संदेश

November, 2009 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

विंडोज 7 में हिन्दी में काम कैसे करें?

चित्र
ठीक है, हर तरफ विंडोज 7 की चर्चा है, यह विक्रय के नए कीर्तिमान चहुँओर स्थापित कर रहा है, और आपके नए नवेले कम्प्यूटर पर भी विंडोज 7 आया हुआ है. सवाल ये है कि इसमें हिन्दी में काम कैसे करें?





विंडोज 7 में हिन्दी कुंजीपट कैसे इनेबल करें?

यह बेहद आसान है. विंडोज एक्सपी की तरह आपको हिन्दी कुंजीपट इंस्टाल करने के लिए अलग से इसके इंस्टालेशन सीडी इत्यादि की आवश्यकता नहीं होगी. विंडोज 7 में हिन्दी का अंतर्निर्मित समर्थन है. हिन्दी कुंजीपट इसमें पहले से ही इंस्टाल रहता है. इसे लागू करने के लिए आपको निम्न चरण अपनाने होंगे –

प्रोग्राम मेन्यू > कंट्रोल पैनल > में क्लिक करें, फिर नए विंडो में एडजस्ट योर कम्प्यूटर सेटिंग विंडो पर क्लिक करें. वहाँ पर क्लॉक, लैंगुएज, रीजन पर क्लिक करें तथा रीजन एंड लैंगुएज पर क्लिक करें. यहाँ आपको बहुत से विकल्प मिलेंगे. यहाँ पर चेंज कीबोर्ड आर अदर इनपुट मैथड को चुनें. एक नया विंडो खुलेगा जहाँ चेंज कीबोर्ड बटन पर क्लिक करें.







अब टैक्स्ट सर्विस एंड इनपुट लैंगुएजेस विंडो पर एड बटन पर क्लिक करें. आपके सामने एक नया विंडो प्रकट होगा – एड इनपुट लैंगुएज’ जिसमे…

मैं गरीब हूँ, बहुत गरीब

चित्र
अब तक तो घरों के सामने नाम-पट्ट टंगता था, घरों के नाम या उसका अता-पता – गली, मोहल्ले, मकान का नंबर इत्यादि टंगता था. अब आदमी की अमीरी-गरीबी टंगा करेगी.यदि आप गरीब हैं, तो अब आपको अपने घर पर लिख कर ये टाँगना पड़ेगा – ‘मैं गरीब हूं’. अभी तो ‘मैं गरीब हूं’ टंग रहा है. कल को मैं महा-गरीब हूँ, मैं महा-महा गरीब हूं, मैं बिलकुल फटीचर हूँ इत्यादि टंगने के फरमान आएंगे. आखिर सरकार गरीबों को कैसे पहचान पाएगी कि वो गरीब है जब तक कि उसके घर में ये टंगा, लिखा न मिले कि वो गरीब है. बहुत पहले खबर आई थी कि किसी जनप्रतिनिधि के पास बीपीएल कार्ड था. बीपीएल यानी बिलो पावर्टी लाइन. यानी गरीब से भी नीचे. इसके लिए कोई खालिस शब्द भी नहीं है. अपना शब्द भंडार भी इस मामले में कंगाल है. ऐसे लोगों के घरों पर क्या लिखा जाएगा? फिर, जल्द ही इसके उलट, ‘मैं अमीर हूं’, या ‘मैं महा अमीर हूं’, या फिर ‘मैं भारत का या दुनिया का सबसे अमीर हूं’ यह भी टंगने लगेगा. वैसे, अप्रत्यक्ष रूप से तो यह टंगने भी लगा है.और, गरीबी की परिभाषा, उसका लेवल क्या है? मैं अपनी बात करूं तो मैं अंबानीज़, टाटाज़ के सामने तो महागरीब, महा फटीचर हूं. …

ब्लॉगर्स पार्क में आपका स्वागत है...

चित्र
लोग-बाग़ भले ही ट्विटर और फेसबुक के कसीदे पढ़ लें, मगर, ब्लॉगिंग इज़ स्टिल इन थिंग. और, अब जब हर संभव विषय पर हर लेवल का कैपेबल व्यक्ति अपने-अपने ब्लॉग पर हर किस्म का मसाला परोसने लग गया है तो उसमें से छांट-बीन कर कुछ माल-मसाला लेकर प्रिंट मीडिया की एक बढ़िया कलेवर वाली पत्रिका निकाल लें तो?ब्लॉगर्स पार्क पत्रिका में यही किया गया है. ब्लॉगर्स पार्क के दूसरे अंक की मानार्थ प्रति मुझे अभी हाल ही में मिली और इसके पन्ने पलटते हुए अजीब खुशनुमा अहसास हो रहा है कि चलिए, सिर्फ और सिर्फ ब्लॉगों में पूर्व प्रकाशित सामग्री से – पोस्ट व पोस्ट की टिप्पणियों समेत, एक संपूर्ण पत्रिका भारत में, वह भी भोपाल से, बाजार में बिक्री के लिए नियमित प्रकाशित होने लगी है. ब्लॉगर्स पार्क की दूसरी ख़ूबी यह है कि यह द्विभाषी है – पत्रिका अंग्रेज़ी व हिन्दी दोनों में ही है – यानी इसमें अंग्रेज़ी व हिन्दी ब्लॉगों की सामग्री प्रकाशित की गई है. अलबत्ता इसकी सारी सामग्री स्क्रेचमाईसॉल.कॉम के ब्लॉगों से ली गई है.जाहिर है, ब्लॉगर्स पार्क को स्क्रेचमाईसॉल.कॉम समूह द्वारा जारी किया गया है जो कि प्रयोक्ताओं को नेट पर वर्डप…

बता, तेरा धर्म क्या है बे?

चित्र
जनता जब ज्यादा ही चिल्लाने लगी कि मेरा धर्म तेरे धर्म से ज्यादा सफेद तो बात चाँद पर भी पहुँच गई और आखिर इंस्पेक्टर मातादीन* से रहा नहीं गया तो धरती पर आकर निकल पड़ा जेबी झूठ पकड़ने की मशीन और सच उगलवाने का नार्को टैस्ट में काम आने वाला सीरम-इंजैक्शन लेकर. अब तो जनता से उसका सही धर्म उगलवाना ही पड़ेगा.वो अभी निकला ही था कि सामने ट्रैफ़िक जाम मिला. पता चला कि किसी वीवीआईपी नेता के काफ़िले के लिए ट्रैफ़िक रोका गया है. अब वो तो सुपर कॉप इंस्पेक्टर मातादीन था. उसने अपना डंडा अड़ाया और वीवीआईपी नेता को रोका. उससे बोला – महामहिम, मेरे कन्ने ये झूठ पकड़ने की मशीन भी है और ये नार्को टेस्ट वाला इंजेक्शन. इधर धर्म के नाम पर दुनिया में बड़ा बावेला मच रहा है, दंगे-फ़साद हो रहे हैं, कर्मकाण्ड-जेहाद हो रहे हैं. तो, मेहरबानी होगी, अब आप सच-सच बता दें कि आपका धर्म क्या है?वीवीआईपी नेता पसीने पसीने हो गया. उसकी जुबान से अबतक, जब से वो नेता बना था कभी सच तो निकला ही नहीं था. पर उसे पता था कि जुबान से सच तो निकलना ही है – चाहे झूठ पकड़ने की मशीन से चाहे सच उगलवाने के इंजेक्शन से. तो वो सचमुच में सच बयान …

प्रोफ़ेशनल ब्लॉगर बनें! ब्लॉगिंग से कमाई के लिए यूनीक टेक्नीकल ट्रेनिंग!

चित्र
बी योर ओन बॉस. जीवन भर के लिए मंदी-प्रूफ़ कैरियर. यह सब और बहुत कुछ. नीचे का विज्ञापन (डीबीस्टार भोपाल के 9 नवंबर के अंक में प्रकाशित) जरा खुदै बांच लें -



और, यदि लगता है कि इससे मामला कुछ बन(-बिगड़?) सकता है या फिर आजमाना चाहते हैं, तो आपका स्वागत है.
आप हमारी बात पूछेंगे, तो हम कहेंगे भई – ऐसे खतरनाक विज्ञापनों से बचा….ओ!!!

चिट्ठाचर्चा की एक हजार एक वीं पोस्ट तो गब्बर पहले ही लिख चुका है!

चित्र
पता चला है कि चिट्टाचर्चा की हजारवीं पोस्ट आई है. पर, एक हजार एक वीं पोस्ट तो चिट्ठाजगत् का गब्बर पहले ही लिख चुका है.  तो गब्बर की चर्चा आप पढ़ना नहीं चाहेंगे?गब्बर - अरे ओ सांभा
सांभा - जी, सरकार...ग.- तो कितने हिन्दी चिट्ठाकार हैं? सां.- जी, सरकार पांच सौ...ग.- और दिन में कितने चिट्ठे चर्चा के लिए आ जाते हैं?
सां.- जी, सरकार, यही कोई पंद्रह बीस...ग.- और तू पंद्रह-बीस चिट्ठों की भी ढंग से चर्चा नहीं कर पाता. ऊपर से बहाने बनाता है कि चिट्ठों पर ताला लगा है? बहूत नाइंसाफी है ये बहूत नाइंसाफ़ी. सां.- सरकार,...ग.- और क्यों क्या तेरे कन्ने कोई और काम धाम नईं था क्या जो तू बेमतलब और फ़ालतू चिट्ठाचर्चा लिख-लिख कर तमाम जनता को बोर करता फिरता है?
सां.- जी, सरकार...ग.- उदर ये भासा ऊसा का क्या चक्कर है? कबी तू बंगाली मोशाय बनके लीखता होय, कबी तू मद्रासी बोन जाता है, कबी तू कविता करता है और कबी तू फ़ोकट का कुंडलियां तो कबी व्यंज़ल मारता है? कबी तू मध्याह्न में आ जाता है तो कबी फुरसत में लिखता बेठा रहेता है और कबी हैदराबादी तो कबी कुवैती बानी बोलता है. तो क्या तू पूरे देस-परदेस में घुमत…

सीखें एमएस ऑफ़िस 2003/2007 ऑनलाइन हिन्दी में

चित्र
नेट पर हिन्दी सामग्री का बाजार अब तेजी की ओर है. माइक्रोसॉफ़्ट द्वारा अपने बेहद लोकप्रिय उत्पाद ऑफ़िस 2003/ 2007 को हमारी अपनी हिन्दी भाषा में ऑनलाइन सिखाने के लिए हिन्दी भाषा में प्रशिक्षण पाठ पिछले कुछ समय से उपलब्ध करवाया गया है. इसका होम पेज यहाँ है.ऑनलाइन प्रशिक्षण में चरणबद्ध तरीके से चित्रों व स्क्रीनशॉटों के जरिए हिन्दी भाषा में बढ़िया प्रशिक्षण तैयार किया गया है जिसमें आपको वर्ड, एक्सेल, पावरपाइंट, आउटलुक इत्यादि पर प्रशिक्षण प्राप्त कर सकते हैं.हालाकि हिन्दी प्रशिक्षण पाठ की भाषा बड़ी ही अजीब प्रतीत होती है, क्योंकि अनुवाद सीधा और सपाट सा, यंत्रचालित प्रतीत होता है. वर्तनी की गंभीर किस्म की गलतियाँ हैं. फिर भी, प्रशिक्षण का सार ग्रहण करने में समस्या तो नहीं ही होती और उम्मीद करते हैं कि  भविष्य में भाषा भी परिष्कृत कर ली जाएगी. भाषा का एक नमूना देखें -पहली बार देखने पर, आप शायद Word के पिछले संस्करण से कोई निश्चित आदेश नहीं देखेगें. क्षुब्ध न हों. कुछ समूहों में निचले-दाँए कोने में छोटा डायगोनल तीर है .तीर, संवाद बॉक्स लॉन्चर कहलाता है. यदि आप उसे क्लिक करेंगे, तो आप समूह से…

एमपी3 व अन्य मीडिया फ़ाइलों को ऑनलाइन प्ले हेतु नेट पर अपलोड करने का बढ़िया, आसान तरीका

लाइफ़लागर के तंबू उखड़ने और ई-स्निप जैसी सेवा के भरोसेमंद नहीं रहने के कारण इलाहाबाद राष्ट्रीय संगोष्ठी के तकनीकी सत्र में इरफ़ान ने जब यह प्रश्न किया कि एमपी3 फ़ाइलों को इंटरनेट पर लोड करने का बढ़िया तरीका क्या है तो अफ़लातून ने अपने स्वयं के अनुभवों को वहाँ पर साझा किया कि एमपी3 फ़ाइलों को बेहतर तरीके से नेट पर कैसे अपलोड किया जा सकता है.

आपके लिए एक और बढ़िया विकल्प है - आर्काइव.ऑर्ग पर मीडिया फ़ाइलों को अपलोड करने का. आर्काइव.ऑर्ग के साथ ख़ूबी यह है कि यह कोई निजी कंपनी नहीं है, बल्कि यह अनुदान प्राप्त संस्था है जो कि नेट की सामग्री को अपने सर्वरों पर भंडारित करते रहती है. मीडिया फ़ाइलों को आप आसानी से भंडारित कर सकते हैं सदा सर्वदा के लिए, और इसके तंबू उखड़ने या सेवाओं को बन्द करने, खत्म करने, सीमित करने जैसी संभावना यहाँ अत्यंत क्षीण हैं. (कॉपीराइट वस्तुओं का ध्यान तो ख़ैर रखना ही होगा.)

आर्काइव.ऑर्ग पर एमपी3 फ़ाइलें ऑनलाइन प्लेयर हेतु अपलो़ड करना अत्यंत आसान है. इसकी विधि निम्न है -

अपने एमपी3 फ़ाइल को http://archive.org पर अपलोड करें. यदि आपने अपना खाता नहीं बनाया हो तो वहा…

विशाल लाइब्रेरी में से पढ़ें >

अधिक दिखाएं

---------------

छींटे और बौछारें का आनंद अपने स्मार्टफ़ोन पर बेहतर तरीके से लें. गूगल प्ले स्टोर से छींटे और बौछारें एंड्रायड ऐप्प image इंस्टाल करें.

इंटरनेट पर हिंदी साहित्य का खजाना:

इंटरनेट की पहली यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित व लोकप्रिय ईपत्रिका में पढ़ें 10,000 से भी अधिक साहित्यिक रचनाएँ

हिन्दी कम्प्यूटिंग के लिए काम की ढेरों कड़ियाँ - यहाँ क्लिक करें!

.  Subscribe in a reader

इस ब्लॉग की नई पोस्टें अपने ईमेल में प्राप्त करने हेतु अपना ईमेल पता नीचे भरें:

FeedBurner द्वारा प्रेषित

ऑनलाइन हिन्दी वर्ग पहेली खेलें

***

Google+ Followers

फ़ेसबुक में पसंद करें