संदेश

February, 2008 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

एक चिट्ठाकार के संघर्ष की महागाथा...

चित्र
(हम सभी नित्य सीखते हैं. तकनीक नित्य छलांगें मार रही है और उससे कदमताल मिलाना मुश्किल है. मगर, इच्छा शक्ति है, सीखने का जज्बा है तो कोई राह मुश्किल नहीं. हमारा वतन हमारा समाज नामक चिट्ठे के डॉ. मान्धाता सिंह ने अपने हिन्दी ब्लॉग लेखन के संघर्ष की रोचक दास्तां लिखी तो मेरा सिर उनके जज्बे, उनके उत्साह के आगे खुद-ब-खुद झुक गया. मुझे लगा कि ये संघर्ष गाथा हम आप को एक बार फिर से पढ़नी चाहिए. कभी कहीं पर कदम थकने लगे, रास्ता दुरूह लगने लगे तो इस संधर्ष गाथा को फिर से पढ़ लें, यकीनन, आपके कदमों में शक्ति आएगी और राह आसान होने लगेगी. मूल आलेख यहाँ पर पढ़ें . और, हो सकता है हिन्दी चिट्ठाकारी पर पांव जमाने की आपकी कथा भी कोई कम रोचक, कम प्रेरणाप्रद नहीं होगी... तो क्यों न उन्हें हमें बताएँ?)एक हिंदी ब्लागर की आत्मकथा
कंप्यूटर पर खबरें लिखने और पेज बना लेने तक कंप्यूटर का सीमित ज्ञान तो था मगर अंतर्जाल पर हिंदी में खुद कुछ लिखने की जगह बन सकती है, यह बिल्कुल नहीं जानता था। अंतर्जाल में कुछ हिंदी पोर्टल वेबदुनिया और गूगल, याहू, एमएसएन वगैरह में जाकर हिंदी खबरें पढ़ लेता था। हिंदी अखबार जो नेट पर …

कभी जश्न तो कभी रोना...

चित्र
और, पप्पू रो दिया...ये वही पप्पू हैं, जिनके जेल में भी जश्न मनाने की चटपटी खबरें आती रही थीं. जीवन सचमुच बहुत कटु होता है. जश्न और रोने का हिसाब आज नहीं तो कल, बरोबर!---व्यंज़लकभी जश्न तो कभी रोनाजिंदगी का है यही रोना
प्रेम में ये कहां से आयादाल रोटी का वही रोना
हँसते हँसते आते आँसूआंखें भूलते हैं कभी रोना
कब तक हँसेंगे दूसरों पेजब खुद पे है वही रोना
जिंदगी आसां होती रवियाद होता कल वही रोना
------.

केडीई 4 के लिए कुछ उपयोगी नुस्ख़े

चित्र
(ये उपयोगी नुस्ख़े केडीई 4 के 'केटिप' अनुप्रयोग से सीधे ही निकाले गए हैं. यदि आप केडीई इस्तेमाल करते हैं (केडीई 4 - लिनक्स, विंडोज व मॅक ओएसX पर उपलब्ध है, और, हिन्दी में भी) तो ये आपके लिए खासे उपयोगी होंगे. यदि लिनक्स और केडीई इस्तेमाल नहीं भी करते हैं तो भी कोई बात नहीं, इन नुस्ख़ों को पढ़कर आप ये जानकारियाँ तो प्राप्त कर ही सकते हैं कि लिनक्स तंत्र में केडीई के जरिए कम्प्यूटिंग के कौन कौन से काम किए जा सकते हैं.)· केडीई के बारे में यहाँ बहुत सारी जानकारियाँ हैं-जो कि केडीई की आधिकारिक वेब साइट है. यहाँ पर और भी उपयोगी साइटें हैं जिनमें प्रमुख अनुप्रयोगों जैसे कि- कॉन्करर के लिए, के-ऑफिस के लिए तथा के-डेवलप के लिए जानकारियाँ हैं· केडीई कई भाषाओं (80 से अधिक) में अनूदित हो चुका है. आप देश तथा भाषा को तंत्र विन्यास से क्षेत्रीय तथा भाषा चुनकर बदल सकते हैं.· केडीई अनुवादों तथा अनुवादकों के बारे में और अधिक जानकारी के लिए देखें - http://l10n.kde.org .· प्रोग्राम क्लिपर जो कि डिफ़ॉल्ट रूप में स्वचालित प्रारंभ होता है तथा तंत्र तश्तरी में बना रहता है, चयनित पाठों को रखे रहता है.…

जगार 2008 : आपके लिए कुछ आई कैण्डीज़...

चित्र
16-17 फरवरी 2008 को रायपुर में हुए अंतर्राष्ट्रीय लघुकथा सम्मेलन के दौरान जगार 2008 देखने का भी सौभाग्य प्राप्त हुआ. जगार के बारे में संजीव जी ने अपने चिट्ठे पर विस्तार से लिखा है.

लीजिए, आपके लिए प्रस्तुत है जगार में प्रदर्शित एक से एक बेहतरीन हस्तशिल्पों के कुछ नमूने. इनमें से एक दो शिल्प मैंने भी खरीद लाए. रेखा ने ये चित्र देखे तो उसका कलाकार मन जाग उठा और उसने लगभग हर चित्र को देखकर मुझसे पूछा कि ये क्यों नहीं लाए, ये वाला क्यों नहीं और इसे तो लाना ही था! कुल मिलाकर हर लोक शिल्प अपने आप में अनूठा और संग्रह योग्य.
(लकड़ी का शिल्प)


(नारियल की जटाओं से बना बेशकीमती घोड़ा. जीवंत. कीमत सिर्फ साठ रुपए. - क्या कलाकारों को उनकी कला का सही मूल्य मिल पाता है?)


(लकड़ी, हड्डी व ऐसे ही प्राकृतिक वस्तुओं से बना गले का हार, जो किसी भी नवलखा हार से ज्यादा ख़ूबसूरत है )


(लौह शिल्प - असीमित, अनंत कल्पनाओं के रूपाकार...)


(पेपरमैशी की कलाकृति - जीवंत और रंगों से भरपूर)


(इस सुंदर कला नमूने को कोई भी चूमना चाहेगा...)


(बांस के छिलकों व टुकड़ों से बने गुलदस्ते के फूल)



(काष्ठ शिल्पों के बीच लौहशिल्प के र…

केडीई 3.5 हिन्दी परियोजना को फॉस इंडिया पुरस्कार

चित्र
इंडलिनक्स के बैनर तले, सराय फेलोशिप के तहत स्वीकृत केडीई 3.5 हिन्दी को इस वर्ष के फॉस इंडिया पुरस्कार के लिए चुना गया है. इस परियोजना में हिन्दी अनुवाद का कार्य मैंने किया है तथा तकनीकी कोआर्डिनेशन जी. करूणाकर का है. विस्तृत विवरण उन्मुक्त जी के चिट्ठे पर यहाँ देखें.केडीई 4 हिन्दी परियोजना के लिए काम जारी है. आज की स्थिति आपको चित्रमय आंकड़ों में निम्नवत् दिखाई देगी –ज्ञातव्य हो कि केडीई 4 हिन्दी परियोजना को भी सराय से फेलोशिप मिली है, जिसके लिए राजीवगांधी फ़ाउन्डेशन ने धन प्रदान किया है. अभी इस पर धुंआधार काम चल रहा है और जैसा कि ऊपर चित्र में स्पष्ट है, आज तक की अनुवाद प्रगति 81% है.फॉस इंडिया में अभिषेक चौधरी के सिस्टम लेवल पर हिन्दी प्रोग्रामिंग वातावरण प्रस्तुत करने वाली परियोजना – हिन्दवी को लीड पुरस्कार प्रदान किया गया है. संदर्भवश, हिन्दवी के शुरुआती संस्करण को भी सराय फेलोशिप स्वीकृत हुआ था.संबंधित कड़ियाँ – केडीई 4.0 संस्करण जारी, जो विंडोज़ ओएस पर भी चलता है.हिन्दी का एक और वामन पगरेडहैट लिनक्स हिन्दी में

फ़िफ़्टीन सेकण्ड्स ऑफ़ फ़ेम रिटर्न्स…

चित्र
रायपुर, छत्तीसगढ़ में पं. राजेन्द्र प्रसाद शुक्ल की 78 वीं जयंती पर आयोजित अंतर्राष्ट्रीय लघुकथा सम्मेलन तथा सृजन सम्मान 2008 समारोह 16-17 फरवरी 2008 में शिरकत करने का सौभाग्य प्राप्त हुआ. वहाँ चराग़े दिल की देवी नागरानी, अभिव्यक्ति हिन्दी की पूर्णिमा वर्मन, आवारा बंजारा के संजीत त्रिपाठी, आरंभ के संजीव तिवारी, संवेदनाओं के पंख के डॉ. महेश परिमल, युग मानस के डॉ. जय शंकर बाबु, लघुकथा.कॉम के रामेश्वर काम्बोज हिमांशु व सुकेश साहनी, हिन्दी साहित्य सरिता के कुमुद अधिकारी, भारत दर्शन के रोहित कुमार हैप्पी समेत सैकड़ों अन्य साहित्यकारों से प्रत्यक्ष मिलना हुआ जिनमें छत्तीसगढ़ी के लोक-रचनाकार लक्ष्मण मस्तूरिहा का विशेष सान्निध्य भी प्राप्त हुआ जिनके गीतों का प्रशंसक मैं अपनी किशोरावस्था से ही रहा हूँ, और जिनसे मिलकर लगा कि रायपुर प्रवास सफल हो गया. उनकी एक बेहद लोकप्रिय रचना – मोर संग चलव रे (मेरे संग चलो जी...) वीडियो पर रेकॉर्ड किया है जिसका आनंद आप शीघ्र ही रचनाकार पर उठाएंगे. सम्मेलन का कुछ विवरण आवारा बंजारा में यहाँ पर दर्ज है. सम्मेलन में मेरी एक प्रस्तुति थी – जिसका विष…

अब दीजिए कम्प्यूटर के सारे कमांड हिन्दी में...

चित्र
ये सुविधा अब तक यूनिक्स व लिनक्स (संभवतः मॅक में भी,) तंत्रों में ही उपलब्ध थी. परंतु अब विंडोज पावरशैल के जरिए न सिर्फ आप हिन्दी में कमांड देकर अपने विंडोज अनुप्रयोगों को चालू बन्द कर सकते हैं, बल्कि हिन्दी में स्क्रिप्ट भी बना सकते हैं – जिनमें पाइप इत्यादि का प्रयोग कर अपने कठिन क्म्प्यूटिंग कार्यों को आसान बना सकते हैं.आप हिन्दी में कमांड का प्रयोग अलियास बनाकर ही कर सकेंगे - यानी हिन्दी में अंतर्निर्मित कमांड नहीं हैं. उदाहरण के लिए विंडोज पावरशैल के सेट-अलियास कमांड का प्रयोग कर नोटपैड के लिए निम्न अलियास बना सकते हैं –Set-Alias नोटपैड "c:\windows\notepad.exe"अब आप विंडोज पावरशैल के कमांड इनपुट विंडो (शैल टर्मिनल) में हिन्दी में नोटपैड कमांड देकर आप नोटपैड प्रारंभ कर सकते हैं.यदि आप नोटपैड मेरी फ़ाइल कमांड देंगे, तो नोटपैड प्रारंभ होगा, यदि मेरी फ़ाइल टैक्स्ट फ़ाइल मौजूद होगा तो उसे खोलकर आपके सामने प्रस्तुत करेगा नहीं तो आपसे उस नाम की नई फ़ाइल बनाने के लिए आपसे पूछेगा.आप अन्य अनुप्रयोगों के लिए भी अलियास बना सकते हैं. उदाहरण के लिए एमएस वर्ड के लिए यदि आप दस्तावेज़ क…

अरविंद कुमार जी का एक पत्र ...

मित्रों, अरविंद कुमार जी का निम्न पत्र मुझे प्राप्त हुआ है:------प्रिय रतलामी जीमैं आप का ब्लाग जब तब बड़े शौक़ से पढ़ता हूँ. मैं हूँ अरविंद कुमार--समांतर कोश और अभी प्रकाशित द पेंगुइन इंग्लिश-हिंदी हिंदी-इंग्लिश थिसारस ऐंड डिक्थनरी का रचेता. मैं केंद्रीय हिंदी संस्थान आगरा की हिंदी लोक शब्दकोश परियोजना का अवैतनिक प्रधान संपादक भी हूँ. इस योजना के अंतर्गत हिंदी परिवार की भाषाओं के जो 48 कोश बन रहे हैं, उन में हम अब मालवी को लेना चाहते हैं, मुझे हर सहृदय मालवी बुद्धिजीवी से सहायता चाहिए. कृपया मुझ से संपर्क करें--samantarkosh (--AT--) gmail.com
आपर चाहें तो मेरे नीचे दिए मोबाइल पर फ़ोन भी कर लें...आप की ऊर्जा से बहुत प्रभावित हूँ। आप जैसे आधुनिक विज्ञान की शिक्षा लिए लोग ही और लाइनक्स पर हिंदी के लिए इतना कुछ कर जाने वाले लोगों से ही अपेक्षा है कि न केवल हिंदी बल्कि हिंदी  परिवार की भाषाओं के लिए, जिन्हें हम लोग बोलियाँ कह कर टाल देते हैं, कुछ आधुनिक काम किया जा सकता है....कृपया यह भी बताएँ कि हम किन लोगों से कैसे सहायता मिल सकती है. हो सके तो उन के नाम पते भी भेजें. मेरी अपील अपने ब…

आर-स्टूडियो : हिन्दी फ़ाइलों का बेहतरीन डेटा रिकवरी सॉफ़्टवेयर

चित्र
रेडहैट ईकोर्ट : ये तूने क्या किया....मेरे एक मित्र ने मुझे रेडहैट द्वारा भारतीय न्यायालयों के लिए विशेष रूप से जारी रेडहैट लिनक्स एंटरप्राइज 5 ईकोर्ट संस्करण 5 तथा ईकोर्ट पैकेज जांच पड़ताल के लिए भेजा क्योंकि उसमें कुछ समस्या आ रही थी.रेडहैट का ईकोर्ट संस्करण, रेडहैट के मूल संस्करण का ही प्रसंस्कृत रूप है, परंतु इसका एनाकोंडा इंस्टालर बहुत ही बेकार डिजाइन किया गया है.आप पूछेंगे कितना बेकार? उतना ही बेकार जितना कि किसी मोबाइल फ़ोन में सबसे ज्यादा बैटरी खाने वाला टीएफ़टी स्क्रीन बैटरी कम होने की जानकारी अपनी स्क्रीन चालू कर उसको झपकाता हुआ संदेश देता है कि बंधु बैटरी खत्म हो रही है सावधान और इसे बताने के लिए आपकी और बैटरी खाता है.मेरे कम्प्यूटर में दो हार्डडिस्क 80 गीबा तथा 20 गीबा के लगे हैं और उनमें कोई आठ पार्टीशन्स हैं. दो पार्टीशन्स तो लिनक्स तंत्रों की जांच पड़ताल के लिए ही रख छोड़े हैं. तो जब मैंने इस रेडहैट ईकोर्ट को संस्थापित करना चाहा, तो सामान्य विकल्प अक्षम किया गया मिला. ईकोर्ट संस्थापना विकल्प में एक लाइन में चेतावनी सी दी गई थी कि आपकी समस्त डाटा मिटा दी जाएगी और उसमें रे…

चिट्ठाकारों के लिए 13 यक्ष प्रश्न...

चित्र
कल मेरी मुलाकात अचानक प्रोब्लॉगर से हो गई. मैंने उनसे सफलता के कुछ मूल मंत्र जानने चाहे कि कैसे दस लाख से अधिक लोग प्रतिदिन मेरे हिन्दी चिट्ठे को पढ़ें और मेरी हिन्दी ब्लॉग से आय एक करोड़ रुपए प्रतिमाह हो...उन्होंने मुझे बताया कि जब मैं अपना पोस्ट लिख लेता हूँ तो मैं अपने आप से 13 प्रश्न पूछता हूँ. उनके उत्तरों से संतुष्ट होने पर ही मैं अपना लिखा पोस्ट करता हूँ. आप भी ऐसा ही किया कीजिए. मैंने उनसे पूछा, - ये 13 प्रश्न कौन कौन से हैं? उन्होंने एक एक कर बताया – और मैं मन ही मन उनका उत्तर देता रहा -1. इस प्रविष्टि की मुख्य बातें क्या हैं? क्या मैंने इन्हें सही सही समझाया है?(उत्तर – मुख्य बातें? हिन्दी चिट्ठों में? और, समझाना? पहले खुद तो समझ लिया करूं...)2. मेरे विचार में इस प्रविष्टि के पाठक इसे पढ़ने के उपरांत क्या करेंगे? क्या मैंने उन्हें सही दिशा प्रदान की है?(उत्तर – क्या करेंगे? हुम्म्... दिशा? ? ? हुम्म... सोचना पड़ेगा...)3. क्या मैंने कुछ उपयोगी लिखा भी है?(उत्तर – उपयोगी? हिन्दी चिट्ठों में??)4. क्या मैंने कुछ विशिष्ट लिखा भी है?(उत्तर – विशिष्ट? इसके लिए तो विशिष्ट सोचना पड़े…

विशाल लाइब्रेरी में से पढ़ें >

अधिक दिखाएं

---------------

छींटे और बौछारें का आनंद अपने स्मार्टफ़ोन पर बेहतर तरीके से लें. गूगल प्ले स्टोर से छींटे और बौछारें एंड्रायड ऐप्प image इंस्टाल करें.

इंटरनेट पर हिंदी साहित्य का खजाना:

इंटरनेट की पहली यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित व लोकप्रिय ईपत्रिका में पढ़ें 10,000 से भी अधिक साहित्यिक रचनाएँ

हिन्दी कम्प्यूटिंग के लिए काम की ढेरों कड़ियाँ - यहाँ क्लिक करें!

.  Subscribe in a reader

इस ब्लॉग की नई पोस्टें अपने ईमेल में प्राप्त करने हेतु अपना ईमेल पता नीचे भरें:

FeedBurner द्वारा प्रेषित

ऑनलाइन हिन्दी वर्ग पहेली खेलें

***

Google+ Followers

फ़ेसबुक में पसंद करें