके संदेश बक्से में झांक लें. आपको अधिकतर ऐसे एसएमएस मिलेंगे जो रोमन हिंदी में लिखे होंगे. यूँ रोमन हिंदी को पढ़ने में कठिनाई होती है और कभी कभार अर्थ का अनर्थ भी हो जाता है, मगर मोबाइलों में हिंदी लिखने की अंतर्निर्मित सुविधा न होने पर भी लोग धड़ल्ले से रोमन लिपि में …

विरोधाभास की पराकाष्ठा – हिंदी दिवस पर हिंदी भवन सेल!

चित्र
यह है कल (14 सितंबर हिंदी दिवस) के अखबारों में जोर शोर से दिए गए विज्ञापन की कटिंग -यह तो था भोपाल के हिंदी भवन का हाल. आपके अपने शहरों के हिंदी/तमिल/गुजराती/मराठी इत्यादि-इत्यादि भवनों के क्या हाल हैं?

आपके लिए हिन्दी दिवस विशेष सौगात – शानदार मुफ़्त अंग्रेज़ी-हिंदी-अंग्रेजी शील की डिक्शनरी

चित्र
वैसे तो ढेरों अंग्रेज़ी हिंदी / हिंदी अंग्रेज़ी शब्दकोश अब हमारे ऑनलाइन व ऑफलाइन उपयोग के लिए उपलब्ध हैं, मगर यह डिक्शनरी अपने आप में अलग है.
इसमें अंग्रेज़ी से हिंदी व हिंदी से अंग्रेज़ी दोनों में ही दुतरफा शब्दकोश की सुविधा है. कोई 27 हजार शब्दों के अर्थ इसमें समाहित हैं. स्थापना में आसान है, विंडोज एक्सपी से लेकर विंडोज 7 (एडमिन के रूप में चलाएँ) तक सभी में बढ़िया काम करता है.



हिंदी में जो लोग कृतिदेव फ़ॉन्ट का प्रयोग करते हैं, वे सीधे इसके सर्च विंडो में कृतिदेव फ़ॉन्ट से हिंदी – अंग्रेज़ी शब्दकोश का फायदा उठा सकते हैं. यूनिकोड के प्रयोक्ताओं को यहाँ निराशा हाथ लगेगी. साथ ही इनस्क्रिप्ट टाइपिंग वाले भी इसे प्रयोग करने में दिक्कत महसूस करेंगे. मगर, आप स्क्रॉल कर माउस के जरिए अथवा माउस क्लिक कर शब्दकोश का उपयोग कर सकते हैं. नेविगेशन आसान है और ऑन द फ्लाई (आप जैसे जैसे टाइप करते हैं, सर्च रीयल टाइम में स्वतः और शीघ्र बदलता है) बड़ी तेजी से काम करता है.
इसके टूलबार में दिए गए विकल्प के जरिए आप नए शब्द जोड़ सकते हैं, किसी प्रविष्टि को परिवर्धित कर सकते हैं अथवा हिंदी-अंग्रेज़ी मोड से अ…

लीजिए, पेश है हिंदी का पहला स्पैम कमेंट!

चित्र
हिंदी ब्लॉगों में वैसे तो नाइस, बढ़िया लिखा है, स्वागत है, सुंदर इत्यादि कमेंट स्पैम की श्रेणी में ही आते हैं, मगर अगर इन्हें नजर अंदाज नहीं किया गया तो ब्लॉगों में टिप्पणियों का अकाल ही हो जाएगा.जो चिट्ठाकार बंधु वर्डप्रेस पर अपने स्वयं के डोमेन पर ब्लॉग चलाते हैं वे स्पैम कर्मा के आंकड़े जानते होंगे कि अंग्रेजी व नामालूम – चीनी जैसी भाषाओं के कितने हजार स्पैम कमेंट अब तक ब्लॉग पोस्टों पर आने से रोक दिए गए हैं. ब्लॉगर का स्पैम कमेंट रोकने का सिस्टम अभी और तगड़ा बनाया गया है और स्पैम कमेंटों को मॉडरेट करने की ताजी सुविधा अभी हाल ही में जोड़ी भी गई है.इसके बावजूद यदा कदा कोई न कोई स्पैम कमेंट फिल्टरों की छन्नी से निकल कर जेनुइन कमेंट के रूप में चला आता है. ऐसी ही एक टिप्पणी मेरी आवक डाक में आई. उसकी हिंदी थोड़ी खिसकी हुई थी. मुझे पहले लगा कि मेरा कोई दक्षिण भारतीय ब्लॉग प्रेमी होगा, जो आड़ी तिरछी हिंदी में अपना संदेश मुझ तक पहुँचाना चाहता है. मगर उसके यूजर नेम से थोड़ी आशंका हुई. संदेश निम्न था -चैट ने आपकी पोस्ट " सॉफ़्टवेयर मुक्ति दिवस और हिन्दी पखवाड़ा पर हिन्दी... " पर एक…

हिंदी के एकमात्र पूर्णकालिक ब्लॉगर शैलेश भारतवासी का जीवंत साक्षात्कार - देखिए तकनीकी दुनिया से साहित्यिक संसार के चुनौतीभरे उनके सफर की रोमांचक दास्तां

इलेक्ट्रानिकी एवम् संचारिकी में बी.टेक. शैलेश भारतवासी अपने आप को हिंदी के एकमात्र पूर्णकालिक ब्लॉगर कहलाना पसंद करते हैं. शैलेश को हिंदी ब्लॉगिंग का पर्याय कहना अनुचित नहीं होगा. उन्होंने 2007 में जब हिंदी में ब्लॉगिंग की शुरूआत की थी, तो उस वक्त उन्होंने सोचा नहीं होगा कि हिंदी ब्लॉगिंग को वे पूर्णकालिक प्रोफ़ेशन का रूप दे देंगे. शैलेश भारतवासी ने अपने ब्लॉगिंग प्रकल्प हिंद-युग्म के जरिए हिंदी ब्लॉगिंग को एक तरह से री-डिफ़ाइन किया है, और तमाम संभावनाएँ न सिर्फ तलाशी हैं, उनके कमर्शियल वायेबिलिटी की ओर पुख्ता कदम भी रखे हैं. हिन्द युग्म के बैनर तले तमाम नायाब और बड़े काम हुए हैं, और आगे बहुत सी नई योजनाएँ पाइपलाइन में हैं. हिंदी ब्लॉगिंग के उज्जवल भविष्य के प्रति शैलेश भारतवासी पूरी तरह आश्वस्त हैं और बताते हैं कि आने वाले समय में और भी बहुत से पूर्णकालिक हिंदी ब्लॉगर आएंगे जिनकी आजीविका का बढ़िया साधन हिंदी ब्लॉगिंग होगी. नीचे दिए यूट्यूब वीडियो में देखिए उनका दिलचस्प साक्षात्कार

विशाल लाइब्रेरी में से पढ़ें >

अधिक दिखाएं

---------------

छींटे और बौछारें का आनंद अपने स्मार्टफ़ोन पर बेहतर तरीके से लें. गूगल प्ले स्टोर से छींटे और बौछारें एंड्रायड ऐप्प image इंस्टाल करें.

इंटरनेट पर हिंदी साहित्य का खजाना:

इंटरनेट की पहली यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित व लोकप्रिय ईपत्रिका में पढ़ें 10,000 से भी अधिक साहित्यिक रचनाएँ

हिन्दी कम्प्यूटिंग के लिए काम की ढेरों कड़ियाँ - यहाँ क्लिक करें!

.  Subscribe in a reader

इस ब्लॉग की नई पोस्टें अपने ईमेल में प्राप्त करने हेतु अपना ईमेल पता नीचे भरें:

FeedBurner द्वारा प्रेषित

ऑनलाइन हिन्दी वर्ग पहेली खेलें

***

Google+ Followers

फ़ेसबुक में पसंद करें