शुक्रवार, 30 अक्तूबर 2009

नेविगेशन पट्टी रहित ब्लॉगर ब्लॉग को फ्लैग कैसे करें?

इलाहाबाद संगोष्ठी में चर्चा के दौरान यह तकनीकी प्रश्न किया गया था कि उन ब्लॉगर ब्लॉगों को फ़्लैग कैसे करें जिनमें नेविगेशन पट्टी को हटा दिया...

गुरुवार, 29 अक्तूबर 2009

इलाहाबाद चिट्ठाकार सम्मेलन के कुछ हा हा ही ही , हाय हैलो के ऑडियो - वीडियो

आइए, आग को कुछ और हवा दें. दूर-सुदूर प्रांतों-देशों में कान-नाक-मुँह खोलकर अपने कम्प्यूटर के सामने चिंतित होकर ब्लॉगियाती-टिपियाती जनता के ल...

बुधवार, 28 अक्तूबर 2009

आइए आज शाम को ऑनलाइन सीखें कि विंडोज़ 7 पर हिन्दी में काम कैसे करें

जैसी कि पूर्व सूचना आपको थी, आज 28 अक्तूबर 2009 को भारतीय समयानुसार शाम 4 बजे से लेकर 5.30 बजे तक एक ऑनलाइन वेबकास्ट है. वेबकास्ट यानी ...

मंगलवार, 27 अक्तूबर 2009

चिट्ठाकारी (हिन्दी?) में निहित ख़तरे…

इलाहाबाद में मैंने अपनी प्रस्तुति में चिट्ठाकारी में निहित खतरों के बारे में भी बताया था. अभिषेक ओझा ने कई पोस्टों में ब्लॉगिंग के खतरे के ब...

सोमवार, 26 अक्तूबर 2009

द अदर साइड ऑफ अ ब्लॉगर

क्या आप जानते हैं कि अजित वडनेरकर कभी अहमद हुसैन – मोहम्मद हुसैन के शिष्य हुआ करते थे और वे एक उम्दा गायक भी हैं? देखिए उनके लाइव परफ़ॉर्मे...

मंगलवार, 20 अक्तूबर 2009

विंडोज 7 सीखने के लिए आपके लिए कुछ मुफ़्त वेबकास्ट

विंडोज का हर संस्करण चलने चलाने में अपने पूर्व के संस्करणों से बहुत कुछ भिन्न होता है. विंडोज 7 में हिन्दी कैसे चलाएँ? विंडोज 7 में नया क...

रविवार, 18 अक्तूबर 2009

आपकी एक अदद टिप्पणी की कीमत महज़ पांच 5.00 रुपए?

वैसे तो हर पोस्ट की हर टिप्पणी (स्पैम को छोड़ दें) अमूल्य और अनमोल होती है, मगर किसी ब्लॉग पर आपकी एक टिप्पणी के बदले पाँच रुपए का दान दिय...

शनिवार, 17 अक्तूबर 2009

भारत में कार्पोरेट ब्लॉगिंग

आदमी की (सद्यः संशोधित?) मूल भूत आवश्यकताओं में अब शामिल हैं – रोटी, कपड़ा, मकान और जी हाँ, सही पहचाना - ब्लॉगिंग! बहुत पहले की मजाक में ...

शुक्रवार, 16 अक्तूबर 2009

आपको अपने आप पर भरोसा है या नहीं?

--. ये भरोसे का बड़ा चक्कर है. आपको भले ही अपने आप पर भरोसा न हो, मगर दुनिया है कि आप पर पूरा भरोसा करती है. ठीक वैसे ही जैसे आप अपने ब...

शनिवार, 10 अक्तूबर 2009

अगर गिनती के दस लोग भी मेरा ब्लॉग पढ़ते रहें तो मैं ताउम्र ब्लॉग लिखता रहूंगा – राजकुमार केसवानी

देश-विदेश के जाने-माने पत्रकार-संपादक-स्तंभकार राजकुमार केसवानी ताज़ा-ताज़ा हिन्दी ब्लॉग जगत में कूदे हैं. बाजे वाली गली नाम का उनका हि...

गुरुवार, 8 अक्तूबर 2009

सब ज़ीरो से सुपर हीरो : बनवारी लाल चौकसे की कहानी उनकी अपनी जुबानी

वैसे तो बनवारी लाल चौकसे की आत्मकथात्मक किताब ‘श्रमिक से पद्मश्री’ स्मरणिका के रूप में ज्यादा नजर आती है मगर स्वेट मार्डेनों, दीपक चोपड़ा...

सोमवार, 5 अक्तूबर 2009

द रीअल थिंग…

यदा कदा हम सभी का सामना रीअल, वास्तविक चीजों से हो जाता है, और हम सन्न खड़े देखते रह जाते हैं. ऐसे ही कुछ वास्तविक चीजों से सामना पिछले ...

शुक्रवार, 2 अक्तूबर 2009

15 लाख रुपए की गाँधी की लँगोटी

हमारी नामी कंपनी 'सो फ्लां' ने एक लिमिटेड एडीशन गाँधी लँगोटी बाजार में पेश किया है. लिमिटेड एडीशन की सिर्फ 3000 लँगोटियाँ तैयार क...

---------------------------------------------------------

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------