January 2010

एक पद्म पुरस्कार जो मुझे मिलते-मिलते रह गया!

जैसे ही मुझे पता चला कि मेरा नाम भी इस वर्ष दिए जाने वाले पद्म पुरस्कारों की सूची में है, मेरे पैरों तले धरती खिसक गई. दिल बैठ गया. वल्ला...

लिनक्स में बीएसएनएल ईवीडीओ कार्ड से इंटरनेट कैसे कनेक्ट करें?

यह रही त्वरित गाइड - (उबुन्टु के नवीनतम संस्करण के लिए) 1 –यदि आपके लिनक्स तंत्र  में केपीपीपी संस्थापित नहीं है तो कमांड दें (रूट यूजर के...

अपग्रेड ऑर नाट टू अपग्रेड?

वैसे भी, कहावत है कि किसी चलती चीज को न छेड़ें. तो, जब आपका कम्प्यूटर अच्छा भला चलता होता है, किसी तरह की कोई दिक्कत नहीं आती होती है तो ...

जहाँ डाल-डाल पर भ्रष्ट कोड़े करते हैं बसेरा वो भारत देश है मेरा

कल से स्पीकर पर चारों ओर से देश भक्ति पूर्ण गाने बज रहे हैं. एक गाना बारंबार बज रहा है – जहाँ डाल-डाल पर सोने की चिड़िया… सुन सुन कर कोफ़...

लीजिए, पेश है आल लैंग्वेज टू मराठी कन्वर्टर प्रोग्राम एंड गॅजेट

महाराष्ट्र में जैसे ही हल्ला मचा कि टैक्सी ड्राइवरों के लिए मराठी बोलना अनिवार्य होने जा रहा है, हर ओर हल्ला मच गया. मचना ही था. टैक्सी ड...

यदि मेरा ब्लॉग नहीं होता तो हार्पर कोलिन्स मुझे घोड़े के लीद से ज्यादा कुछ नहीं समझते…

यह कहना है (फ़ेक आईपीएल प्लेयर - FIP) नक़ली इंडियन प्रीमियर लीग खिलाड़ी का. सीजन 3 की पूरी तैयारी है. क्या  FIP अपनी अगली ब्लॉग पारी के ल...

फ़िफ़्टीन सेकण्ड्स ऑफ़ फ़ेम – सीजन 2 : रविरतलामी का साक्षात्कार वेब-नी-टेक पर!

माना कि वेब-नी-टेक ( http://webneetech.com ) कोई न्यूयॉर्क टाइम्स (जैसी बड़ी साइट) नहीं है, मगर मैं भी कौन सा बड़ा बिग ब्लॉगर हूं? जो भी ...

मां, मुझे भी आइंस्टाइन के जैसा दिमाग दिलवा दे...

जब दिमाग बँट रहा था, तब आप कहाँ चले गए थे? कई मर्तबा आपको ये ताना सुनने में आया होगा. मगर अब गम खाने की कोई बात नहीं. आने वाले समय में आप...

आख़िर, कौन किसके चंगुल में है?

मियाँ मनमोहन, अब जरा ये भी तो बता दें कि आख़िर आप किसके चंगुल में हैं?   -- व्यंज़ल   क्या फ़र्क कौन किसके चंगुल में है जनता ...

नए साल के नए संकल्पों के आपकी राहों के रोड़े

नए साल में हम-आप एक से बढ़िया एक संकल्प लेते हैं. पर, क्या करें, इन संकल्पों की राह में इतने ही या इससे भी बढ़िया रोड़े चहुँ-ओर से चले आते ...

हिन्दी पीडीएफ़ फ़ाइलों को यूनिकोड वर्ड डाक्यूमेंट में कैसे बदलें?

नेट पर और अन्यत्र बहुत सी सामग्री पुराने हिन्दी फ़ॉन्टों (जैसे कि कृतिदेव तथा चाणक्य में) में पीडीएफ़ के रूप में उपलब्ध है. इसे यूनिकोड फ़ॉन...