टेढ़ी दुनिया पर रवि रतलामी की तिर्यक, तकनीकी रेखाएँ...

June 2007

मैथिली जी ने मेरी एक पोस्ट पर टिप्पणी लिखी थी - आपकी निगाह में एक ब्लाग एग्रीगेटर में क्या क्या खूबियां होनी चाहिये? आपकी चाहत का ब्लाग एग्रीगेटर कैसा हो, क्या कभी इस पर भी एक पोस्ट लिखेंगे?

सवाल उठता है - मेरी चाहत का ब्लॉग एग्रीगेटर कैसा हो?

यूँ तो व्यक्ति की इच्छाएँ व आकांक्षाएँ अनंत होती हैं. आदमी का पेट न कभी भरा है न भरेगा. एक इच्छा पूरी होती है तो दूसरी खड़ी होती है. बक़ौल ग़ालिब – ख्वाहिशें हैं ऐसी कि हर ख्वाहिश पे दम निकले. और, ख्वाहिशें पालनी भी ऐसी ही चाहिएँ – तभी न आदमी कुछ मेहनत करेगा. ख्वाहिशें जो दम न निकालें – वे भी कोई ख्वाहिशें होती हैं लल्लू?

तो, चलिए आपको बताता हूँ – कि मेरा वाला नारद कैसा हो. वह कुछ-कुछ ऐसा हो –

  1. चिट्ठों में कोई डिस्क्रिमिनेशन न हो – चिट्ठों की सक्रियता के आधार पर उनका कोई वर्ग न हो. अभी तो होता यह है कि कोई कम सक्रिय चिट्ठा पोस्ट होता है तो वह नारद पर वर्ग 2 या 3 में होने के कारण नारद पर दृष्टव्य ही नहीं हो पाता है. यह नारद की अपनी कार्यकुशलता बढ़ाने और उपलब्ध रिसोर्स में उपयुक्त परिणाम देने के लिए किया गया है. इसके लिए चिट्ठों को दंड देना कतई उचित नहीं है. सब चिट्ठे एक बराबर हों – चाहे नित्यप्रति छः लिखे जा रहे हों या छः महीने में एक बार.
  2. चिट्ठों में प्रतिबंध? ना जी ना. रुकिए, हां जी हां. भड़काऊ, उकसाऊ, पॉर्न पर तो प्रतिबंध होना ही चाहिए. हर कहीं, सार्वजनिक मंच पर, ऐसी सामग्रियों पर प्रतिबंध होता है – ऐसी सामग्रियाँ कम से कम चिह्नित तो हों ही.
  3. सब चिट्ठे एक समान – नारद का वर्तमान स्वरुप कुछ यों प्रतीत होता है कि वह कुछ चिट्ठों पर खास तवज्जो देता है तो बहुतों के साथ सौतेला व्यवहार करता है. कुछ के चिट्ठों के सारांश छापता है तो कुछ के नहीं. कुछ चिट्ठाकारों के सलौने मुखड़े दिखाता है तो बहुतों के नहीं. ये सब नहीं चलेगा. मेरा नारद सब चिट्ठों को एक रूप में दिखाएगा – और जहाँ तक बन पड़े तो चिट्ठे की कड़ी के साथ चिट्ठे की प्रथम चार पंक्ति या सारांश - ताकि कैची शीर्षकों के जाल में पाठक किसी सूरत न फंस पाएँ.
  4. मेरे नारद में विषय वार श्रेणी हो और उनके अलग-अलग पृष्ठ हों. इसके लिए मराठी ब्लॉग विश्व से या ब्लॉगस्ट्रीट से कुछ विचार लिए जा सकते हैं. श्रेणी चुनने के लिए ब्लॉग लेखकों से ही कहा जाए या फिर मराठी ब्लॉग विश्व में अपनाए गए टैगिंग जैसे विचार अपनाए जा सकते हैं. वैसे भी, यदा कदा, किसी विषय वार श्रेणी में आबद्ध चिट्ठों के द्वारा विषयों के भटकाव या ओवरलैप से कोई आफ़त नहीं टूट पड़ेगी.
  5. नाम में क्या रखा है – भाई, बहुत कुछ रखा है - नारद शीर्षक व उसके रूप रंग से कुछ लोगों को यह भ्रम होता है कि इसका झुकाव भगवा रंग की ओर है. भावार्थ और कथ्य पर आजकल कौन बेवक़ूफ़ जाता है. चहुँओर सुपरफ़ीशियल चीज़ों का जमाना है. मेरे नारद का रूप रंग कुछ ऐसा हो कि दूर से भी किसी धर्म-जाति से संबंधित न लगे. इसके लिए कोई अंग्रेज़ी नाम बड़ा मुफ़ीद होगा. किसी ओर से कोई आपत्ति नहीं होगी तब!
  6. मेरे नारद के चिट्ठा प्रविष्टि कड़ियों पर मुँह चिढ़ाती क्लिक संख्याएं न हों. किसी चिट्ठे को पाठक दसियों तरह से पढ़ सकते हैं. मात्र नारदीय क्लिक ही चिट्ठे के ज्यादा या कम पढ़े जाने का पैमाना नहीं होता और न कभी होगा. यह क्या कि किसी भावपूर्ण कविता पर शून्य क्लिक और किसी बकवास-हंगामाख़ेज प्रलाप पर सैकड़ा भरती क्लिकें – जो, जाहिर है, अपनी ओर और अधिक क्लिकों को आकर्षित करती हैं. मेरे नारद के क्लिक दर के आंकड़े सार्वजनिक, सर्वजन को उपलब्ध तो हों, परंतु वे छुपे हों – एक-दो नेविगेशन स्तर भीतर.
  7. हस्तचालित चयन की सुविधा हो – कुछ कुछ डिग जैसी. कुछ विशिष्ट पंजीकृत पाठकों के द्वारा चयनित व संस्तुति किए गए दिन के 10-20 पढ़ने हेतु अनुशंसित चिट्ठे. हिन्दी में जब प्रतिदिन दस हजार चिट्ठे लिखे जाने लगेंगे तो ऐसे अनुशंसित चिट्ठे ही पढ़े जा सकेंगे. हालांकि ऐसे में बहुत से बेहतरीन चिट्ठों के छूट जाने की पूरी संभावना है.
  8. रैंकिंग की सुविधा हो ब्लॉग स्ट्रीट जैसी. टॉप 100 चिट्ठों की सूची हो, टॉप 500 चिट्ठों की सूची हो.
  9. चिट्ठों की खोजबीन स्वयं करें – एग्रीगेटर में चिट्ठा पंजीकरण वैकल्पिक हो. नए हिन्दी चिट्ठे चाहे जहां पर दीख पड़ें उन्हें एग्रीगेटर में स्वयंमेव शामिल किया जाए. यदि किसी चिट्ठाकार की आपत्ति (जिसकी संभावना नगण्य है) आती है तो वह चिट्ठा हटा दिया जाए.
  10. अंतिम, परंतु महत्वपूर्ण – मेरा नारद पूरी तरह स्ववित्त पोषित हो, सक्षम हो, ताकि उसे चन्दे के लिए हाथ न फैलाना पड़े और न ही किसी मिर्ची सेठ के जेब पर वह भार बने. किसी को ये कहने का मौका न मिले कि तुमने नारद को चंदा दे दिया है तो अपनी औकात बता रहे हो.

ब्लॉग पोस्ट की चोरी करो क्योंकि तुम पर निगाह नहीं रखी जा रही है...

एक और हिन्दी ब्लॉग पोस्ट की चोरी. वह भी चित्र समेत!

आमतौर पर साभार, कड़ी सहित व लेखक रचनाकार के नाम-अता-पता सहित रचनाओं को कई-कई मर्तबा पुनर्प्रकाशित करने में कहीं कोई हर्ज नहीं होता और अगर व्यावसायिक हितों को नुकसान नहीं पहुँचता है तो लेखकों को इसमें आपत्ति नहीं होती और वे प्रकाशित होने में खुशी ही महसूस करते हैं. ध्येय यह होता है कि रचनाएँ ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुँचे व ज्यादा से ज्यादा लोग पढ़ें.

परंतु जब लेखक की रचनाओं को बिना श्रेय दिए, बिना नाम दिए या अपने नाम से या किसी और नाम से प्रकाशित करने की घटनाओं को क्या कहें? काव्या विश्वनाथन? नहीं. ये तो कोई प्रिंसेस मलेशिया हैं!

मूल रचना रचनाकार पर यहाँ देखें –

इसके प्रथम भाग को जैसा का तैसा टीप कर प्रकाशित किया गया है यहाँ पर.

आप देखेंगे कि रचनाकार – रघुवीर सहाय का नाम मिटा दिया गया है.

चिट्ठा सामग्री की चोरी आम बात है. इस बारे में तथा कुछ सावधानियों के बारे में चर्चा यहाँ पर की गई है.

वह तो इस चिट्ठे पर रेखा की बनाई कलाकृति पर निगाह पड़ गई और जाना पहचाना चित्र होने के कारण जरा ध्यान देने पर रचनाकार की प्रविष्टि याद आ गई अन्यथा यह चोरी निगाह में ही नहीं आ पाती (प्रविष्टि सितम्बर 06 की है)

 

आप सोचते हैं कि आप बेनाम या अनाम रहकर इंटरनेट पर गुल-गपाड़ा कर सकते हैं? तो आप गलत सोचते हैं या, रुकिए, शायद आप सही सोचते हैं... क्योंकि सरकारें ऐसा सोचती हैं... अब सरकार चाहे भारत की हो या जर्मनी की...

सरकारें समय समय पर हम बेनामी इंटरनेट प्रयोक्ताओं पर नकेल कसने का असफल प्रयास करती रहती हैं.

अभी मैं पिछले दिनों प्रवास पर था तो इंटरनेट इस्तेमाल करने के लिए एक सायबर कैफ़े में गया. वहाँ एक गंदा सा फटा-पुराना रजिस्टर रखा था. इंटनरेट का इस्तेमाल करने से पूर्व उस पर नाम पता लिखना आवश्यक था.

मैंने सायबर कैफ़े संचालक से पूछा – नाम पता लिखना क्या जरूरी है? उसने बताया कि साहब क़ानून है और पुलिस वाले जब तक आकर चेक करते हैं कि रजिस्टर भरा जा रहा है या नहीं. अब, सभी से तो भरवाने से रहे – धंधे का सवाल है, आप भर दें तो अच्छा.

मैंने मजाक में शाहरूख़ का नाम पता भर दिया – जो जाहिर है चल निकला – किसी ने तवज्जो ही नहीं दी कि क्या भरा है. यह है क़ानून, और उसका पालन और उसके फल स्वरूप सरकारी कामों में सुविधा. दरअसल यह कानून इस लिए बनाया गया है कि साइबर अपराधी किसी साइबर कैफ़े से गुल गपाड़ा करें तो वे साइबर कैफ़े के आई.पी. पते व उनके द्वारा रजिस्टर में दर्ज नाम पते से तुरंत पकड़ा जाएँ. मैं अपराधी था, मैंने एक साइबर कानून तोड़ा था, गलत नाम पता दर्ज किया था. क्या मैं पकड़ा जाऊंगा? मासूम सरकार समझती है कि अपराधी बड़े ही ईमानदार होते हैं जो अपना सही अता-पता रजिस्टर में दर्ज करते हैं!

इसी तर्ज पर जर्मनी की सरकार चल रही है. क्या कहा ? जर्मनी की सरकार? जी हाँ, सरकारें हर जगह एक सी होती हैं, और नेता भी. लालू और बुश में कोई अंतर किसी को पता हो तो बताएँ. मुश और बुश में तो तुक भी बढ़िया मिलती है.

जर्मनी की सरकार ने इंटरनेट ट्रैफ़िक का रेकॉर्ड बनाए रखने की कोशिश में एक नया क़ानून बनाया है जिसके तहत प्रत्येक (जी)मेल खाता धारक को, जो जर्मनी में रहता है, अपना वैध नाम पता दर्ज करवाना आवश्यक होगा. जर्मनी में अब बेनामी – अनामी ईमेल खाता नहीं चलेंगे. कल को ये ब्लॉग इत्यादि पर भी लागू हो सकते हैं. और तब हर ब्लॉग के बाजू पट्टी में ब्लॉग लेखक के खानदान के साथ गली मुहल्ले का विवरण दिया जाना क़ानूनन अनिवार्य होगा.

इसकी भनक हमारे भारतीय नेताओं और अफ़सरों को लगने की देरी है, जो वैसे भी सुरक्षा के नाम पर नाहक फूं-फ़ां करते रहते हैं. और फिर हम सभी की आफ़त आने वाली है. तो दोस्तों, घर-गली के नाम-पट्ट चमका रखें. कौन जाने कब जरूरत आन पड़े! और सत्यापन के नाम पर उनके फ़ोटो भी हमें अपने-अपने ब्लॉगों में लगाना पड़े!

 

 


If you can't read Hindi, then Read this article in English here :

How to work in Unicode Hindi at Cyber Café's Windows 98 PCs


अभी भी, भारत में तमाम कारणों के चलते आमतौर पर सभी साइबर कैफ़े में आपको विंडोज़ 98 ही मिलते हैं.

विंडोज़ 98 में डिफ़ॉल्ट रूप में यूनिकोड हिन्दी संस्थापित नहीं होता है. इस वजह से साइबर कैफ़े में यूनिकोड हिन्दी में काम करना कुछ समय पहले तक बहुत ही मुश्किल भरा था. तमाम औजार जुटाने पड़ते थे तब कहीं विंडोज़ 98 में यूनिकोड हिन्दी दिखाई देती थी और उस पर काम किया जा सकता था.

अब कुछ अच्छे ऑनलाइन कुंजीपट के जरिए विंडोज़ 98 में यूनिकोड हिन्दी में काम करना अत्यंत आसान हो गया है. अतः साइबर कैफ़े में जहाँ विंडोज़ 98 पीसी ही आमतौर पर मिलते हैं, उनमें भी आसानी से यूनिकोड हिन्दी में काम किया जा सकता है. प्रस्तुत है चरण-दर-चरण विवरण -

प्रथम चरण - बीबीसी हिन्दी की साइट पर उपलब्ध यूनिकोड फ़ॉन्ट यहाँ से डाउनलोड कर उसे संस्थापित करें. इसे संस्थापित करने के लिए आपको कुछ नहीं करना है, बस इसे दोहरा क्लिक कर एक नियमित प्रोग्राम की तरह चलाना है. इसके बाद कम्प्यूटर को एक बार रीबूट अवश्य कर लें. यदि फ़ॉन्ट डाउनलोड कर चलाने में कुछ समस्या आए तो यहां पर दिया गया विवरण अवश्य पढ़ें.

अब आपका विंडोज़ 98 कम्प्यूटर यूनिकोड हिन्दी को दिखाने लायक तैयार हो गया है. किसी भी यूनिकोड हिन्दी साइट जैसे कि सृजनगाथा पर इंटरनेट एक्सप्लोरर के जरिए जाएँ तो यह अब आपको हिन्दी में पठन-पाठन योग्य दिखेगा.

अब सवाल यह है कि इस कम्प्यूटर पर यूनिकोड हिन्दी में टाइप कैसे करें. यह भी अब अत्यंत आसान है.

द्वितीय चरण - यूनिकोड हिन्दी टाइप करने के लिए आपको ऑनलाइन कुंजीपट चुनना होगा. साइबर क़ैफे में काम करने के लिए यही सर्वोत्तम और आसान विकल्प है. वैसे तो अब बहुत से ऑनलाइन कुंजीपट हैं विकल्प के तौर पर, परंतु प्रयोग में रमण कौल द्वारा बनाए गए ऑनलाइन कुंजीपट बेहतर और बढ़िया कार्य करते हैं और इनमें आपको कोई समस्या नहीं आती. यहाँ आपको हिन्दी कुंजीपट हेतु चार विकल्प मिलते हैं ध्वन्यात्मक, इनस्क्रिप्ट, शुषा और रेमिंगटन. कृतिदेव हिन्दी कुंजीपट आधारित एक ऑनलाइन कुंजीपट यहाँ पर भी है जिसका भी आप इस्तेमाल कर सकते हैं.

हिन्दी की जो सामग्री आपको लिखनी है, वह इनमें से किसी एक ऑनलाइन कुंजीपट में टाइप कर लें फिर कॉपी-पेस्ट कर उस सामग्री का इस्तेमाल आप कहीं पर भी कर सकते हैं.

ध्यान रखें - टाइप की गई यूनिकोड हिन्दी सामग्री का इस्तेमाल आप ऑनलाइन कार्यों - मसलन ब्लॉग लेखन, टिप्पणी लेखन व प्रकाशन, ईमेल प्रेषण इत्यादि के लिए ही कर सकते हैं. इस सामग्री को विंडोज़ 98 में स्थानीय कम्प्यूटर पर स्थानीय अनुप्रयोगों के जरिए सहेजने में आमतौर पर त्रुटियाँ आ जाती हैं, अतः इन्हें ऑनलाइन ही सहेजें.

तृतीय चरण (वैकल्पिक) - साइबर कैफ़े में आमतौर पर विंडोज़ 98 का डिफ़ॉल्ट इंटरनेट एक्सप्लोरर संस्करण 5 ही रहता है जो कि बहुत ही असुरक्षित है और उसमें आधुनिक सुविधा जैसे कि टैब्ड ब्राउज़िंग इत्यादि नहीं मिलती है. टैब्ड ब्राउज़िंग और सुरक्षित ब्राउज़िंग के लिए आप फ़ॉयरफ़ॉक्स या ऑपेरा डाउनलोड कर संस्थापित कर सकते हैं. ये सिर्फ लगभग 5 मे.बा. आकार के होते हैं, तीव्रता से डाउनलोड होते हैं और कुछ ही समय में आप इन्हें विंडोज़ 98 में संस्थापित कर सकते हैं. इनमें यूनिकोड हिन्दी थोड़ी सी टूटी फ़ूटी दिखाई देगी, मगर इसमें आपका काम चल जाएगा.

इन्हीं विधियों का प्रयोग कर मैंने एक साइबर कैफ़े के विंडोज़ 98 कम्प्यूटर से यह ब्लॉग प्रविष्टि लिखी थी, और बड़ी आसानी से लिखी थी.

तो, अगली दफ़ा, साइबर कैफ़े के विंडोज़ 98 कम्प्यूटरों पर गरियाएं नहीं, लानतें नहीं भेजें और बस इन थोड़े से विकल्पों के जरिए अपना काम बख़ूबी निकालें.

Tag ,,,



कल अपने चिट्ठे पर मैंने लिखा था - नारद के आगे जहाँ और भी हैं. मैं गलत था. मैंने गलत लिखा था. आज स्थिति यह है कि हर तरफ नारद ही नारद नजर आ रहा है. मैं अपना बयान वापस लेता हूँ. मेरे खुद का पैर मेरे मुँह में है. मैं शर्मिंदा हूँ. वाकई शर्मिंदा.

तो, मित्रों, भले ही आमने सामने रह कर जी भर कर बोल-गरिया लो, इंटरनेट पर ऐसा कुछ न लिखो कि मेरी तरह आपको भी अपना पैर मुँह में डालना पड़े. क्यों? क्योंकि इंटरनेट कभी नहीं भूलता.

इंटरनेट कभी नहीं भूलता. अफ़लातून जी नारद के प्रति आज निर्मम दिख रहे हैं, परंतु शायद वे 4 फ़रवरी 2007 को अपनी कही गई बात भूल गए. नारद ने पहले भी भाषा की अभद्रता के चलते एक ब्लॉग को प्रतिबंधित किया था. उस ब्लॉग को मेरे द्वारा सूचित करने पर नारद में जोड़ा गया था. तब नारद पर पंजीकरण इत्यादि की प्रथा ही नहीं थी. पंजीकरण की प्रथा इस अप्रिय प्रकरण के बाद ही बनी थी, और ब्लॉग प्रतिबंध की भी. ब्लॉग पर एक कहानी थी, जिसकी भाषा तथाकथित तौर पर अप्रिय थी. किसी पर कोई व्यक्तिगत आक्षेप भी नहीं था और न ही व्यक्तिगत गाली गलौच भी थी. मगर फिर भी, चूंकि जनता चाहती थी, अफ़लातून जी भी उसमें शामिल थे - उनकी ही पहल थी, इसीलिए उसे प्रतिबंधित किया गया था. हल्ला तो ख़ैर उस वक्त भी मचा था. जिसकी लड़ी चिट्ठाकार पर आप यहाँ देख सकते हैं.

उक्त प्रतिबंधित चिट्ठे पर अफ़लातून जी की टिप्पणी थी -

Aflatoon कहा था...

साँढ़ नाहि बरधा ।
अन्तर त पता होई?
अस्सी क होली वाला कवि सम्मेलन काहे बन्द हो गयल?अब तोहरे मुँहवा में उही रहsला त का करबा?चुभलावा?
एक्खे चिर्किन रहलन,उर्दू क शायर।ओन्पे एक मिला सोध करत रहल त लिखलेस-'उर्दू के बेनज़ीर चमन में,मियाँ चिर्किन के शेर खाद का काम करते हैं'
चरखा वालन के ऊ पन्नवा भेजीं?तब तो सच्चो सुवाद मिले लगी,चुभलावत क?मनेजर औ कासी तब करिहें पैरब्बी?
रविजी के अनुरोध पर तोहार चिट्ठवा 'नारद' पर चढ़ल हमरे कहले पर हटल हौ।
कासी क किताब से भविस्य में लैकन के परीक्षा में पूछल जाई'गया सिंहवा क चरित्र चित्रन करा?'
जीतेन्द्र चौधरी क इन्टर्नेट पर हिन्दी के बढ़ावे मे जौन योगदान हव ओके लौण्डा-लपाड़ी न समझ पइहें!सुअरी के न्यौता कब नहि देवल जाला,पता हौ?
विनोद सिंह ऊ पन्नवा ले ले हउन!
अब तोहार पारी हव?हई लिखलका त बचा लेले हई?

5 फ़रवरी, 2007 1:16 पूर्वाह्न

इस दफ़ा भी बाजार... पर प्रतिबंध, भाषा की अभद्रता और व्यक्तिगत आक्षेप को लेकर ही थी - और जिसके लिए अनावश्यक, व्यर्थ हल्ला मचाया जा रहा है और जरा ज्यादा ही मचाया जा रहा है - सांप्रदायिक रूप दिया जा रहा है - दोनों ही पक्षों से.

और हाँ, नारद प्रकरण पर चाहे जिसने पढ़ा हो या न पढ़ा हो या नहीं पढ़ने की कसम खाई हो या पहले पढ़ लिया हो - समर का लिखा चौखंभा पर यह पोस्ट अवश्य पढ़ें और हो सके तो दुबारा पढ़ें -

माफ़ करें ये धर्मयुद्ध नहीं है.

और, सचमुच, चिट्ठाकार बंधु, आइए हम सब आपस में एक दूसरे को माफ़ करें और कुछ सार्थक लेखन करें. नारद-नारद का खेल अब हास्यास्पद हो गया है और लाफ़्टर चैलेंज के प्रतिभागियों की तरह एक से बढ़कर एक आइटम पेश किए जा रहे हैं जिन पर हँसने के लिए सिद्धू होना भी अब कतई जरूरी नहीं रह गया है.

वैसे, मेरा ये आइटम भी अभी चल रहे नारद-लाफ़्टर चैलेंज में से एक था :) अब आपको हँसी नहीं आई हो तो अब इसमें मेरा कतई दोष नहीं है :)

Tag ,,,

जी हाँ, नारद के आगे जहाँ और भी हैं...

यूं मैंने तो अपनी बात अपरोक्ष और व्यंग्यात्मक लहज़े में पहले ही कह दी थी, परंतु जब ई-पंडित की ये भयंकर चेतावनी मिली -

"...नारद के इस कदम के प्रति अपना समर्थन (या विरोध) जाहिर करें। यदि आज भी उन्होंने ऐसा न किया तो यह बहुत बड़ा नैतिक अपराध होगा जैसा कि कहा भी गया है, "जो तटस्थ हैं समय लिखेगा उनके अपराध"।..."

तो फिर से कुंजीपट को गंदा करने से मैं अपने आप को रोक नहीं पाया.

अब, पहली बात पहले.

कल ही मैं किसी एक वेब अनुप्रयोग में पंजीकृत हो रहा था तो उसमें सेवा-शर्तों में से एक यह भी था -

"...upload, post or otherwise transmit any content that is unlawful, harmful, threatening, abusive, harassing, tortious, defamatory, vulgar, obscene, libelous, invasive of another's privacy, hateful, or racially, ethnically or otherwise objectionable;... will be removed immediately and user will be banned..."

आपके गूगल ब्लॉगर खाते के ऊपर नेविगेशन बार में ये लिंक भी रहता है - रिपोर्ट एब्यूज. यह लिंक भी ऐसी ही सामग्री की रपट ब्लॉगर को देने के लिए ही होता है ताकि उचित कार्यवाही की जा सके. गूगल ने तो एक स्पैम चिट्ठा जिसने मेरे अंग्रेज़ी चिट्ठे की सामग्री को लेकर एडसेंस रेवेन्यू कमाने के लिए स्पैम ब्लॉग बनाया था - उसका एडसेंस खाता मेरे कहने पर ही प्रतिबंधित किया था. वर्डप्रेस पर आधारित वह चिट्ठा स्वयं के डोमेन पर था, अतः वर्डप्रेस वाले तो कुछ नहीं कर पाए, मगर डोमेन रजिस्ट्रार को रपट करने पर वह चिट्ठा इंटरनेट से ग़ायब हो गया. औरों के भी ऐसे कुछ अनुभव होगें ही. :)

श्रीश ने कई चिट्ठों पर अपनी टिप्पणियों के जरिए पहले ही कई मर्तबा तथा अपने इस पोस्ट में इस बार फिर से लिखा है - नारद पर पंजीकृत चिट्ठों में भाषा और सामग्री को लेकर न्यूनतम मानक हैं, और, नारद की सेवा शर्तों के अनुसार उन मानकों का पालन करना हर पंजीकृत चिट्ठे को अनिवार्य है अन्यथा उसे नारद से निकाल बाहर किया जाएगा.

क्या मैं नारद के इस प्रतिबंध वाले कदम का समर्थन करता हूँ?

जी हाँ.

हर संस्था को अपने नियम कायदे कानून पालन करवाने का हक है. हर पालक को अपने बच्चों को चपतियाने का हक है यदि वे गलती करते हैं और, दूसरी ओर, हर बच्चे को अपने पालक को उनकी गलती बताने का भी उतना ही हक है - यदि वे मानते हैं कि उनके पालक गलती पर हैं. तो, नारद ही क्या - नारद जैसी किसी भी संस्था को ऐसी सामग्री को हटाने का पूरा अधिकार है. डिग ने भी ऐसी सामग्री को हटा दिया था व उन उपयोक्ताओं पर प्रतिबंध लगा दिया था. अब ये जुदा बात है कि हजारों लोगों के दबाव के आगे डिग को अपना वो कदम पीछे खींचना पडा था.

परंतु यह प्रतिबंध क्या फलदायी है?

नहीं.

चूंकि नारद का कार्य सिर्फ चिट्ठों की उपस्थिति बताना है और उसकी कड़ी देना है, अतः यह प्रतिबंध किसी काम का नहीं है. जब तक कि वह चिट्ठा इंटरनेट से उसके उपयोक्ता द्वारा खुद या वेब-सेवा प्रदाता द्वारा नहीं मिटा दिया जाता, उसका वजूद इंटरनेट पर रहेगा अतः ऐसे किसी भी प्रतिबंध के कोई मायने नहीं है. लोग-बाग़ ऐसी सामग्री के लिंक झपट्टा मारकर लेते-देते हैं और ऐसी सामग्री के पाठक नियमित पाठकों से दसियों गुना ज्यादा होते हैं.

नारद पर हो हल्ले के पीछे क्या कारण हैं?

दरअसल, एक नए चिट्ठे को, जिसमें सामग्री कम होती है, उसे पाठक प्रदान करने का कार्य नारद करता है. नारद के कारण चिट्ठों को पाठक, क्लिक और पेज-लोड मिलते हैं. परंतु आपका चिट्ठा जब सामग्री से भरपूर हो जाता है, तो नारद के जरिए आने वाले पाठकों की संख्या दूसरे जरिए - मसलन नियमित सब्सक्राइब किए व गूगल खोज इत्यादि के जरिए आने वाले पाठकों की संख्या से बहुत कम हो जाती है. और, यकीन मानिए, जिस दिन आपके चिट्ठे में एक हजार से ऊपर सार्थक सामग्री युक्त पोस्ट होगी तो आपको नारद की आवश्यकता ही नहीं होगी.

उदाहरण के लिए, रचनाकार का हालिया 500 पृष्ठ-लोड का स्टेटकाउंटर एनॉलिसिस देखें. इसमें आप पाएंगे कि 500 पृष्ठ लोड में से सिर्फ 14 नारद के जरिए आए हैं. रचनाकार पर आज की वर्तमान स्थिति में प्रतिदिन 200 के आसपास पृष्ठलोड हो रहे हैं. जाहिर है, यदि आपके चिट्ठे में सामग्री है, प्रासंगिक सामग्री है तो आपके चिट्ठे को नारद की उतनी आवश्यकता नहीं है. परंतु नए चिट्ठों को अनिवार्य रूप से नारद की आवश्यकता है. उन्हें अपना पाठक आधार बनाने में सामग्री जोड़ने में समय लगेगा. और, शायद इसीलिए नारद पर जब एक नए चिट्ठे को उसकी असंयत, अशिष्ट भाषा के कारण प्रतिबंधित किया गया तो तमाम तरफ़ से विरोध और विरोध के विरोध में सुर उठे.

इस बीच, एक अच्छी बात ये हुई कि उस तथाकथित अशिष्ट भाषा युक्त चिट्ठा-पोस्ट को उसके लेखक ने अपने चिट्ठास्थल से हटा दिया. और, संभवतः प्रतिबंध लगाने का यही उद्देश्य भी था. उम्मीद है, भविष्य में वह चिट्ठा नारद पर पुनः शामिल हो जाएगा. प्रतिबंध कहीं पर भी कोई जन्म-जन्मांतर के लिए नहीं लगाया जाता है.

यहाँ यह बताना भी समीचीन होगा कि जिस चिट्ठाप्रविष्टि को लेकर विवाद हुआ वह असग़र वजाहत की कहानी शाह आलम कैम्प की रूहें को लेकर हुई, जो कि वास्तव में दुखद है. वास्तव में शाह आलम कैम्प की रूहें नाम की कहानी में कोई दर्जन भर छोटे-छोटे वर्णन हैं, जिन्हें किसी चिट्ठे पर अलग-अलग कर शरातरपूर्ण ढंग से प्रकाशित किया गया, और एकांगी पठन-पाठन में निश्चित ही वे किसी खास वर्ग को अप्रिय लगेंगे. और उस चिट्ठा प्रविष्टि का शायद उद्देश्य भी यही था. शाह आलम कैम्प की रूहें रचनाकार में पहले ही प्रकाशित हो चुकी है. यह कहानी असगर वजाहत के कहानी संग्रह - मैं हिन्दू हूं की अंतिम व अत्यंत मार्मिक कहानी है. अकसर रचनाकार अपनी कहानी कह देते हैं और पाठक को ये सोचने के लिए छोड़ देते हैं कि वह क्या समझता है. पर इसके लिए पाठक को संपूर्ण कहानी, संपूर्ण रचना को पढ़ना जरूरी है. मात्र कुछ हिस्से पढ़ने पढ़वाने से पाठक भ्रमित हो जाता है. जैसा कि इस प्रकरण में हुआ था. साथ ही, रचनाकार - असग़र वजाहत ने आगे की भी बातें कहने की कोशिश की है यदि आप समझ सकें. शाह आलम का नाम दिल्ली के नानक गुरुद्वारे कैम्प या छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित गांव के कैम्प का नाम के प्रतीक रूप में रख कर और पात्रों के नाम अपने स्थान-रूप-और-धर्म के नाम रख देखें. वे आपके ही मोहल्ले के, आपके साथ हुए हादसे की सच्ची कहानी होंगे. इसमें किसी खास वर्ग या समुदाय का उल्लेख तो बस इशारा मात्र है. यह कहानी हर समुदाय, हर वर्ग का प्रतिनिधित्व करती है. प्रियंकर ने जब इस कहानी को अपने पूरे रूप में पढ़ा - तो उनका कहना है कि उनकी आंखों में आँसू आ गए. आपकी सुविधा के लिए इस कहानी को रचनाकार पर यहाँ पर अपने संपूर्ण रूप में पुनः प्रकाशित किया जा रहा है. वैसे, यह कहानी अपने संपूर्ण रूप में रचनाकार में इस संग्रह पर उपलब्ध है. जिस सलेक्टिव तरीके से इस रचना को आधे अधूरे रूप में शरारत पूर्ण ढंग से प्रस्तुत किया गया, और प्रतिरोध स्वरूप अजगर ... नाम से घटिया लघुकथा पैरोडी पोस्ट की गई ये सब दुःखद और शर्मसार है. परंतु ये भी मान लें कि ऐसी घटनाएँ दिन ब दिन बढ़ेंगी हीं. दिन दूनी रात चौगुनी बढ़ेंगी. चार समझदार होते हैं तो चालीस और चार सौ ना-समझ. आप हर किसी को समझाने का ठेका नहीं ले सकते. हिन्दी इंटरनेट पर नासमझों की अपनी अलग दुनिया होगी. ये बात जुदा है कि शुरूआती चर्चाओं के बाद इन्हें कोई नहीं - जी हाँ, कोई भी नहीं पूछेगा.

अब वापस अपने धंधे पर आते हैं. नारद अपने कलेवर, अपनी सुविधा के कारण खासा लोकप्रिय है. नारद से पहले देबाशीष का बनाया चिट्ठा-विश्व था - हिन्दी का पहला ब्लॉग एग्रीगेटर जो कि वर्तमान नारद से भी ज्यादा बेहतर, ज्यादा सुविधाओं युक्त था, बहुभाषी था, और अपने समय में वह नारद से ज्यादा लोकप्रिय था और रहता. परंतु चूंकि मुफ़्त की सुविधा पर होस्टेड था और सेवा-प्रदाता के बिजनेस मॉडल पर नहीं होने से वह वित्तीय कठिनाइयों से जूझता अपनी 500 - सर्वलेट एक्सेप्शन की बेमौत मौत मर रहा है. नारद की आरंभिक संरचना के समय मैंने साथियों को नारद के बिजनेस मॉडल की ओर इंगित भी किया था. :) और, साथी इसे स्वस्थ प्रतियोगिता की भावना से लें - क्या यह चिट्ठा-विश्व को पुनर्जीवित करने का उचित समय नहीं है?

अभी बढ़िया काम कर रहे ब्लॉग एग्रीगेटरों में पीयूष प्रतीक का हिन्दीब्लॉग्स डॉट कॉम भी है, जिसे मैंने सब्सक्राइब किया हुआ है, और जिसमें किसी चिट्ठे पर कोई प्रतिबंध नहीं है - सेक्स-क्या जैसे चिट्ठों पर भी - क्योंकि ऐसा हिन्दीब्लॉग्स डॉट कॉम की सेवा शर्तों में शामिल ही नहीं है. हिन्दी चिट्ठे एवं पॉडकास्ट नाम का ब्लॉगर आधारित हस्तचालित एग्रीगेटर भी है - जिसमें भी प्रतिबंध इत्यादि की समस्या नहीं है. एक नया, स्वचालित चिट्ठा एकत्रक जाल पर उपलब्ध कुछ मुफ़्त वेब सेवाओं का इस्तेमाल कर बनाया गया है जिसका विस्तृत जिक्र यहाँ पर किया गया है - वह भी ठीक-ठाक ही काम कर रहा है - और उसमें ऐसी तकनीक है ही नहीं कि किसी चिट्ठे को प्रतिबंधित किया जा सके. कुछेक हिन्दी ब्लॉग एग्रीगेटर - चिट्ठा एकत्रक बीच में उभरे थे, परंतु वे चूंकि वे दूसरी सेवाओं के साथ जुड़े थे अतः अधिक ध्यान नहीं दिए जाने के कारण उतने प्रचलित नहीं हो पाए.

सार यह कि प्रतिबंध लगाने व हटाए जाने का जो अनावश्यक हो हल्ला तमाम ओर से किया जा रहा है वह ग़ैर जरूरी तो है ही, उसमें कोई दम नहीं है. नारद को हर चिट्ठे को जिसे वह अपने तईं आपत्तिजनक समझता है, प्रतिबंध का अधिकार है. उसकी अपनी सेवा शर्तें हैं. परंतु यह भी, कि नारद के प्रतिबंधित किए जाने से किसी चिट्ठे के स्वास्थ्य में कुछ असर पड़ेगा - तो यह भी बहुत बड़ी भ्रांति है. सिर्फ और सिर्फ उस विशिष्ट चिट्ठे के चिट्ठापाठकों की संख्या भर में कमी आएगी - या शायद नहीं आएगी - सेक्स क्या के स्टैट्स किसी ने देखे हैं क्या? वह भी तो नारद पर प्रतिबंधित है. और, यकीन मानिए, जनता प्रतिबंधित वस्तुओं के पीछे जरा ज्यादा ही दीवानी होती है!

Technorati tags: , , , , , , , , , , , ,


तुझे मिर्ची लगी तो मैं क्या करूं?

मैं अपने ज्ञान और स्वज्ञान के भरोसे अपने ब्लॉग पोस्टों में, अपने हिसाब से, अपने विचार से, स्तरीय सामग्री ही लिखता हूं. मेरे ये पोस्ट दूसरों को मेरे अज्ञान, अल्पज्ञान से भरे कूड़ा लगते हैं तो इसमें मैं क्या करूं? मैं अपने ब्लॉग में अपने संपूर्ण होशोहवास व ज्ञान के हिसाब से, अपने हिसाब से सही-सही ही लिखता हूँ. दूसरों को ये भले ही गलत लगें. अब मैं दूसरों के हिसाब से तो नहीं लिख सकता. ....क्योंकि ये ब्लॉग मेरा है.

मेरे विश्वास, मेरी धारणाएँ मेरे अपने हैं. मैं उन्हें किसी के कहने से और किसी वाजिब-ग़ैर-वाजिब तर्क-कुतर्क से तो नहीं बदल सकता और मैं अपने उन्हीं विश्वासों और उन्हीं धारणाओं की बदौलत और अकसर उन्हें पुख्ता करने के लिए, दुनिया को बताने-समझाने के लिए, अपने ब्लॉग पोस्ट लिखता हूँ. मैं दूसरों के विश्वास और दूसरों की धारणाओं के अनुसार तो नहीं लिख सकता. ....क्योंकि ये ब्लॉग मेरा है.

मैं अपनी भाषा, अपनी शैली में लिखता हूँ. अपने ब्लॉग पोस्ट पर किसी को गाली देता हूँ या किसी की वंदना करता हूँ तो इससे किसी को क्या? मैं अपने ब्लॉग पर छिछली उथली भाषा का इस्तेमाल कर भाषा पर बलात्कार करने को या शुद्ध-सुसंस्कृत भाषा लिखने को स्वतंत्र हूँ. सरल भाषा में लिखता हूँ या जटिल इससे किसी को क्या सरोकार? मैं अपनी उथली-छिछली-खिचड़ी भाषा में लिखता हूँ. मैं दूसरों के कहे अनुसार तथाकथित सभ्य बनकर नहीं लिख सकता. ...क्योंकि ये ब्लॉग मेरा है.

अपडेट - मैं किसी भी विषय पर, चाहे उस पर मेरी जानकारी हो या न हो, बड़े ही एक्सपर्ट तरीके से, प्रोफ़ेशनल अंदाज में, बड़ी गंभीरता से, दमदारी से लिख सकता हूँ. वह भी अपने एंगिल से, अपने तर्कों-कुतर्कों से सही ठहराते हुए. मैं आधे-अधूरे और अपने हिसाब से संपादित उद्धरणों के द्वारा अपनी किसी भी बात को सत्य सिद्ध कर सकता हूँ. .... क्योंकि ये ब्लॉग मेरा है .

अब, मेरे लेखों से, मेरे ब्लॉग पोस्टों से किसी को मिर्ची लगी तो मैं क्या करूं?


**-**

व्यंज़ल

**-**


सभ्य बनने की कोशिश यूँ मेरी भी पूरी थी

तेरे शहर की फ़िजाँ में कोई बात रही होगी


ये तो कबूल लो पार्टनर कि इस रुसवाई में

हमेशा की तरह जरा सी कोई बात रही होगी


दंगे-फ़साद यूं मुफ़्त में कहीं भी नहीं होते

मानो न मानो कोई न कोई बात रही होगी


सब ने यहाँ पे सी लिए हैं होंठ अपने अपने

पता कैसे चले कि क्या कोई बात रही होगी


हमें भी कोई शौक नहीं था बतंगड़ का रवि

बात पे निकली थी तो कोई बात रही होगी


**-**

Tag ,,,

ब्लॉगर पर अब सुविधाओं की झड़ी लगने वाली है. कम से कम ऐसा तो प्रतीत हो ही रहा है. गूगल ब्लॉगर अब अपने ब्लॉग प्लेटफ़ॉर्म पर अन्य तमाम वेब अनुप्रयोगों व सुविधाओं को अंतर्निर्मित प्रस्तुत करने जा रहा है. इस सुविधा की पहली कड़ी के रूप में उसने ब्लॉगर इन ड्रॉफ़्ट प्रस्तुत करने की घोषणा की है.

ब्लॉगर इन ड्रॉफ़्ट - एक नए ब्लॉगर संस्करण का बीटा स्वरूप जैसा ही है जो कि कुछ प्रारंभिक ब्लॉगर खाता धारकों को जांच परीक्षण के लिए उपलब्ध है. अभी इसमें वीडियो अपलोड की सुविधा जोड़ी गई है. यानी कि अब आप अपने ब्लॉग पोस्ट में यू-ट्यूब और ब्लिंक जैसी सुविधाओं के बगैर, सीधे ही वीडियो अपलोड कर सकते हैं - ठीक वहीं पर जहाँ आप अपना पोस्ट लिखते हैं.

यह परीक्षण ऑपेरा ब्राउज़र में असफल रहा. फ़ॉयरफ़ॉक्स में वीडियो अपलोड अत्यंत धीमा था. क्या यह नेटवर्क की समस्या थी या ब्लॉगर इन ड्रॉफ़्ट की? कहा नहीं जा सकता. 16 मेबा के 30 सेकण्ड के वीडियो को अपलोड होने में आधे घंटे से भी अधिक का समय लग गया.

मगर फिर, यह है तो जांच - परीक्षण ही. पूर्ण संस्करण उम्मीद है चलेगा. और खूब चलेगा. हर संभव उपकरण में डिजिटल कैमरा और डिजिटल वीडियो कैमरा अंतर्निर्मित होने के फलस्वरूप, कोई साल दो साल बाद आधी से ज्यादा ब्लॉग पोस्टें वीडियो के जरिए ही हुआ करेंगीं. इसीलिए, ब्लॉगर में वीडियो अपलोड की आंतरिक सुविधा की आवश्यकता तो महसूस की ही जा रही थी.

Tag ,,,

वेबारू : इंटरनेट खोज का नया आयाम

एक अनुमान के अनुसार इंटरनेट पर 20 अरब जालपृष्ठ हैं जिनका कुल सम्मिलित आकार लगभग 10 लाख जी.बी. है। इसे खंगालना आसान नहीं और सर्च इंजन, निर्देशिकायें और न जाने किन किन और माध्यमों से हम इसकी थाह पाने में जुटे रहते हैं। जाहिर है कि यह खोज आनलाईन रहकर ही करना संभव है।

वेबारू एक विंडोज़ एप्लीकेशन है जो आपको किसी भी वेब ब्राउजर पर ऑफलाइन खोज तथा ब्राउज़ करने की सुविधा देता है।

ताज़ातरीन इंटरनेट स्टार्टअप वेबारू ने एक ऐसा अनोखा मुफ्त उत्पाद प्रस्तुत किया है जो विशिष्ट अल्गोरिद्म यानि समीकरण का प्रयोग कर इस 10 लाख गीगाबाइट डाटा को महज़ 40 गीगाबाइट में कंप्रेस यानि संपीडित कर विषयवार टुकड़ों में विविध वेब पैकों की रचना करता है जिन्हें पर्सनल कम्प्यूटरों के हार्डडिस्क, पीडीए और स्मार्टफ़ोनों में संचित करना संभव होगा। इन वेब पैकों में संपीडित जानकारी में से इंटरनेट की तमाम सामग्री तीव्र गति से, ऑफलाइन रहते हुए ढूंढी जा सकती है। समय-समय पर इस डाटा को अपडेट यानि अद्यतित भी किया जा सकता है। वेबारू की इन वेब पैकों को विविध मीडिया, जैसे कि सीडी रॉम, मेमोरी स्टिक, बाहरी हार्डडिस्क इत्यादि के जरिए भी वितरित किए जाने की योजनाएँ हैं।



वेबारू की स्थापना की है सफल एंटरप्रेन्योर तथा प्रोग्रामर राकेश माथुर ने, जिनके पहले के तीन स्टार्टअप भी काफी सफल रहे थे। कई वर्ष पूर्व "जंगली कॉर्प" (जिसे बाद में अमेज़ॉन ने खरीदा) की सफलता के दौरान कंपनी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सी.ई.ओ.) राकेश ने एक मार्केटिंग स्टंट में स्त्रियों वाली पोशाक पहन कर बहुत ध्यान आकर्षित किया। इसे "सफलता हेतु क्रॉस-ड्रेसिंग" का नाम दिया गया, और 1998 के बेहतरीन जनसंपर्क अभियान के रूप में पहचाना गया।

राकेश माथुर: क्रॉसड्रेसिंग फ़ॉर सक्सेसनिरंतर ने राकेश से पूछा कि "क्रॉसड्रेसिंग फ़ॉर सक्सेस" अभियान का विचार उन्हें कैसे आया तो राकेश का कहना था, "अगर नतीजों के साथ जीने को तैयार हों तो एन्टरप्रेन्योर्स को सफलता प्राप्ति के लिये हर संभव काम करने को तैयार रहना होगा ही। इस स्टंट के जरिए जंगली को काफी शोहरत मिली और देखिये मुझे 8 सालों बाद भी क्रासड्रेसिंग के बारे में पूछा जा रहा है! मैंने उस परिधान को जंगली कम्पेरिज़न शॉपिंग इंजिन का इस्तेमाल कर तकरीबन $150 डालर में खरीदा था और उससे पब्लिक रिलेशन का अब तक का सर्वश्रेष्ठ परिणाम मिला।" वाकई एक ड्रेस से कार्पोरेट सफलता का यह एक विशिष्ट उदाहरण होगा!

और एक भारतीय नेटप्रेन्योर होना क्या मायने रखता है राकेश के लिये? उनका जवाब था, "इंटरनेट एंटरप्रेन्योर्स अब हर क्षेत्र में दिखाई देते हैं, और यह वैश्विक परिदृश्य से अपेक्षित भी है। मैं भारत में वेबारू का विकास करते हुये रोमांचित हूँ। यदि एस्तोनिया एक स्काईप बना सकता है तो...भारत की सीमाएँ वास्तव में अनंत हैं।" हम भी सहमत हैं राकेश!

वेबारू दरअसल एक तरह का विंडोज़ एप्लीकेशन यानि अनुप्रयोग है जो आपको किसी भी वेब ब्राउजर पर ऑफलाइन खोज तथा ब्राउज़ करने की सुविधा देता है। परंतु यह सुविधा आपको या तो विशेष तौर पर तैयार किए गए वेब पैक के जरिए (जिसे कम्प्यूटर हार्डडिस्क पर पहले से भंडारित किया जाता है) या निर्दिष्ट जाल स्थलों के वेबारू द्वारा पहले से डाउनलोड किए हुए व आपके कम्प्यूटर के हार्डडिस्क पर भंडारित किए गए पृष्ठों में ही मिलती है।

वेबारू अनुप्रयोग का बीटा संस्करण तकरीबन 5 मे.बा. का डाउनलोड है। इसके विविध विषयों पर केंद्रित सैकड़ों मेगाबाइट के वेब पैकों को पृथक रूप से डाउनलोड करना होगा, जैसे कि स्वास्थ्य संबंधी वेब पैक 186 मे.बा. का है, विकिपीडिया का समग्र डाटा 8 जी.बी. वेब पैक में समाया हुआ है और मुम्बई का वेब पैक 26 मे.बा. का है। यह एक मुफ्त उत्पाद है, तो कमाई का ज़रिया बनेंगे सन्दर्भ आधारित यानि कंटेस्टचुअल विज्ञापन होंगे जो ढूंढे गए तथा ब्राउज़ किए गए पृष्ठों में अंतर्निहित होंगे। वेबारू को बनाने वाली अभियांत्रिकी टोली में अधिकांशतः भारतीय हैं।

लेखक ने पाया कि मुम्बई वेब पैक प्रयोग करने पर मुम्बई शहर से संबंधित तमाम चित्रमय जानकारियाँ ऑफलाइन ही उपलब्ध हो जाती हैं। हाँ, बहुत सी अतिरिक्त जानकारियाँ उपलब्ध नहीं हो पातीं पर उनके लिए वेबारू आपको ऑनलाइन ढूंढने का विकल्प प्रदान करता है। अभिव्यक्ति तथा छींटें और बौछारें की सामग्रियों को वेबारू के जरिए ऑफलाइन डाउनलोड कर सामग्रियों की खोज करने की कोशिश की गई तो यह औजार जाल कड़ियों के सिर्फ एक कड़ी भीतर तक जाकर ही सामग्रियों को डाउनलोड कर सका। लिहाजा दोनों ही जाल स्थलों में प्रारंभ के 70-80 पृष्ठ ही डाउनलोड हो पाए। इस लिहाज से यह निर्दिष्ट जाल स्थलों की सामग्रियों को ऑफलाइन ढूंढने में प्रायः असमर्थ ही रहा। वेबारू अगर किसी जालस्थल का संपूर्ण वेब पैक तैयार करे तो संभवतः उसमें ऐसी समस्या न आए। इसी तरह, उपयोक्ता द्वारा स्वयं का या सामाजिक वेब पैक तैयार करने का विकल्प भी नहीं है। वेबारू ने निरंतर को बताया कि ऐसी मांग पहले भी आई है और वे इस पर विचार कर रहे हैं। सामग्री से जुड़े कॉपीराईट के मसले भी जुड़े हैं और यह स्पष्ट नहीं कि वेबारू ऐसी सामग्री कैसे पेश कर पायेगा।

ऑफ़लाइन ब्राउजर की कल्पना ब्राउज़रों के इतिहास के साथ से ही चली आ रही है। वेबारू इसे नए ढंग से परोसने की कोशिश कर रहा है। वेबारू के दल से बातचीत के बार निरंतर ने यह पाया कि उनका मुख्य ध्यान मोबाईल उपभोक्ताओं पर है और भारत जैसे देशों में, जहाँ अच्छी कनेक्टीविटी के अभाव के कारण उत्पाद चल तो सकता है पर बैंडविड्ट्थ भी बड़ी समस्या है, वे शायद छोटे वेब पैकों पर ध्यान केंद्रित करेंगे।

जो भी हो, यदि वेबारू के जरिए आपके पास सिर्फ एक डीवीडी में विकिपीडिया की संपूर्ण सामग्री उपलब्ध हो जाए, या फिर एक सीडी में संपूर्ण अभिव्यक्ति की सामग्री उपलब्ध हो जाए, तो आपको बिना ऑनलाइन हुए इंटरनेट की सामग्री का इस्तेमाल लायक भंडार प्राप्त तो हो ही जाता है। सौदा बुरा नहीं है!

सर्च अनप्लग्ड

वेबारू का नारा है "सर्च अनप्लग्ड", यानी खोज बेलगाम। वेबारू से जुड़े कुछ प्रश्नों के उत्तर पाने के लिये निरंतर ने वेबारू की टीम से संपर्क किया। प्रस्तुत हैं साक्षात्कार के कुछ महत्वपूर्ण अंश।

आजकल हम इंटरनेट की बढ़ती पहुँच की बात करते हैं। फिर आप की कंपनी ने ऐसे उत्पाद के बारे में कैसे सोचा जो एक तरफ तो इंटरनेट के घटिया कनेक्शनों से त्रस्त लोगों के लिए बना है, और दूसरी तरफ वेब पैकेट डाउनलोड करने के लिए बढिया बैंडविड्ट्थ की भी उम्मीद रखता है?

इन दोनों निष्कर्षों में कोई विरोधाभास नहीं है कि इंटरनेट का बेतार संपर्क (वायरलैस कनेक्टीविटी), आम तौर पर बेकार होता है, और तारयुक्त संपर्क (वायर्ड कनेक्टीविटी), आम तौर पर बढ़िया। विस्तार से कहें तो, बेतार नेटवर्क न तो सर्व-व्याप्त हैं (कवरेज बहुत सीमित है), न तेज ( 3G भी वेब-खोज के लिए धीमा है) और न ही सस्ता (उदाहरणतः EVDO महीने के अस्सी डॉलर लेता है), और फिलहाल इस में सुधार होने की भी उम्मीद नहीं है। वेबारू का लक्ष्य है मोबाइल यन्त्रों तक वैसा ही बढ़िया वेब अनुभव पहुँचाने की, जिस के हम तारयुक्त यन्त्रों पर आदी हो चुके हैं। इसी तरह के यन्त्रों में आइ-पॉड भी है, जो इंटरनेट से सामग्री कैश यानि इकट्ठा कर बाद में उसे प्रयोग करता है -- साफ तौर पर लोग इस तरह की प्रणाली को पसंद करते हैं।

प्रतीत होता है कि आप के उत्पाद का मूलमन्त्र है कंप्रेशन यानि संपीडन। पर गूगल जैसे खोज-इंजन के भीमकाय डाटा को देखा जाए तो यह कितना असरदार होगा?

हमारे उत्पाद का मूलमन्त्र है डाटा का सही चुनाव, न कि कंप्रेशन। हम पूरे विश्वजाल में क्रॉल कर गिने चुने पृष्ठों को चुनते हैं और उन्हें स्थानीय रूप से डाउनलोड करते हैं। औसतन हर 25,000 रेंगे गए पृष्ठों में से एक ही चुना जाता है। वेबारू की तकनीक का निरालापन इस में है कि हमारा चयन अल्गॉरिद्म बेहतरीन सामग्री-घनत्व के लिये बना है, यानी ज्यादा से ज्यादा विषयों तक पहुँचना और न्यूनतम फाइल आकार में सर्वोत्तम गुणवत्ता वाली सामग्री एकत्रित करना।

आप के उत्पाद द्वारा डाउनलोड की गई सामग्री ऑफलाइन पठन के लिए जिन वेब पैकों में रखी जाएगी, उस के लिए 40 गीगाबाइट की अतिरिक्त जगह दरकार होगी। आप प्रयोक्ता से 1 गिगाबाइट रैम और ब्रॉडबैंड संपर्क की भी उम्मीद कर रहे हैं। यह भारत जैसी बाजा़र में यह कुछ ज़्यादती की बात नहीं हुई? और धनी देशों में किसी को वेबारू की ज़रूरत ही क्या है?

हमारे छोटे वेब पैक 10 मैगाबाइट से शुरू होते हैं, और बड़े से बड़े 40 गीगाबाइट तक हो जाते हैं। हमारे उत्पाद विश्व के विभिन्न भागों में प्रयोग होंगे और विभिन्न प्रकार के यन्त्रों पर। भारत जैसे बाज़ार में प्रयोक्ता हमारे छोटे वेब पैकों का लाभ उठा पाएँगे। धनी देशों में भी लोग वेबारू प्रयोग करते हैं क्योंकि, जैसा कि हमने पहले कहा, बढ़िया बेतार संपर्क की वहाँ भी कमी है।

वेबारू उन पृष्ठों को कैसे देखता है जो डाइनमिक सामग्री होती हैं या स्क्रिप्टों के पीछे छिपे होते हैं? आजकल के जालपृष्ठों में यह सामान्य सी बात है।

वेबारू स्थिर (स्टैटिक) एचटीएमएल पृष्ठों के बढ़िया काम करता है, जाल पर ज्यादातर पृष्ठ ऐसे ही हैं। हम यह भी जानते हैं कि कुछ पृष्ठों के लिए इंटरनेट संपर्क ज़रूरी है, और उन्हें ऑफलाइन नहीं पढ़ा जा सकता। यही बात कई खोज-इजनों पर भी लागू होती है, जो अभी भी कूटशब्दों द्वारा सुरक्षित या अन्य डाइनैमिक सामग्री को नहीं खोज पाते। संक्षेप में, उत्पाद का महत्व इस बात से है कि यह किए गए वादे पूरे करता है या नहीं, और प्रयोक्ताओं के लिए उपयोगी है या नहीं। हमारा विश्वास है कि जितनी सामग्री वेबारू लोगों तक पहुँचाएगा, उस कारण यह बहुत उपयोगी सिद्ध होगा।

मुम्बई के लिए विशेष तौर पर तैयार वेबारू पैक पर ढूंढने के दौरान बहुत बार वेबारू द्वारा सामग्रियों को देखने हेतु ऑन-लाइन देखने की सलाहें दी गई। क्या यह उपयोक्ताओं में खीज पैदा नहीं करेगा जो वेबारू के जरिए इंटरनेट की सामग्री को पूर्णतः ऑफ-लाइन देखने की आशा करते हैं? वेबारू में कितनी ‘गहराई' या ‘स्तर' तक डाउनलोड सामग्रियाँ उपलब्ध रहेंगीं?

मोबाइल पर वेब के प्रयोग की बात करें तो ऑफलाइन स्थिति में खोज या ब्राउज़ बिल्कुल ही न कर सकने की स्थिति की तुलना में तो यह काफी बेहतर अनुभव होगा। वेबारू पर उपलब्ध कड़ियों को नीले रंग से दर्शाया जाता है ताकि उपयोक्ता यह जान सके कि जानकारी ऑफलाइन उपलब्ध होगी या नहीं। वेबारू डाउनलोड कितने लेवल या "गहराई" तक करे यह सामग्री पैक पर निर्भर करेगी - जैसे कि विकि जैसे विशिष्ट पैक में आनलाईन होने की ज़रूरत नहीं होगी।


अतिरिक्त सामग्री व सहयोग - देबाशीष चक्रवर्ती व रमण कौल

सीधी बात कहने का क्या किसी में दम नहीं?


एड्स के बारे में एक तथ्य से शायद हर पढ़ा लिखा परिचित हो, और वह है "जानकारी ही बचाव है"। अलबत्ता जानकारी क्या होनी चाहिये यह बिना लागलपेट परोसने में हर माध्यम की घिग्घी बंध जाती है। हमारे समाज में खुले तौर पर और वह भी यौन विषयों पर बात करना टेढ़ी खीर है। चाहे टीवी हो, रेडियो या फिर प्रिंट माध्यम, यह हिचक साफ दिखती है। भारत के एक लोकप्रिय हिन्दी दैनिक में सरकारी विज्ञापन की बानगी देखें,

"कॉन्डोम जरूरी है। कई बार टीवी पे देखा है। अखबारों में पढ़ा है। लेकिन कभी, किसी ने मुझे खुल कर, इसके बारे में कुछ नहीं समझाया। एक दिन जब मैं कॉन्डोम के बारे में छुप कर पढ़ रहा था तो बड़े भैया ने देख लिया। उन्हें सब झट से समझ आ गया। उन्होंने मुझे कॉन्डोम के बारे में अच्छी तरह समझाया। एचआईवी / एड्स और सेक्स के बारे में भी खुल कर बात की। दाद देनी पड़ेगी भैया की। उनकी हिम्मत की। काश सबको ऐसे ओपन-माइंडेड भैया मिलें!"

"मनोरंजक कार्यक्रमों के द्वारा दोहरा फायदा है क्योंकि मनोरंजन के द्वारा शिक्षा मिले तो बात समझ भी बेहतर आती है और देर तक याद भी रहती है।"

हम इस क्रियेटिव माध्यम की कुव्वत या रचनाधर्मिता कि बात अलग रखें तो बात अभी भी चाहरदिवारी के अंदर ही है। पढ़ने वाला अगर जागरूक न हो तो कॉन्डोम क्या है और इसका सही प्रयोग कैसे किया जाता है यह जानकारी इन महंगे विज्ञापन से नहीं मिलती (इसी अंक में पढ़ें - एड्स से कैसे बचा जाय)। सरकार ने बात करना शुरु किया पर असल जानकारी पाने का जिम्मा "ओपन-माइंडेड भैया" पर डाल दिया। तमाम मीडिया एड्स से बचने के ऐसे ही अस्पष्ट संदेशों से अटा पड़ा दीखता है। अलबत्ता यह पता नहीं कि ये विज्ञापन दर्शकों में एड्स के प्रति कोई जागरूकता जगा पाने में सक्षम भी हैं या नहीं।

एड्स जैसी अभूतपूर्व घटना के प्रति प्रतिक्रिया भी अभूतपूर्व होनी चाहिये। लोगों को जानकार बनाने के लिये हर संभव माध्यम और तरीके की भी सहायता लेनी चाहिये। और क्या संदेश कुछ मज़ाकिया ढंग से नहीं दिते जा सकते? थाईलैंड में एड्स एक्टीविस्ट और पूर्व काबिना मंत्री मेचाई वीरवैद्य, जो "काँडोम किंग" के नाम से लोकप्रिय हैं, ने हास्य, जिंगल जैसे अपरंपरागत तरीके से जागरूकता फैलाने का काम लिया। पर भारतीय विज्ञापन एजेंसिया भारत के पाठकों को रुख को देखते हुए ज्यादा रिस्क नहीं लेना चाहती, हास्य का शुमार तो दूर की बात है। निरंतर ने कई नामी विज्ञापन एजेंसियों से पूछा कि क्या वे हास्य विनोद को शामिल कर कोई कैंम्पेन बना चुके हैं या बनाने वाले हैं, पर केवल मुद्रा ने ही जवाब दिया और वह भी ना में।


"एक बढ़िया कार्यक्रम जो बढ़िया काम कर रहा है"

Om Puriलोकप्रिय अभिनेता ओम पुरी टी.वी धारावाहिक "जासूस विजय" में दर्शकों के साथ पारस्परिक बातचीत के एक अंश की मेज़बानी करते नज़र आते हैं जिसमें दर्शक केस को सुलझाने में जासूस विजय को भी पछाड़ने का प्रयास करते हैं। एक लिहाज़ से वे कार्यक्रम के सूत्रधार भी हैं। ओम का परिचित और सम्माननीय व्यक्तित्व दर्शक और शो के मध्य संवाद स्थापित करने में मदद करता है।

ओम दर्शकों को एड्स और एच.आई.वी के बारे में खुलकर बोलने और अपने सवाल उन तक भेजने को भी उत्साहित करते हैं। "यह एक बढ़िया कार्यक्रम है जो बढ़िया कार्य कर रहा है।", ओम पूरी कहते हैं, "मैं भारत में जहाँ भी गया, लोग जासूस विजय के बारे में जानते हैं। हाल ही में लद्दाख गया तो वहाँ देखा कि उत्सुक लोग हस्तचालित जनरेटर चलाकर भी यह कार्यक्रम देखते हैं"।

हालांकि यदाकदा कुछ ऐसे प्रयास हो जाते हैं जिनकी तारीफ करना भी ज़रूरी है। निरंतर एक ऐसे ही प्रयास की अनुशंसा करता है जो भारतीय राष्ट्रीय एड्स नियंत्रण (नेशनल एड्स कंट्रोल प्रोग्राम) यानि भारानी ने दूरदर्शन और बीबीसी वर्ल्ड सर्विस ट्रस्ट के साथ संयुक्त रूप से निर्मित किया है।

एड्स के विज्ञापनों का श्रोता वर्ग चाहे जो भी हो संदेशों से दुरुहता कम होगी और बात सीधे सादे तरीके से कही जाय जो "शिक्षा देने" जैसी न लगे तो गले उतरना आसान होता है। भारानी ने शायद यही सोचकर 15‍‌‍‍‍‍‍ से 40 साल के आयुवर्ग पुरुषों के लिये एक ऐसे ही कार्यक्रम की परिकल्पना की (यह आयुवर्ग यौनिक रूप से ज्यादा सक्रीय होता है और इनको एड्स का खतरा सर्वाधिक है)। इसके फलस्वरूप बी.बी.सी वर्ल्ड सर्विस ट्रस्ट ने दूरदर्शन पर प्रसारण हेतु दो टी.वी कार्यक्रम "जासूस विजय " और "हाथ से हाथ मिला " के रूप में शुरु किया देश का सबसे बड़ा एचआईवी एड्स सजगता कार्यक्रम।

जासूस विजय कार्यक्रम की रुपरेखा रोमांचक है, जिसमें ऐक्शन और ड्रामा के द्वारा एड्स की जानकारी, संक्रमण के मार्ग, गुप्त रोग की पहचान व इलाज और काँडोम के फायदों का संदेश दर्शकों तक पहुँचाया जाता है। और यह वाकई असरकारक रहा है, यह धारावाहिक हर महीने करीब 75 लाख लोगों द्वारा देखा जाता हैं। इतना ही लोकप्रिय है ट्रस्ट का बनाया दूसरा कार्यक्रम "हाथ से हाथ मिला" जिसे हर माह 40 लाख दर्शक देखते हैं। "हाथ से हाथ मिला" एक साप्ताहिक रियेलिटी शो के प्रारूप में प्रसारित होता है, हर कथा एक युवा सितारे पर केंद्रित होती है जिसने एड्स की जागरूकता बढ़ाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई हो। कार्यक्रम में बॉलीवुड के सितारों की भागीदारी भी उल्लेखनीय है।

पर मनोरंजक कारयक्रमों की वजह से कहीं निहित संदेश हंसी में ही इधर उधर तो नहीं हो जाते। बी.बी.सी वर्ल्ड सर्विस ट्रस्ट के युवा कार्यक्रमों की निर्माता प्रियंका दत्त कहती हैं, "मनोरंजक कार्यक्रमों के द्वारा दोहरा फायदा है क्योंकि मनोरंजन के द्वारा शिक्षा मिले तो बात समझ भी बेहतर आती है और देर तक याद भी रहती है।" जासूस विजय सीरियल के मुख्य पात्र विजय को एच.आई.वी पॉसिटिव चित्रित किया गया है, इससे अनायास ही दर्शकों में संक्रमित लोगों के साथ भेदभाव न करने का संदेश पुख्ता रूप में चला जाता है।

"हाथ से हाथ मिला" मे बड़े पैमाने पर स्थानीय समुदाय के लिये कार्यक्रम आयोजित किये जाते हैं, हाल ही के एक एपिसोड में फिल्म स्टार फरदीन खान ने युवा सितारे हसीना खारबीह को शिलाँग मे रॉक कॉनसर्ट के आयोजन का चैलेंज दिया ताकी मेघालय के युवा एड्स के बारे में जानें।

पर क्या वाकई ये कार्यक्रम उपाय कारगर हैं। व्यूअरशिप ठीक है पर क्या इनके असर को मापा तोला भी गया है। 2005 में बी.बी.सी ने एड्स के ज्ञान, रवैये और व्यवहारों पर एक फील्ड स्टडी की। 2001 के राष्ट्रीय बिहेवियरल सेंटीनल सर्वेलेंस सर्वे के बाद यह अब तक का सबसे बड़ा सर्वे था। इस सर्वे से पता चला कि, आम तौर पर, टीवी देखने वाले लोगों में, न देखने वालों कि तुलना में एड्स और इससे बचाव के तरीकों के बारे में जागरूकता ज्यादा थी और बी.बी.सी वर्ल्ड सर्विस ट्रस्ट के इन कार्यक्रमों के दर्शकों मे यह जागरूकता कहीं अधिक पायी गई।

बी.बी.सी जासूस विजय की तर्ज पर और कार्यक्रमों पर विचार कर रहा है बस किसी प्रायोजक की तलाश है। संस्थान ने दोनों कार्यक्रमों से संबंधित वेबसाईट्स का निर्माण भी किया है जहाँ पर इन कार्यक्रमों के अलावा एड्स की भी जानकारी उपलब्ध है। एक खास बात है इन जालस्थलों पर उपलब्ध एड्स पर छोटी सी बुकलेट, प्रियंका ने बताया कि यह बुकलेट अब तक 56,000 से ज्यादा लोगों को डाक से भेजी जा चुकी है।

अतिरिक्त सामग्री व सहयोग - देबाशीष चक्रवर्ती

स्पाउस - शादी का सच: दुहराया वक्तव्य



पेंगुइन इंडिया द्वारा शोभा डे की अंग्रेज़ी पुस्तक ‘स्पाउसस्पाउस' का हिन्दी अनुवाद अभी हाल ही में प्रकाशित किया गया है। अनुवाद वैसे तो ठीक-ठाक है, परंतु साफ़ झलकता है कि पुस्तक एक ‘अनुवाद' ही है। 150 रुपयों की पुस्तक को पेंगुइन ने बढ़िया गेटअप और अच्छे, मित्रवत्-पठन प्रारुप में जारी किया है। काग़ज रिसायकल्ड लगता है, मगर है उम्दा श्रेणी का।

रहा सवाल पुस्तक की ‘सामग्री' का, तो डेल कॉर्नेगी और दीपक चोपड़ा के लिखे व्यक्ति-सुधार वाले पुस्तक जब लाखों में बिक सकते हैं, तो शोभा डे की विवाह-सुधार की पुस्तक क्यों नहीं। शायद यही कारण रहा होगा शोभा डे के पास इस पुस्तक को लिखने का - जिनका अपना खुद का प्रथम विवाह घोर असफल रहा था।

स्पाउस के हर पृष्ठों पर आपको प्रवचन मिलेंगे। अपने प्राक्कथन में ही शोभा डे खुद की कहानी कुछ यूँ लिखती हैं-

"सालों पहले, डे (शोभा की दूसरी शादी के, वर्तमान पति) ने एक बार कहा था कि सलवार-कमीज़ एकदम रसहीन पोशाक है। ‘यह तुम पर कोई असर नहीं छोड़ती,' एक महत्वपूर्ण कार्यक्रम के लिए निकलने के कुछ पल पहले उन्होंने इसे ख़ारिज करते हुए कहा। फिर क्या था! मैं तुरंत अपने कमरे में गई और साड़ी पहन आई। उस दिन के बाद मैंने सलवार-कमीज़ नहीं पहनी! हमारे मित्र अजीब बात मानते हैं। वे अकसर इस ‘विरोधाभास' पर टिप्पणी करते हैं कि वे मुझ जैसी महिला से यह उम्मीद नहीं करते कि मैं पुरुषों की इस पसंद से इत्तफ़ाक रखूं कि उनकी पत्नी को कैसा लगना चाहिए। सच कहूँ तो, उनकी ‘हैरानी' से मुझे हैरानी होती है! मेरे खयाल से ऐसा करना तो बहुत स्वाभाविक बात है। और इसमें कोई शर्मिंदगी भी नहीं है। अहम की लड़ाइयों को अन्य महत्वपूर्ण मुद्दों के लिए सहेज कर रखें। एक सलवार-कमीज़ के लिए अपनी शाम बर्बाद न करें।"

ऐसे बेकार के उपदेशों से किस का भला हो सकता है - सिवाय इस किताब की बिक्री के आंकड़ों के
यह बात तो हर पति-पत्नी को मालूम होती है। परंतु शामें इसी तरह की बहुत सी अन्य छोटी-छोटी बातों से ही बर्बाद होती रहती हैं। रिश्ते किसी किताब में लिखे नियमों व उसमें दर्शाए गए उदाहरणों से नहीं बनते-बिगड़ते। अगर ऐसा होता तो हर विवाह बंधन आदर्श बंधन होता चूँकि इस तरह की सैकड़ों किताबें बाजार में पहले भी बिकती रही हैं। विवाह बंधन के समय ही पति-पत्नी को एक दूसरे के प्रति प्रतिबद्ध और दयालु रहने की कसमें खिलाई जाती हैं। परंतु विवाह टकराव का दूसरा नाम बन जाता है। यही वजह है कि तमाम विश्व में समाज सुधारकों, वैवाहिक-परामर्शदाताओं का धंधा कभी मंदा नहीं पड़ा।

शोभा एक कदम आगे जाकर आपको सीधे-सीधे उपदेश देने लगती हैं। पूरी किताब में ऐसे फूहड़ उपदेशों की भरमार है। कुछ उपदेश आपकी खातिर उद्घृत करते हैं, और कोष्ठक में शोभा से स्पष्टीकरण मांगते हैं -

* अगर लड़ना ही है, तो कायदे से लड़ें। (कायदा पारिभाषित करेंगी शोभा जी?)
* झगड़ा साफ़ और उसी मुद्दे पर हो। (झगड़ा गंदा भी होता है, या गंदा ही होता है? झगड़ा साफ़ भी होता है यह तो अब पता चला। चलिए, आपकी दूसरी राय मान लेते हैं कि झगड़ा जब चालू करेंगे तो पुरखों की बातों को फिर शामिल नहीं करेंगे!)
* मुद्दों को उलझाएँ नहीं। झगड़ा पैसों को लेकर है, तो उसे पैसों पर ही रखें। बच्चों, सास-ससुर, कुत्ते या पड़ोसियों को इसमें न घसीटें। (ऊपर की पंक्ति में दी गई समझाइश अस्पष्टथी अतः यह पंक्ति वैसे भी जरूरी थी!)
* मन में एक रूपरेखा बना लें और एजेंडे के अनुसार ही चलें। एक झगड़े में उतनी ही बात तय हो सकती है। (आह! क्या बात है। पति-पत्नी का झगड़ा पति-पत्नी का नहीं, भारत-पाकिस्तान का हो गया। योजना बनाओ, प्लान बनाओ, एजेंडा बनाओ फिर झगड़ो। वाह! शोभा जी वाह! क्या बात है। आपकी मौलिक विचारधारा के कायल हो गए हम।)
* झगड़ा पूरा निबटाएँ - कुछ अनकहा न छोड़ें। कोई नतीजा निकलने तक झगड़ा करें, फिर वह किसी के भी पक्ष में क्यों न हो। (वाह! पति-पत्नी के आपसी रिश्ते सुधारने के लिए एक और मौलिक तरीका। झगड़ा तभी बंद करें जब किसी एक का सिर न फूट जाए या पत्नी मायके न चली जाए या पति पता नहीं क्या कर ले!)
* अपने झगड़ों की योजना बनाएँ, यह मुश्किल तो है, पर असंभव नहीं। (हा हा हा ... झगड़ों की योजना... सचमुच शोभा जी, आदमी अगर ठान ले तो कुछ भी संभव नहीं। परंतु यहाँ अच्छा होता कि आप अपनी कुछ योजनाओं की रूपरेखा उदाहरण स्वरूप देतीं, तो पाठकों का भला होता। वे दुनिया की एक नई तकनीक, एक नया विषय सीख लेते!)
* झगड़ों को निजी रखें। सबके बीच झगड़ने से बुरा कुछ नहीं हो सकता।
* अपने नियम तय कर लें और कभी भी मर्मस्थल पर चोट न करें। (परंतु आपने अभी ऊपर कहा है कि झगड़ा पूरा होते तक, परिणाम मिलते तक करें - यह दुहरी बात क्यों?)
* जरूरी हो तो रोएँ। आँसुओं को रोकना बेमानी है- किसलिए रोकें? (जरूरी? कैसे पता पड़ेगा कि अब रोना जरूरी है? कोई नियम कायदा कानून है क्या?)
* कभी आपा न खोएँ। बेकाबू होते ही आप अस्पष्ट और तर्कहीन हो जाते हैं। आपका पक्ष भी कमजोर हो जाता है।
* जब नियंत्रण खोने का खतरा हो, तो गिनती करें या कोई मंत्र पढ़ने लगें। जरूरी नहीं है कि कुछ धार्मिक मंत्र-प्रार्थना ही हो। पहाड़ा पढ़ सकते हैं। मूल बात यह है कि आप अपना ध्यान झगड़े से हटा कर किसी और चीज़ पर लगाएँ। (और, सामने वाले को जीतने का भरपूर मौका दे दें?)

जाहिर है, ऐसे बेकार के उपदेशों से किस का भला हो सकता है - सिवाय इस किताब की बिक्री के आंकड़ों के?

पर उपदेश कुशल बहुतेरे। ‘उपदेश', ‘कायदे' का भी तो हो! ‘स्पाउस' पढ़कर अपना वैवाहिक रिश्ता सुधारने के बारे में सोचने से तो अच्छा है कि उस पैसे से मियाँ-बीवी कोई फ़िल्म देख आएँ और कम से कम अपनी एक शाम तो सुहानी बना ही लें।

व्यंग्य

इंटरनेट बुराइयों की जड़ है!


मैं अपने पुराने दिनों को याद नहीं करना चाहता। तब इंटरनेट नहीं था, ईमेल नहीं था (और न ही पॉर्न साइटें थीं)। आज के शोध छात्रों के विपरीत, मुझे अपनी परियोजना फ़ाइलों को पूरा करने के लिए विद्यालय के ग्रंथालय तक नित्य दौड़ लगानी होती थी, सैकड़ों भारी भरकम पुस्तकों को उठापटक कर हजारों पृष्ठों में से मसाला खोजना होता था, टीप लिख-लिख कर रखना होता था, अपने प्रोफ़ेसर के साथ घंटों बैठकर दिमाग खपाकर प्रत्येक महत्वपूर्ण बात को दुबारा-तिबारा ढूंढ ढांढ कर लिखना होता था।

तब अगर आज की तरह मेरे पास इंटरनेट होता तो मुझे कहीं जाने की जरूरत ही नहीं होती। मैं अपने शोध विषय के कुछ शब्दों को लेकर गूगल पर कुछ खोजबीन करता और कम्प्यूटर तंत्र की सबसे बढ़िया ईजाद - ‘नक़ल कर चिपका कर' यानी कि कॉपी/पेस्ट के जरिए देखते ही देखते मेरा बेहतरीन, तथ्यपरक, मौलिक शोध ग्रंथ तैयार हो जाता। किसी तरह की कोई झंझट नहीं होती। आज के शोधार्थियों को तो आधुनिक युग का आशीर्वाद मिला हुआ है। आज उनके पास इंटरनेट है। गूगल है।

आज के शोधार्थियों को तो आधुनिक युग का आशीर्वाद मिला हुआ है। आज उनके पास गूगल है।
मैं किसी सूरत अपने पुराने दिनों को याद नहीं करना चाहता। पुराने दिनों में चिट्ठियों को बड़े ही सोचविचार कर लिखना होता था, दो चार बार तो उन्हें पढ़ना होता था और फिर आवश्यक बदलाव कर, डाकटिकट चिपकाकर उन्हें पोस्ट करना होता था। क्या पता किसी चिट्ठी में गलत भाषा या कुछ गलत लिख लिखा गया हो और सामने वाले को समस्या हो जाए? डाक के डब्बे के मुँह पर डालते समय भी अगर मुझे कुछ याद आता था तो वह पत्र फाड़ कर नए सिरे से फिर से अच्छी भाषा में अच्छी बात लिख कर चिट्ठी भेजता था। कई ख़तों से इत्र की खुशबु आती थीं जो सामने वाले अपना अभिन्न समझ कर पत्र में खुशबू लगाकर मुझे भेजते थे, परंतु उन्हें यह नहीं पता होता था कि मुझे हर किस्म के इत्र से एलर्जी है। मैं पत्रों के जरिए फैलने वाले एंथ्रेक्स किस्म के वायरस जन्य बीमारियों तथा बढ़ते आतंकवाद के चलते पार्सल बम के फोबिये से भी ग्रसित था। धन्य है इंटरनेट। इसने मेरी सारी समस्या का समाधान कर दिया है।

अब तो मुझे अपना पत्र लिखने और पत्र का प्रत्युत्तर देने के लिए लिफ़ाफ़े और डाकटिकट तो क्या, सोचने की जरूरत ही नहीं होती। अब मैं अपने कम्प्यूटर के ईमेल क्लाएंट पर ‘जवाब भेजें' बटन को क्लिक करता हूँ, एसएमएस जैसी संक्षिप्त किस्म की नई, व्याकरण-वर्तनी रहित, स्माइली संकेतों युक्त भाषा में संदेशों को लिखता हूँ, और ‘भेजें' बटन को क्लिक कर देता हूँ। मेरा ईपत्र दन्न से सामने वाले के कम्प्यूटर पर हाजिर हो जाता है।

वैसे भी, स्पैमों की मार से मर चुके ‘बेचारे' सामने वाले के पास आपके ईपत्र की भाषा और वर्तनी के बारे में सोचने का वक्त ही कहाँ होता है! वह आपके ईपत्र को पढ़ ले यही आपके लिए बहुत है। पहले मैं पत्र लिखने में कोताही करता था। तमाम झंझटें थीं। पत्र लिखो, सुधारो, लिफ़ाफ़े में डालो, चिपकाओ, टिकट चिपकाओ, लाल डिब्बे में डालो। अब ईपत्र तो मुफ़्त में उपलब्ध है बिना झंझट। लिहाजा हर संभव ईपत्र को अपने सभी जानने वालों को अग्रेषित करता रहता हूँ। मेरे इस काम में कुछ वायरस भी मेरा हाथ बटाते हैं जो मेरे नाम से कई परिचितों-अपरिचितों को अपनी ही प्रतिकृति युक्त ईपत्र भेजते रहते हैं।

अहा! इंटरनेट। जीवन आज से पहले इतना आसान कभी नहीं था। पहले मुझे अपने दोस्तों रिश्तेदारों के यहाँ उनसे मिलने - जुलने - बोलने - बताने - खेलने - गपियाने हेतु आवश्यक रूप से जाना होता था। कितना कष्टप्रद होता था भीड़-धूल-गड्ढे भरी सड़कों पर से गुजर कर अपने अनन्य के पास जाना। उन तक पहुँचते-पहुँचते सारा उत्साह ठंडा हो जाता था और मन में अपराध बोध-सा आ जाता था कि ऐ अनन्य मित्र हमने तेरी खातिर कितने कष्ट सहे! परंतु अब तो मुझे सिर्फ इंटरनेट से जुड़ा एक अदद कम्प्यूटर और एक वेबकैम चाहिये बस। अब मैं अपने ही कयूबिकल से ही विश्व के किसी भी कोने से किसी भी व्यक्ति से रूबरू बात कर सकता हूँ, उसके साथ रूबरू शतरंज खेल सकता हूँ और अगर सामने वाला दोस्त राज़ी हो तो कुछ दोस्ती यारी और प्यार रोमांस की भी बातें कर सकता हूँ - और यह सारा कुछ अपने कम्प्यूटर के कुंजीपट से! मैं एक साथ, चैट और मैसेंजर के जरिए दर्जनों लोगों से, दर्जन भर अलग अलग विषय पर, जो दर्जन भर अलग अलग जगह से होते हैं, एक ही समय में एक साथ बात कर सकता हूँ। और देश-काल-भाषा-संस्कृति और समय की सीमा से परे बातें करते रह सकता हूँ।

मैं तो अपने पड़ोसी से भी इंटरनेट चैट के जरिए बात करना पसंद करता हूँ।
यहाँ तक कि मैं तो अपने पड़ोसी से भी इंटरनेट चैट के जरिए बात करना पसंद करता हूँ। जब मैं अपनी कुर्सी पर बैठकर आराम से चाय के घूँट सुड़कता हुआ चैट के जरिए लोगों से बातें कर सकता हूँ तो फिर इसके लिए उनके पास जाकर बात करने की आवश्यकता ही क्या है? इसी तरह से अब जब मैं अपने घर से इंटरनेट के जरिए पिज्जा हट से घर पर ही पिज्जा मंगवा सकता हूँ - तो क्या मैं बेवकूफ हूं जो इसे खरीदने के लिए चार मोहल्ला पार कर भीड़-धूल-गड्ढे भरी सड़क पार कर पिज्जा खरीदने पिज्जा हट जाऊँ? हट!

इंटरनेट उपयोक्ता के रूप में मैं अपने आपको एलीट श्रेणी यानी कि - उस श्रेष्ठी वर्ग में गिनता हूँ - जो इंटरनेट का इस्तेमाल करते हैं। विश्व में अब दो ही किस्म के लोग हैं - एक जो इंटरनेट का इस्तेमाल करते हैं और दूसरे जो इंटरनेट का इस्तेमाल नहीं करते हैं। प्रगतिशील, समृद्ध, श्रेष्ठी वर्ग इंटरनेट का इस्तेमाल करता है। गरीब फ़ूहड़ इंटरनेट इस्तेमाल नहीं करता है। इंटरनेट के जरिए मेरे कम्प्यूटर स्क्रीन पर तमाम विश्व की ताज़ा जानकारियाँ उपलब्ध होती हैं और विश्व के ताज़ा समाचार मेरी उंगलियों पर रहते हैं। अपने कुंजीपट के कुछ कुंजियों को दबाने की देर होती है बस। धन्यवाद इंटरनेट।

इंटरनेट के जरिए जब आप सही में वैश्विक हो जाते हैं, तो फिर आपको ये छोटे मोटे बेकार के घरेलू या आसपड़ोस की घटनाओं से क्या लेना देना। इज़राइल की गाज़ा पट्टी पर ताज़ा हमले और ओसामा के नए वक्तव्य के समाचार ज्यादा महत्वपूर्ण हैं बजाए इस समाचार के कि पड़ोस के सूने मकान में पिछली देर रात तब चोरी हो गई जब मैं चैट में व्यस्त था। वैसे, कुछ खटपट की आवाजें मैंने भी सुनी थीं, परंतु उससे मुझे क्या - भई, यह तो स्थानीय पुलिस का काम है खोजबीन करे और चोरों को पकड़े। और, वैसे भी, मुझे तो अपने पसंदीदा चिट्ठों को पढ़ना था, ढेरों ईपत्रों का जवाब देना था और कुछ चिट्ठों पर टिप्पणियाँ करनी थीं - कुछ चिट्ठाकार टिप्पणियाँ नहीं करने से नाराज से चल रहे दीखते हैं।

इंटरनेट ने लाखों लोगों को लाखों तरीकों से रोजगार दिया हुआ है। अगर इंटरनेट नहीं होता तो सैकड़ों फ़िशर्स, स्पैमर्स, वायरस लेखक तो भूखे ही मर जाते। हैकरों और क्रैकरों का क्या होता। पॉर्न इंडस्ट्री कहां जाती? इंटरनेट - तेरा भला हो, तूने आधी दुनिया को भूखे मरने से बचा लिया। अगर हैकर्स और क्रैकर्स नहीं होते तो दुनिया में पायरेसी कहाँ होती और पायरेसी नहीं होती तो दुनिया में कम्प्यूटर और इंटरनेट का नामलेवा भी नहीं होता - यह मात्र अभिजात्य वर्ग की रखैल माफ़िक बन रहती। धन्यवाद इंटरनेट। तमाम तरह के कीज़ेन व क्रेक के जरिए मेरे कम्प्यूटर में लाखों रुपयों के सॉफ़्टवेयर संस्थापित हैं - भले ही उनकी आवश्यकता मुझे हो या न हो - मैं और मेरा कम्प्यूटर सॉफ़्टवेयर के मामले में अमीर तो हैं ही! अगर इंटरनेट नहीं होता तो मैं विश्व के बहुत से महान सॉफ़्टवेयर जिनमें ऑडियो वीडियो सीडी नक़ल करने के औजार व कम्प्यूटर खेल इत्यादि भी सम्मिलित हैं, का इस्तेमाल ही नहीं कर पाता।

इंटरनेट तो महान समाजवादी है। यह सबको समान रूप से न सिर्फ देखता है, बल्कि सबको समान बनने बनाने का अवसर देता है।
इंटरनेट ने दुनिया को मनोरंजन युक्त जानकारियों का नया, नायाब माध्यम दिया है। हजारों लाखों पॉर्न साइटों के जरिए आप चीन और चिली की सभ्यता के प्रेम-प्यार के आचार-व्यवहार-बर्ताव का बढ़िया और बारीकी से अध्ययन कर सकते हैं। इंटरनेट तो महान समाजवादी है। यह सबको समान रूप से न सिर्फ देखता है, बल्कि सबको समान बनने बनाने का अवसर देता है। आप इंटरनेट से हर चीज मुफ़्त में पा सकते हैं - एमपी3 से लेकर वीडियो तक। और यदि कोई चीज मुफ़्त नहीं मिल रही हो तो उसे मुफ़्त करने का क्रैक चुटकियों में पा सकते हैं। इंटरनेट इज़ अ ग्रेट लेवलर।


ले दे कर अभी तीन-चार साल ही हुए हैं मुझे इंटरनेट का इस्तेमाल करते हुए और मैं तो इसके पीछे पागल हो रहा हूँ। मैं भोजन के बगैर कुछ दिनों तक जी लूंगा, पानी के बगैर कुछ घंटों जी लूंगा, शायद हवा के बिना भी कुछ मिनट टिक जाउं। परंतु इंटरनेट के बगैर, एक पल भी नहीं! इंटरनेट तो अब मेरी मूलभूत आवश्यकता में शामिल हो गया है। भोजन, पानी और हवा की सूची में पहले पहल अब इंटरनेट का नाम आता है।

और आप चाहते हैं कि मैं कहूँ - इंटरनेट बुराइयों की जड़ है? माफ़ कीजिएगा महोदय, मेरे विचार आपसे मेल नहीं खाते। बिलकुल मेल नहीं खाते!

लड़कर वही निर्मल ज़माना लाना होगा

सुंदरलाल बहुगुणा

संवादपर्यावरणविद् व चिपको आंदोलन के प्रणेता सुंदरलाल बहुगुणा पिछले दिनों रतलाम प्रवास पर थे। जनशिक्षण मंच में पर्यावरण विषय पर उनका व्याख्यान था। इस दौरान उन्होंने पर्यावरण डाइजेस्ट नामक पत्रिका के इंटरनेट संस्करण का लोकार्पण भी किया तथा जालघर की अपने तरह की अकेली व पहली चिट्ठा-पत्रिका निरंतर का अवलोकन भी किया। इस अवसर पर निरंतर के लिए पर्यावरण विषयों पर सुंदरलाल बहुगुणा से खास बातचीत की निरंतर के वरिष्ठ संपादक रविशंकर श्रीवास्तव ने। संवाद में प्रस्तुत है उसी बातचीत के कुछ अंश:

आप चिपको आंदोलन के प्रणेता रहे हैं। कश्मीर से कोहिमा तक वन को बचाने के लिए आपने गंभीर आंदोलन चलाए हैं। अपनी इस यात्रा के बारे में कुछ प्रकाश डालेंगे?

मनुष्य प्रकृति को अपनी निजी संपत्ति मानने की भूल कर बैठा है तथा इसके अंधाधुंध दोहन की वजह से संसार में अनेक विसंगतियाँ और समस्याएँ उत्पन्न हो रही हैं। प्रकृति के असंतुलन से मौसम का चक्र ही बदल गया है नतीजतन दुनिया के अनेक हिस्सों में प्राकृतिक प्रकोप बढ़ चला है। प्रकृति को बचाने के लिए प्रकृति को प्रकृति के पास वापस रहने देने के लिए ही चिपको आंदोलन की सर्जना की गई थी। संतोष की बात यह है कि देश में ही नहीं तमाम विश्व में इस मामले में जागृति आई है। वृक्षों को काटने के बजाए वृक्षों की खेती करना जरूरी है यह बात बड़े पैमाने पर महसूस की जा रही है और इस क्षेत्र में प्रयास भी किए जा रहे हैं।

टिहरी बाँध के निर्माण को रोकने के लिए आपका दो दशकों का लंबा, गहन आंदोलन भी फलीभूत नहीं हो पाया। आपका यह आंदोलन असफल क्यों हो गया?

ऐसा मानना तो अनुचित होगा। जन जागृति तो आई है कि बड़े बाँध नहीं बनेंगे। बड़े बाँध स्थाई समस्याओं के अस्थाई हल हैं। नदी का पानी हमेशा प्रवाहमान रहता है। बाँध कुछ समय बाद गाद से भर जाते हैं और मर जाते हैं। दूसरी बात यह है कि बाँध जिंदा जल को मुर्दा कर देते हैं। पानी के स्वभाव पर अध्ययन से यह बात स्पष्ट हुई है कि रुके हुए जल में मछलियों व अन्य जीव जंतुओं, जिनका जीवन प्रवाहमान पानी के अंदर होता है उनके स्वभाव में विपरीत व उलटे परिवर्तन हुए हैं। बड़े बाँध एक दिन अंततः सर्वनाश का ही कारण बनेंगे।

परंतु इस बात से कैसे इंकार किया जा सकता है कि बड़े बांधों के निर्माण के पीछे नदियों के जल की विस्तृत क्षेत्र में वितरण की भावना होती है तथा पर्यावरण अनुकूल जल विद्युत निर्माण का उद्देश्य होता है?

यह भी एक दुष्प्रचार है। भारत जैसे जनसंख्या बहुल देश में जहाँ प्राकृतिक संसाधन जैसे कि वर्षा का जल व सौर ऊर्जा बहुलता से मिलते हैं इनका इस्तेमाल चहुँ ओर जल तथा विद्युत उत्पादन-वितरण के लिए बखूबी किया जा सकता है। भारत में प्रायः हर क्षेत्र में वर्षा इतनी होती है कि हर गांव में हर कस्बे - मुहल्ले में तालाब बना कर वर्षा का जल रोका जा सकता है और इससे पानी की समस्या से छुटकारा पाया जा सकता है। इसी तरह सौर ऊर्जा का इस्तेमाल बिजली उत्पादन में किया जा सकता है।

एक मजेदार वाकया आपको सुनाता हूँ। एक बार मैं नार्वे गया। वहाँ जब मैं पहुँचा तो देखा कि सभी घरों में ताले लगे हैं, और शहर में कोई नहीं है। मुझे लगा कि क्या मैं गलत समय पर आ गया या हूँ। परंतु मुझे बताया गया कि यहाँ धूप बहुत कम खिलती है लिहाजा लोग बाग़ समुद्र किनारे धूप स्नान के लिए गए हुए हैं। भारत में बारिश के चार महीनों को छोड़ दें तो यहाँ धूप का अकाल कभी नहीं रहता। यह प्राकृतिक, अक्षय ऊर्जा है। पर्यावरण अनुकूल ऊर्जा है। इसका इस्तेमाल क्यों नहीं किया जाता। आप देखेंगे कि जब अंधाधुंध दोहन के कारण पृथ्वी के संसाधन समाप्त हो जाएंगे तो अंततः यही अक्षय ऊर्जा ही काम आएगी। मनुष्य को अभी से चेत जाना चाहिए।

ऋणं कृत्वा घृतं पिबेत की अवधारणा जो चली आ रही है उसे बदलना होगा और देश के प्रत्येक नागरिक को स्व-समर्थित बनाना होगा। ग्राम स्वराज के इस उद्देश्य कोे अपनाए बिना भारत का उद्धार नहीं होगा

आप विनोबा जी के ग्राम स्वराज आंदोलन से भी जुड़े रहे हैं। आज की पीढ़ी यह सब भूल चुकी है। वर्तमान पीढ़ी के लिए ऐसे आंदोलनों की सार्थकता आप महसूस करते हैं?

विनोबा जी के ग्राम स्वराज योजना में भी शाश्वत सत्य का अनुष्ठान किया गया है। ऋणं कृत्वा घृतं पिबेत की अवधारणा जो चली आ रही है उसे बदलना होगा और देश के प्रत्येक नागरिक को स्व-समर्थित बनाना होगा। यही ग्राम स्वराज का उद्देश्य था और इसे अपनाए बिना भारत का उद्धार नहीं होगा।

आज हम भारत की मिट्टी के उपजाऊपन को निर्यात कर रहे हैं। खेतों की मिट्टी अंधाधुंध रासायनिक खादों के उपयोग के कारण नशेबाज हो गई है। खेत मरूस्थल बनते जा रहे हैं। खेतों में इंडस्ट्री की तरह उत्पादन लिया जा रहा है। अंततः धरती बांझ हो जाएगी। हमें इससे बचना है तो वृक्षों की खेती शुरू करनी होगी। धरती की गोद में वृक्ष सदाबहार रहेंगे तो उनसे प्राप्त वनोपजों से पर्यावरण स्वच्छ तो रहेगा ही, सर्वत्र प्रचुरता में पानी, भोजन व वस्त्र भी सुलभ हो सकेंगे।

आपने बहुत भ्रमण किया है और अपने विचारों को तमाम क्षेत्रों में रखा है। लोगों में आपके विचारों के प्रति किस तरह की भावना जाग्रत हुई है, क्या आपके इन विचारों को मान्यता मिली है?

चिपको आंदोलन उत्तर भारत में हिमालय से शुरू हुआ और दक्षिण में कर्नाटक तक पहुँच गया। वहाँ इसका नाम पिक्क हो गया है। तो इन विचारों को मान्यता तो चहुँ ओर मिली ही है।

बहुत समय से देश की कुछ बड़ी नदियों को आपस में जोड़ने के बारे में बातें की जा रही हैं - गंगा-कावेरी जैसी योजना के बारे में आपके क्या विचार हैं?

यह भी प्रकृति के साथ खिलवाड़ है। देश की नदियों को जोड़ना मूर्खतापूर्ण कदम होगा। लाभ के बजाए हानि ही ज्यादा होगी। नदियों का जलस्तर घटेगा व नदी अपनी स्वयं की शुद्ध करने की शक्ति खो देगी। एक नदी प्रदूषित होने पर वह सारी नदियों को प्रदूषित करेगी। इसे रोकने के लिए, लोकशक्ति जागृत करने के लिए हिमालय से कन्याकुमारी तक पदयात्राएँ करने की आवश्यकता है।

हमारी न्यायपालिका काफी गंभीर है और सत्य की अवधारणा पर कार्य करती है। न्यायपालिका ने सरकार को कई संवेदनशील मुद्दों पर अपना रूख बदलने को मजबूर किया है।

बड़े बाँध और पर्यावरण संरक्षण के मुद्दे पर राज्य व केंद्र की सरकारों की भूमिका पर अकसर सवाल उठाए जाते रहे हैं। आप इन्हें कहाँ तक उचित समझते हैं?

यह तो सर्वविदित है कि राज्य अपने अल्पकालिक लाभ के लिए कार्य करते हैं। परंतु खुशी की बात यह है कि हमारी न्यायपालिका बहुत मजबूत है, काफी गंभीर है और सत्य की अवधारणा पर कार्य करती है। बहुत से मामलों में न्यायपालिका ने सरकार को इन संवेदनशील मुद्दों पर अपना रूख बदलने को मजबूर भी किया है।

आपके पश्चात इस आंदोलन की गति क्या होगी?

यह कतई जरूरी नहीं है कि आंदोलन, चलाने वाले के जीवनकाल में सफल हो जाए। मनुष्य तो नाशवान है। परंतु सत्य हमेशा शाश्वत रहता है। इटरनल ट्रुथ, शाश्वत सत्य तो अमर रहेगा।

उत्तरांचल में आपने व आपकी पत्नी ने नशाबंदी के लिए भी बहुत कार्य किए। आज जब आधुनिक समाज में मद्यपान को सामाजिक उन्नति का प्रतीक समझा जाने लगा है तब नशाबंदी की अवधारणा कहाँ तक उचित प्रतीत होती है?

यह सामाजिक उन्नति तो नहीं, सामाजिक अवनति है। कोई भी नशा उन्नति की ओर नहीं ले जा सकता यह तो तय है। हमारे प्रयासों से हिमाचल के तमाम जिलों में जागरूकता फैली है। चिपको आंदोलन के कारण वनों की कटाई पूर्णतः बन्द है। पाँच जिलों में संपूर्ण मद्यनिषेध अपनाया गया है। ये बातें कम महत्वपूर्ण नहीं हैं।

मैं फिर कहूंगा कि सत्य हमेशा जिन्दा रहता है। मैं इसे अपना सौभाग्य मानता हूँ कि आज मैं जिंदा हूँ। वन माफिया और शराब माफिया ने मेरे जीवन को समाप्त करने के बहुत से कुचक्र चले। एक बार मुझे गंगा में डुबो दिया गया था। इस तरह की समस्याएँ हर आंदोलनकारी के जीवन में तो आती ही हैं। परंतु हार अंततः असत्य की ही होती है।

निरंतर के पाठकों को कोई संदेश देना चाहेंगे?

हमारे समय स्वच्छ जल, पवित्र धरती और निर्मल आकाश (वायु) था। उपभोक्तावादी संस्कृति ने हमें कहीं का नहीं छोड़ा है और सर्वनाश फैलाया है। आज सभी प्रदूषण के शिकार हैं। समस्या गंभीर होती जा रही है। हमें लड़कर नया जमाना लाना होगा, जो वही, पुराना - स्वच्छ, पवित्र और निर्मल था। युद्ध तो छेड़ना ही होगा। और यही उपयुक्त समय है।

विकिलीक्स बतायेगा पर्दे के पीछे का सच



तमाम विश्व के हर क्षेत्र के स्वयंसेवी सम्पादकों के बल पर मात्र कुछ ही वर्षों में विकिपीडिया आज कहीं पर भी, किसी भी फ़ॉर्मेट में उपलब्ध एनसाइक्लोपीडिया में सबसे बड़ा, सबसे वृहद एनसाइक्लोपीडिया बन चुका है। कुछेक गिनती के उदाहरणों को छोड़ दें तो इसकी सामग्री की वैधता पर कहीं कोई प्रश्नचिह्न नहीं लगा। इसी की तर्ज पर एक नया प्रकल्प प्रारंभ किया जाने वाला है विकिलीक्स ।

विकिलीक्स में हर किस्म के, बिना सेंसर किए, ऐसे गोपनीय दस्तावेज़ शामिल किये जा सकेंगे जिन्हें सरकारें और संगठन अपने फ़ायदे के लिए आम जन की पहुँच से दूर रखती है।

Wikileaksविकिलीक्स तकनीक में तो भले ही विकिपीडिया के समान है - विकि आधारित तंत्र पर कोई भी उपयोक्ता इसमें अपनी सामग्री डाल सकेगा, परंतु इसकी सामग्री पूरी तरह अलग किस्म की होगी। इसमें हर किस्म के, बिना सेंसर किए, ऐसे गोपनीय दस्तावेज़ शामिल किये जा सकेंगे जिन्हें सरकारें और संगठन अपने फ़ायदे के लिए आम जन की पहुँच से दूर रखती हैं। यही विकिलीक्स का मूल सिद्धान्त है।

विकिलीक्स में कोई भी उपयोक्ता ऐसे दस्तावेज़ों को मुहैया करवा सकता है। विकिपीडिया के विपरीत जहाँ उपयोक्ताओं के आईपी पते दर्ज किए जाते हैं, विकिलीक्स में क्रिप्टोग्रॉफ़िक तकनॉलाजी के जरिए इसके उपयोक्ताओं के पूरी तरह अनाम व अचिह्नित बने रहने की पूरी गारंटी दी जा रही है। जाहिर है, बहुत से दस्तावेज़ जिन्हें आम जनता तक पहुँचना चाहिए, परंतु गोपनीयता कानूनों, दंड और कानूनी कार्यवाही के भय से दबे और छुपे रह जाते हैं निश्चित रूप से आम पाठक तक प्रचुरता में पहुंचेंगे।

विकिलीक्स को अभी आम जन के लिए प्रारंभ नहीं किया गया है, मगर इसकी भावी लोकप्रियता का अंदाज़ा इस बात से लगाया जा सकता है कि सिर्फ इसकी सूचना मात्र से ही इसे 12 लाख गोपनीय दस्तावेज़ विभिन्न स्रोतों से उपलब्ध कराए जा चुके हैं।

ऐसी आशंका भी निर्मूल नहीं कि विकिलीक्स का इस्तेमाल ग़लत कार्यों के लिए भी हो सकता है। राजनीतिक दल, संगठन व व्यक्ति एक दूसरे की पोल खोलने व ब्लेकमेल करने के अस्त्र के रूप में इसका इस्तेमाल कर सकते हैं। गोपनीय दस्तावेज़ों की असलियत पर प्रश्न चिह्न भी बना रहेगा। पर सचाई यह है विकिपीडिया की विश्वसनीयता पर भी शुरूआती दिनों में प्रश्नचिह्न लगाए जाते रहे थे। गोपनीय दस्तावेज़ों के विकिलीक्स पर उपलब्ध होते ही इसकी सत्यता तथा इसकी आलोचना-प्रत्यालोचना संगठनों व सरकारों द्वारा तो की ही जा सकेगी, मतभिन्नता रखने वाले विभिन्न समूहों द्वारा भी इनका विश्लेषण खुलेआम किया जा सकेगा ऐसे में इस तरह के प्रयोग की बातें बेमानी ही होंगी - ऐसा विकिलीक्स का मानना है।

विकिलीक्स का शुभारंभ फरवरी या मार्च 2007 को प्रस्तावित है। देखते हैं इंटरनेट पर सैद्धांतिक अवज्ञा की यह गांधीगिरी क्या गुल खिलाती है!

मोबाइल फ़ोन तेरे कितने रूप?

मोबाइल फ़ोन का इस्तेमाल अब महज फोन करने के लिए तो नहीं रह गया है। एकदम प्रारंभिक स्तरों के सेलफ़ोनों में भी अंतर्निर्मति कैमरा, एमपी3 प्लेयर, एफ़एम रेडियो इत्यादि की सुविधाएँ तो मिल ही रही हैं, उच्च स्तर के मोबाइल फ़ोन तो संपूर्ण इंटरनेट इनेबल्ड, मल्टीमीडिया कम्प्यूटरों से कम नहीं हैं जिनमें आप अपने ऑफिस के भी तमाम काम निपटा सकते हैं। मोबाइल फ़ोन में हाल ही में एक और विशेषता जोड़ी गई है - आप इसका इस्तेमाल क्रेडिट कार्ड के विकल्प के रूप में बखूबी, आसानी से और ज्यादा सुरक्षित तरीके से कर सकते हैं।

क्रेडिट कार्ड के जरिए इंटरनेट पर सौदे हमेशा ही खतरे में बने रहते थे। तमाम तरह के ट्रोजन व की-लॉगर्स, फ़िशिंग साइटें हर साल ग्राहकों व क्रेडिट कार्ड कम्पनियों को करोड़ों का चूना लगाती रही हैं, और इनमें साल-दर-साल वृद्धि होती रही है। अब इन सौदों को मोबाइल फ़ोन के जरिए एक अतिरिक्त द्वितीय स्तरीय प्रमाणीकरण की व्यवस्था की जाकर सुरक्षा को और पुख्ता बनाए जाने की कोशिशें की जा रही हैं। वर्तमान में इस हेतु दो तरह की तकनीक काम में लाई जा रही है - एक तो एसएमएस आधारित तकनीक पे-मेट तथा दूसरी मोबाइल एप्लीकेशन आधारित तकनीक एम-चेक।

पे मेट: SMS से सुरक्षित खरीदारी


PayMate पे-मेट एसएमएस आधारित सेवा है जो आपके मोबाइल फ़ोन को एक अत्यंत सुरक्षित क्रेडिट कार्ड के रूप में परिवर्तित करने की क्षमता रखता है। हालांकि अभी इसके द्वारा दी जा रही सेवाओं की संख्या कम है, परंतु भविष्य में इसके व ऐसे ही अन्य सेवाओं के आने की पूरी संभावना है। पे-मेट का इस्तेमाल आसान है। यदि आपके पास सिटीबैंक का क्रेडिट कार्ड है तो 2484 पर एसएमएस संदेश - PayMate भेजें। आपको कॉलबैक किया जाएगा व आपके मोबाइल को पंजीकृत कर लिया जाएगा। जब आप पे-मेट के साथ सक्रिय व्यापारिक संस्थान से कोई खऱीदारी करते हैं तो आपको भुगतान हेतु वह संस्था आपको एक रेंडम जनरेटेड अल्फ़ा कोड के साथ आपके मोबाइल पर एक एसएमएस संदेश भेजती है। आपको उस संदेश को अपने पिन संख्या (गुप्त पासवर्ड) के साथ जवाब देना होता है। बस। और इस तरह सुरक्षित भुगतान हो जाता है। चूंकि यह सारा कार्य स्वचालित कमप्यूटरों द्वारा होता है और आपके संदेशों को कोई जीवित व्यक्ति नहीं पढ़ता और यह आपके पंजीकृत मोबाइल फ़ोन के जरिए ही होता है अतः यह अत्यंत सुरक्षित होता है।

भले ही पे-मेट के जरिए भुगतान को सुरक्षित माना गया है फिर भी आप इसके जरिए प्रति सौदे पाँच हजार रुपए तथा प्रति चौबीस घंटे में दस हजार रुपए से अधिक का भुगतान नहीं कर सकते। अतः यह सेवा अभी सिर्फ छोटे मोटे सौदों के लिए ही है और इसी वजह से इसके लोकप्रिय होने में समय लगेगा।
एम-चेक: मोबाइल बना क्रेडिट कार्ड

MChek एम-चेक आपके क्रेडिट कार्ड के अस्तित्व को खत्म करने की संभावनाएँ लेकर आया है। परंतु यह उन्हीं उच्च वर्ग के मोबाइल फ़ोनों में काम में आ सकेगा जिसमें अतिरिक्त मोबाइल एप्लीकेशन संस्थापित करने की सुविधा होगी। अगर एम-चेक जैसी सेवाएँ लोकप्रिय होंगी तो बहुत संभव है कि भविष्य में मोबाइल फ़ोन ऐसे अनुप्रयोगों के साथ ही जारी हों। हालाकि यह भी आपके इलेक्ट्रॉनिक लेन-देन में द्वितीय स्तरीय सुरक्षा प्रदान करता है, परंतु फिर भी, मोबाइल वायरस भी इस मोबाइल एप्लीकेशन को निशाना बना सकते हैं, और सुरक्षा में सेंध लगा सकते हैं।

एम-चेक का इस्तेमाल भी बहुत आसान है। आपको अपने मोबाइल फ़ोन को एम-चेक के लिए अपने बैंकर से पंजीकृत करवाना होगा और अपने मोबाइल में एम-चेक अनुप्रयोग संस्थापित करना होगा। फिर जहाँ भी आप ऑनलाइन खरीदारी करते हैं, या व्यावसायिक संस्थान में खरीदारी करते हैं, वहाँ क्रेडिट कार्ड से भुगतान के लिए नंबर के स्थान पर आपके मोबाइल के एम-चेक अनुप्रयोग द्वारा रेंडम जनित पास कोड को डालना होगा। बस। चूंकि आपके मोबाइल में संस्थापित एम-चेक अनुप्रयोग हर बार नया पास कोड देता है, अतः यह कोड सिर्फ एक ही सौदे के लिए काम में आता है, और इस तरह से क्रेडिट कार्ड नंबर चुरा कर धोखा करने वालों के मंसूबे नाकाम कर देता है। अच्छी बात यह है कि इसके प्रयोग के लिये आपको कोई अनुप्रयोग डाउनलोड नहीँ करना होता और न ही सिम में कोई परिवर्तन लगता है

पिप्पी के मोज़ों में कबाड़ से जुगाड़



रविशंकर व देबाशीष

निरंतर की पुस्तक समीक्षा स्तंभ में हम इस अंक की भावना के अंतर्गत कुछ ऐसी नायाब पुस्तकें प्रस्तुत कर रहे हैं जो निश्चित ही भारत की नौनीहाल को समृद्ध करेंगी। यहाँ विभिन्न प्रकाशकों की इन पुस्तकों की समीक्षा नहीं वरन् परिचय दे रहे हैं।

Joy of making Indian toysपहले बात दो ऐसी एक्टीविटी पुस्तकों की जो कम कीमत में, या कहें तो बिना कीमत में, खिलौने बनाना सिखाती हैं, ऐसे खिलौने जिन्हें बच्चे बेफिक्र हो जोड़ व तोड़ सकें। घरेलू खिलौनों द्वारा बच्चों में विज्ञान के प्रसार के लिये इन पुस्तकों के लेखकों को राष्ट्रीय पुरस्कार व ख्याति मिली है। ये खिलौने सामान्य चीजों से बने हैं, पर इस कारण से इन्हें फैक्टरियों में निर्मित महंगे खिलौनों से दोयम न समझें। क्योंकि ये खिलौने प्रयोग और रचनात्मकता की जो भावना जगाते हैं वह अद्वितीय है, साथ ही इनमें से कई विज्ञान के नियमों को सरलता से समझाने में भी काम आ सकते हैं।

भारत में ऐसे खिलौनों के प्रयोग की पुरानी संस्कृति रही हैं पर दुःख की बात है कि महंगे खिलौनों की बहुतायत से ये भुलाये जा रहे हैं। हमारे पारंपरिक खिलौनों से बच्चे स्वयं कुछ करते हुए सीखते हैं - और इस तरह का उनका अर्जित ज्ञान स्थायी होता है। इन पुस्तकों में दिए गए क्रियाकलापों तथा व्यावहारिक ज्ञान के लिए किसी तरह के खर्चीले साधनों की आवश्यकता नहीं होती और रोज़ाना इस्तेमाल में आने वाली चीजें और आमतौर पर बेकार हो चुकी वस्तुएं जैसे कि बोतलों के ढक्कन, स्ट्रॉ, अख़बारी काग़ज, पैकिंग के पुस्टे इत्यादि की सहायता से ज्ञान-विज्ञान की बातें आसानी से समझाने का प्रयास किया जाता है।

पहली पुस्तक भोपाल की संस्था एकलव्य द्वरा प्रकाशित कबाड़ से जुगाड़ - Little Science : विज्ञान के कुछ सस्ते सरल और रोचक खिलौने। पुणे स्थित अरविंद गुप्ता अपने इस प्रयोग के लिये विख्यात हैं। वे बेकार हो चुकी दैनिक प्रयोग की वस्तुओं के जरिए वैज्ञानिक खिलौने बनाने में सिद्धहस्त हैं। इस पुस्तक में चित्रमय विधियों द्वारा ये सिखाया गया है। उदाहरण के लिए इसमें कैमरा फ़िल्म की प्लास्टिक की डिब्बी, प्लास्टिक की थैली, साइकिल की स्पोक, टूटी चप्पल की रबर शीट के टुकड़े तथा रबर या प्लास्टिक के पाइप के जरिए पानी के पम्प बनाने की आसान विधि बताई गई है। इस चित्रमय विधि को पढ़कर बच्चे आसानी से स्वयं ही अपना एक पानी का पम्प बना सकते हैं और जान सकते हैं कि पानी का पम्प आखिर कैसे काम करता है। यह पुस्तक द्विभाषी है - यानी अंग्रेज़ी व हिन्दी दोनों में है जिससे इसकी उपयोगिता और बढ़ जाती है। 70 पृष्ठों की इस पुस्तक का मूल्य है मात्र 20 रुपये (ISBN क्रं 81-87171-03-0, संस्करण 2002, चित्र अविनाश देशपांडे)। ये पुस्तक विद्या आनलाईन पर पीडीएफ प्रारूप में मुफ्त भी उपलब्ध है।

दूसरी पुस्तक है नेशनल बुक ट्रस्ट द्वारा प्रकाशित जॉय आफ मेकिंग इंडीयन टॉय्ज़। इसके लेखक सुदर्शन खन्ना नेशनल इंस्टीट्यूट आफ डिजाइन, अहमदाबाद में काम करते हैं। अंग्रेज़ी में प्रकाशित इस पुस्तक में 101 हस्तनिर्मित खिलौने हैं जो खेल खेल में विज्ञान भी सिखाते हैं। 125 पृष्ठों की इस पुस्तक की छपाई उम्दा है व चित्र बेहतरीन। इसकी कीमत है 40 रुपये तथा इसे आप नेशनल बुक ट्रस्ट की वेबसाईट से भी खरीद सकते हैं (ISBN क्रं 81-237-2244-3)। साथ में दिये चित्र में आप इसी पुस्तक में दी गई कलाबाज़ कैप्सूल बनाने की विधि पढ़ सकते हैं (विवरण अंग्रेज़ी से अनुवादित है)। पुस्तक का हिन्दी संस्करण भी उपलब्ध है पर उसकी कीमत 90 रुपये रखि गई है। हिन्दी अनुवाद अरविंद गुप्ता का ही किया हुआ है।

खेल खेल में विज्ञान से जुड़ी किताबों के अलावा अरविंद गुप्ता ने ढ़ेरों अन्य पुस्तकों को अंतर्जाल पर मुफ्त उपलब्ध कराया है जिनमें हिन्दी व मराठी पुस्तकें भी शामिल हैं। उन के जालस्थल पर नज़र डालें और उन्हें धन्यवाद कहें।

एकलव्य का एक और प्रकाशन है - खिलौनों का खज़ाना Toy Treasures। इसमें जापानी ओरिगामी विधि से यानी काग़ज के टुकड़ों को काट-जोड़-चिपका कर इत्यादि तरीके से दर्जनों खिलौनों को कैसे बनाना यह बताया गया है। आसान सी उड़ने वाली मछली हो या जटिल बातूनी कौआ - चित्रों के जरिए इन्हें बनाने का तरीका बड़ी स्पष्टता से समझाया गया है। इसके लेखक भी अरविंद गुप्ता हैं। यह पुस्तक भी हिन्दी व अंग्रेज़ी दोनों भाषाओं में छपी है। (ISBN क्रं 81-87171-37-5, पृष्ठ संख्या 36, मूल्य - रू 20/-, संस्करण 2001) ये पुस्तक पीडीएफ प्रारूप में मुफ्त भी उपलब्ध है।

केवल 8 रुपए मूल्य की एक और पुस्तक है - नज़र का फेर - दृष्टिभ्रम के खेल। आओ माथा पच्ची करें श्रेणी की यह आठवीं पुस्तक है। इस छोटी सी पुस्तिका में दृष्टिभ्रम पैदा करने वाले ड्राइंग, रेखांकनों, रेखाचित्रों व कलाकृतियों को समेटा गया है। इनके जरिए बच्चे द्वि-त्रिआयाम के बारे में तो समझते ही हैं, कलाकृति के पर्सपेक्टिव को शीघ्र समझ सकते हैं (ISBN क्रं 81-87171-58-8, पृष्ठ संख्या 20, संस्करण 2004)।

और अंत में बात चैन्नई स्थित तुलिका प्रकाशन द्वारा प्रकाशित दो पुस्तकों की।

Samandar Aur Meinसमंदर और मैं संध्या राव की मूल अंग्रज़ी पुस्तक का बढ़िया हि्न्दी अनुवाद है। ये एक ऐसे लड़के की कहानी है जो दिसंबर 2004 में आये सुनामी से प्रभावित हुआ पर शायद ये ऐसे किसी भी बालक की कहानी हो सकती है को प्रकृति की गोद में पल बढ़ रहा हो। पुस्तक में मनमोहक स्थिर चित्र हैं, रेत शंख और तट रेखा के रंग क्रेयान से मिलकर मानों उस मर्म पर मरहम लगाते हैं जिनका इस त्रासदी में सब कुछ सागर की गर्त में समा गया।

ये कहानी भले गमग़ीन करती है पर अच्छी बात ये है कि पुस्तक का रुख आशावादी और प्रेरणास्पद है। चित्रों से शायद क्रंकीट के जंगलों में रहते बच्चे नौका, पानी, रेत और समंदर के संबंधों को समझ सकें और प्रकृति का सम्मान करना सीखें। पुस्तक की भाषा कई जगह अस्पष्ट है पर छपाई बेहतरीन है। छ वर्ष या ज्यादा उम्र के बच्चों पर केंद्रित ये 24 पृष्ठ के इस पुस्तक की कीमत है 100 रुपये। चिकने कागज़ की छपाई के लिहाज़ से न देखें तो कीमत ज़्यादा तो है। (ISBN क्रं 81-8146-114-2)

Pippi Lambemojeपिप्पी लंबेमोज़े ऐस्ट्रिड लिंडग्रन की नामचीन स्वीडिश पुस्तक पिप्पी लाँगसट्रम्प का संध्या राव द्वारा किया हिन्दी अनुवाद है। ऐस्ट्रिड का भारत के लिये भले नया नाम हों पर उनकी कम ही किताबें हैं जिन पर फिल्म नहीं बनीं। स्वीडन में छोटे बड़े सभी उनकी रचनाओं को पसंद करते रहे हैं। सरल भाषा, उम्दा विचार, हंसी मजाक और गंभीरता, ऐस्ट्रिड के लेखन में ये सभी रंग प्रचुरता से मिलते हैं। वे मानतीं थीं कि वे सिर्फ बच्चों के लिये ही लिखना चाहती हैं क्योंकि सिर्फ बच्चे ही पढ़ते समय चमत्कार कर सकते हैं।

ये पुस्तक ऐस्ट्रिड ने अपनी बीमार बेटी को कहानियाँ सुनाने के लिये लिखी। किताब से न केवल पुराने स्वीडन की संस्कृति का पता चलता है बल्कि ये भी कि पिप्पी बच्ची होने पर भी कितनी स्वतंत्र है। साठ साल पहले लिखी ये किताब आज भी बड़ी सार्थक है, भले ही भारतीय पाठक कई बातों को पचा ना पायें। 50 रुपये की इस किताब में 102 पेज हैं और अनेक सुंदर रेखांकन हैं (ISBN क्रं 81-86895-91-4)।

टेरापैड: ब्लॉगिंग से आगे की सोच?



शायद नहीं। या शायद हाँ। चिट्ठाकारों के लिए अब बहुत से अच्छे विकल्प उपलब्ध हैं और इनमें नित्य प्रति इजाफ़ा होता जा रहा है। एक नया, आल-इन-वन किस्म का ब्लॉगिंग प्लेटफ़ॉर्म - टेरापैड जारी किया गया है जो कि न सिर्फ मुफ़्त है (यदि आप विज्ञापनों से नहीं चिढ़ते हैं तो, चूंकि इसकी मुफ़्त सेवा विज्ञापन समर्थित है), ढेरों अन्य सुविधाओं से भी लेस है।

Terapad टेरापैड कुछ ऐसी सेवाओं व विशेषताओं को आपके लिए लेकर आया है जो आपकी पारंपरिक चिट्ठाकारी की दशा व दिशा को बदल सकता है। यदि आप टेरापैड के जरिए अपना चिट्ठा लिखने की सोच रहे हैं तो आपको प्रमुखतः इसमें निम्न अतिरिक्त सुविधाएँ मिलेंगी जो अन्य ब्लॉग प्लेटफ़ॉर्म में अनुपलब्ध हैं:

* पेपॉल रेडी शॉप - इसका अर्थ है, आप अपने ब्लॉग को ई-बे जैसा शॉपिंग माल मिनटों में बना सकते हैं।
* पूरा सीएसएस नियंत्रण - माने कि बोरिंग ब्लॉगर व सीमित वर्डप्रेस टैम्प्लेटों से पूरा छुटकारा। आप अपने ब्लॉग को मनचाहा रूपाकार दे सकते हैं।
* प्रोब्लागिंग औजार- (ये क्या है भई? हमें भी नहीं पता)
* WTSIWYG संपादन सुविधा - यह तो सभी में है, परंतु इसमें यह उन्नत किस्म का है।
* सामग्री प्रबंधन - आप अपने चिट्ठा पोस्टों के अतिरिक्त भी अन्य सामग्री डाल सकते हैं।
* समाचार व आरएसएस फ़ीड जोड़ सकते हैं (यह कोई नई सुविधा नहीं है)
* इमेज गैलरी
* पाठकों की आवाजाही पर निगाह - (यह तो सबसे जरूरी वस्तु है)
* परिचर्चा फोरम (वाह! क्या बात है)
* नौकरी तथा कर्मकुण्डली खोज- बेरोजगारों के लिए बढ़िया है।
* कैलेण्डर
* मुफ़्त मासिक 10 गीबा बैंडविड्थ / तथा कुल 2 गीबा डाटा

चलिए अब कुछ खामियों की बातें भी करें। वैसे तो कुछेक ही हैं, पर हैं तो :

एक ही स्थल पर बहुत सी चीजें एक आम चिट्ठाकार के लिए अनावश्यक ही होंगी। इसका इंटरफ़ेस अनावश्यक रूप से अव्यवस्थित है और सारा मामला घालमेल प्रतीत होता है। इसका यूजर इंटरफेस छोटे-छोटे कार्यों के लिए अवांछित नेविगेशन मांगता है जो खीझ भरा हो जाता है। उदाहरण के लिए, आपको नया ब्लॉग पोस्ट बनाने के लिए कड़ी तब तक दिखाई नहीं देती जब तक कि आप कोई श्रेणी बना कर उसे क्लिक नहीं करते! कौन नया चिट्ठाकार इसे समझ सकेगा भला?

एक नया व्यापारिक जोखिम जिसे गूगल खरीद लेगा? बहुत संभव है, परंतु फिर इसके उपयोक्ता आधार को करोड़ों में भी तो पहुँचना चाहिए। संभावना तो कम ही नजर आती है!



***-***

ताजमहल - अजूबा चुनने का अजूबा!

वैसे भी, ये दुनिया कम अजूबा नहीं है. ऊपर से लोगबाग और भी ज्यादा अजूबाई करने लग जाते हैं. अब देखिए ना, इस अजूबी दुनिया में अजूबा चुनने का अजूबा चल रहा है. और हमारे देसी भाईलोग ताजमहल को अजूबा के रूप में चुनने और चुनवाने को पिले पड़ रहे हैं. गोया ताजमहल, ताजमहल न हुआ इंडियन आइडल का बेसुरा, अजूबा किस्म का गायक जैसा अजूबा हो गया जिसे एसएमएस और ईमेल और ऑनलाइन वोटिंग के द्वारा चुना जाना है जिसे उतने ही वैसे ही अजूबे वोट मिलते हैं - क्षेत्रीयता और जातीयता से मिश्रित - आमतौर पर उसे प्राप्त वोटों के प्रतिशत में उसके गायकीय गुणों का कोई लेना देना नहीं होता!


अख़बार रंगे हुए हैं. दीवारें पोस्टरों से अटी पड़ी हैं. जुलूस निकल रहे हैं. ताजमहल को अजूबा के रूप में चुनने के लिए वोट करो. वोट करो भई वोट करो. और, विरोधाभास देखिए, आज ही एक बड़ा अजूबा हुआ है - मायावती पर ताजकॉरीडोर प्रकरण पर साक्ष्य के अभाव में मुकदमे की अनुमति नहीं मिलने वाली खबर से ज्यादा बड़ी सुर्खी ताजमहल को अजूबा चुनने के अपील ने आज के अखबारों में बटोरी है.


अजूबा चुनने के लिए वोटिंग ऑनलाइन हो रही है, एसएमएस के जरिए हो रही है. यानी अधुनातन, हाईटेक अजूबों के द्वारा ताज जैसे ऐतिहासिक, प्राचीन अजूबों का चुनाव हो रहा है. यह भी एक विशाल किस्म का अजूबा ही है. अजूबी, फ़ितूरी दिमागों से उपजा अजूबा. अब भले ही हिन्दुस्तान और चीन की आबादी बाकी की तमाम दुनिया की आबादी पर भारी पड़ती हो, परंतु मोबाइलों और कम्प्यूटरों की पैठ आम जन तक कम होने के कारण ऐसे अजूबे वोट तो यहाँ से पड़ेंगे ही नहीं. वोट तो उन्हीं अजूबे देशों से पड़ेंगे जो पहले ही हाईटेक होकर आधुनिक-अजूबा हो चुके हैं.


ऑनलाइन वोटिंग और एसएमएस के खेल भी निराले, अजूबे हैं. ऑनलाइट वोटिंग के लिए फ़लां साइट पर जाकर पंजीकरण कर वोट करो - और उसका यूजर बेस बढ़ाओ. एसएमएस के जरिए फ़लां नंबर पर एसएमएस करो और इस तरह अदृश्य रूप से उस नेटवर्क के खाते में लाखों रुपये जमा कराओ. वाह! ऑपरेटरों ने क्या नया नायाब अजूबा फ़ॉर्मूला निकाला है. परिणाम चाहे जो हों, अजूबा चाहे जो हो, इन ऑपरेटरों ने तो अजूबा कर ही दिया है.


जनता पुराने ऐतिहासिक धरोहरों में से पहले सात स्मारकों को अजूबा चुनती है - भले ही वे अजूबा न हों - पर जनता ने तो चुना है ना! मेरे मोहल्ले के धोबी और चायवाले ने भी दोनों ने क्रमशः पचास-पचास एसएमएस किए हैं. चायवाला तो जरा ज्यादा ही सेंटी हो गया है. उसने प्रण लिया है कि जो भी उसके सामने अजूबा के लिए एसएमएस के जरिए वोट करेगा उसे वह मुफ़्त चाय पिलाएगा. अजूबा चुनवाने वालों ने इस फर्जीवाड़े और रिश्वतखोरी करवाकर अजूबा चुनवाने को रोकने के लिए क्या उपाय किये हैं अब ये तो नहीं पता. इसके बावजूद भी अपना ताज बहुत पीछे चल रहा है. लगता है अपने ताज को अजूबों में चुनवाने के लिए किसी भी एक्स्ट्रीम तक जाने के लिए शहाबुद्दीनों और पप्पूयादवों जैसे बाहुबलियों और वोट छापने वालों की शरण लेनी ही होगी नहीं तो पराजय तो तय है! इतनी बड़ी आबादी वाले देश का ताज अजूबों में न चुना जाए - इससे बड़ा अजूबा और क्या हो सकता है भला?


तो, बताइए, ताज के लिए आपने वोट किया या नहीं? यदि आपने वोट किया है तो आपने सचमुच अजूबा काम किया है. यदि नहीं किया है, और न करने का विचार है तब तो सचमुच आप मेरे जैसे बड़े भारी अजूबे हैं जो यह सोचते हैं कि ताज तो प्रेम-प्यार का सच्चा प्रतीक है - संसार के तमाम अजूबों में सर्वकालिक-सर्वश्रेष्ठ और जिसके लिए किसी चुनाव की या किसी संस्था के प्रमाणपत्र की कतई कहीं कोई आवश्यकता ही नहीं है!

***********

सरकारी योजनाएँ - क्रॉफ़्टेड फ़ॉर फॅन्टसीज़

एक विज्ञापन आजकल धूम मचा रहा है. यूं तो वह विज्ञापन है कच्छे का, परंतु वह लोगों के दिमागों में धूम मचा रहा है. फॅन्टसी पैदा कर रहा है लोगों के दिमागों में. पहने वालों के भी और न पहनने वालों के भी. और, उन कच्छों को धोने वालों के तो क्या कहने! आखिर – वे कच्छे बने ही हैं फॅन्टसीज़ के लिए.


अमूमन सरकारी योजनाएँ भी ऐसी ही होती हैं. क्रॉफ़्टेड फ़ॉर फ़ॅन्टसीज़. दन्न से कोई नायाब, टॉइंग, सरकारी योजना आती है. लगता है कि इन्कलाब हो जाएगा, क्रान्ति हो जाएगी, कायापलट हो जाएगा. जनता और सरकार फ़ॅन्टसी में जीने लगती है. हफ़्ता दस दिन गुजरता है और जब स्वप्न भंग होता है तो हकीकत वहीं की वहीं नजर आती है. न कोई परिवर्तन, न कोई काया पलट और न कोई क्रांति.


कोई तीसेक साल पहले इंदिराजी की कांग्रेस सरकार ने एक योजना बनाई थी – गरीबी हटाओ. हर तरफ नारा चलता था – गरीबी हटाओ-गरीबी हटाओ. क्या योजना थी. एकदम परफ़ेक्ट. ए हंड्रेड एण्ड वन परसेंट क्रॉफ़्टेड फ़ॉर फ़ॅन्टसीज़. इस योजना के कारण जनता आज भी उसी फॅन्टसी में जी रही है – अपनी ग़रीबी दूर करने की फ़ॅन्टसी. अलबत्ता इन तमाम वर्षों में सरकार की उसकी खुद की फ़ॅन्टसी इस योजना को लेकर कई बार डूब उतरा चुकी है.


पिछली भाजपा-नीत सरकार को इंडिया-शाइनिंग की फ़ॅन्टसी हो गई थी. गोल्डन ट्राएंगल और प्रधानमंत्री सड़क योजना बनाकर उसे यह भ्रम हो गया कि संसद पर दूसरी मर्तबा पहुँचने की उसकी राह अत्यंत आसान हो गई है. सरकार को यह भ्रम हो गया कि जनता की फ़ॅन्टसी सरकारी फ़ॅन्टसी से अलग थोड़े ही है. प्रारंभ में लगा कि जनता सरकारी फ़ॅन्टसी में फंस चुकी है. पर फिर, शीघ्र ही - संभवतः उसके भूखे पेट, मच्छरी रातों और खटमली खाटों ने जनता की फ़ॅन्टसी को जल्दी ही तोड़ दिया.


सरकार को कुछ समय से अर्जुनिया फ़ॅन्टसी हो गई है. वो अल्पसंख्यक-पिछड़ावर्ग के जरिए गुणा भाग कर चुनावी गणित के फलस्वरूप उत्पन्न हुई फ़ॅन्टसी में जी रही है. और जनता को भी इस फ़ॅन्टसी में फांस रही है. यह गुणा-भाग भले ही सरकार अपनी परफ़ेक्ट फ़ॅन्टसी के लिए परफ़ेक्ट तरीके से क्रॉफ़्ट कर ले, मगर जनता समझदार है - चतुर सुजान है. उसने राजस्थान में आग लगाकर अपनी इस फ़ॅन्टसी को भस्म करने की शुरूआत कर दी है.


बिजली की फ़ॅन्टसी ने सरकार व जनता को बहुत झटके दिए. बिजली उपलब्ध रहकर जितने झटके मिलते हैं उससे ज्यादा झटके तो अब बिजली न रहने पर मिलते हैं. ज्यादा अरसा नहीं बीता है जब सरकार ने किसानों को, ग़रीबों को मुफ़्त बिजली बांटना शुरू किया था. सरकार की यह योजना आई तो लगा कि क्रांति हो जाएगी. जनता का कायापलट हो जाएगा. सब ओर खुशहाली छा जाएगी. सरकार की फ़ॅन्टसी थी कि जनता उसे उसकी इस कृपा के चलते अगले दस-बीस चुनावों में तो जितवाती ही रहेगी. जनता की फ़ॅन्टसी थी कि बिजली उसके सूने, अंधियारे घर में प्रकाश ही प्रकाश भर देगी. परंतु यह फ़ॅन्टसी दोनों ही तरफ जल्दी ही उतर गई. बिजली की घोर कमी हो गई. बिजली विभाग दीवालिये हो गए. सरकार दे रही है न मुफ़्त बिजली. अब बिजली है नहीं तो कहाँ से दें. जितनी है - जो है वो ले लो. अब जनता पावर कट और लोड शेडिंग को उसके इस जीवन में ख़त्म हो जाने की फ़ॅन्टसी में जी रही है और कई दफ़ा अदल बदल चुकी सरकार कोई दूसरी तरकीब की तलाश में है जो वह वोट बटोरने के लिए जनता को परोस सके. तमिलनाडु में तो हर घर में रंगीन टीवी की फ़ॅन्टसी बढ़िया परिणाम सहित बुनी जा चुकी है. अब ये जुदा बात है कि घर में खाना कितना रंगीन है, और ये भी कि उन घरों में बिजली अपनी रंगीनियाँ बिखेरती भी है या नहीं. और, ये फ़ॅन्टसी अगले चुनाव तक बची रह पाती है भी या नहीं – डीएमके के स्वयं के घर में तो उनकी फ़ॅन्टसी ध्वस्त हो ही चुकी है.


उदाहरण के लिए एक और सरकारी योजना है. यह भी परफ़ेक्ट, क्रॉफ़्टेड फ़ॉर फ़ॅन्टसीज़ है. छः वर्ष की उम्र तक के बच्चों व गर्भवती महिलाओं को मुफ़्त पौष्टिक आहार देने के लिए सरकारी योजना बनाई गई है. योजना की प्रगति काग़जों पर चलती है और सरकार फ़ॅन्टसी में जीती है कि जनता हृष्ट-पुष्ट हो रही है. भ्रष्ट सरकारी नुमाइंदे कमाई के एक और जरिए के बल पर विदेश यात्रा की फ़ॅन्टसी में जीने लगते हैं और जनता मुरमुरे खाकर हलवा-पूरी खाने की फ़ॅन्टसी में जीने के लिए अभिशप्त बनी रहती है.


अब किस फ़ॅन्टसी की बात करें और किसे छोड़ें. सरकारी फ़ॅन्टसी की दुनिया अनंत है - अंतहीन है. बिलकुल अमूल माचो की तरह.

**-//-//-**

हम भारतीय हुनरमंद

हू हैड आल काइंड्स ऑव बेटर स्किल्स?


निःसंदेह हम भारतीयों के पास.


एक ठो पेपर में ई बताया गया है कि हम भारतीयों के पास बेहतर भाषाई हुनर होता है. ई का मजाक है भाई? हम क्या सिर्फ भाषाई हुनर में बेहतर हैं? अरे! नहीं! हम भारतीय तो हर काम में बेहतर-से-बेहतर हुनरमंद हैं - सिर्फ भाषाई नहीं बल्कि हर काम में. जदी आपको इन बातों में इत्तेफ़ाक नहीं है, तो आइए, हम आपको बताएं कि क्यों!


अब भाषाई हुनर का क्या है. वो तो बेहतर होना ही है - हर भारतीय में बेहतर होना ही है. कोई भी भारतीय पालक इंटीरियर गांवे में भी रहेगा अऊ दू आना ज्यादा कमा लेगा तो अपने बच्चे को पास के कान्वेंट में डाल देगा जहाँ तीन सौ रुपल्ली मासिक के पगार पर सप्लीमेंट्री में ले देकर पास हुई टीचर जी अंग्रेज़ी पढ़ाती हैं. अब पालक भी करे तो का करे. सरकारी हिन्दी स्कूल की दुर्दशा उससे देखी नहीं जाती. पास के कान्वेंट में कम से कम उसके बच्चे को पढ़ते समय बैठने को ढंग का कमरा तो मिल जाता है. नहीं तो सरकारी स्कूल में न तो छत होती है न जमीन. और सरकारी स्कूल में पाँच कक्षा के लिए औसतन दो गुरूजी लोग पदस्थ होते हैं जिनमें से आधे तो आते नहीं, जो आते हैं वे मध्याह्न भोजन की व्यवस्था और जानकारी-सर्वे करने के काम में लगे होते हैं. कुल मिलाकर एक भारतीय बच्चा केजी वन से चालू हो जाता है अपना लैंग्वेज स्किल बढ़ाने के चक्कर में. वो ए फ़ॉर एप्पल भी पढ़ता है और गदहे का ग भी पढ़ता है. वन टू भी पढ़ता है और एक दो तीन भी पढ़ता है. ऊपर से, घर मोहल्ले में भारतीय बच्चा अपनी स्थानीय बोली बोलता है, जो स्कूल में नहीं चलता है. स्कूल में शुद्ध भाषा लिखना सीखता है जिसका इस्तेमाल वह बोलचाल में तो कभी भी किसी सूरत नहीं कर सकता, सिर्फ लिखने और पढ़ने में ही करता है - और लिखने में तो मजबूरी में करना पड़ता है नहीं तो लोगबाग उसकी भासा को शोचनीय और शौचनीय न जाने क्या क्या बना डालते हैं. और वइसे भी इस बेचारे भारतीय होनहार को भविष्य में अपना सिक्का जमाने के लिए उसके पास अंग्रेज़ी बोलने के सिवा कोई विकल्प कहीं नहीं होता. अब एक भारतीय का लैंग्वेज स्किल बेहतर नहीं होगा तो किसका होगा? किसी अँग्रेज़ का? का बात करते हो जी आप भी!


एक ठो अऊ स्किल होता है - सड़क पर वाहन चलाने का. भीड़ भरी, गड्ढों अउर उससे ज्यादा स्पीड ब्रेकर युक्त सड़कों में जहाँ साइकल-मोटरसाइकल-ऑटो-टेम्पो-कार-बस के साथ साथ गाय-गरू से लेकर बकरी कुकुर तक सब साझा रूप से चलते हैं, वहां भारतीयों के वाहन चालन स्किल को देखना काबिले गौर होता है. सड़कों की भीड़ में से, जाम में से, गाय-गरू में से कैसे बच बचा कर निकलना है और टाइम पर अपने मुकाम पर पहुँचना है यह किसी भारतीय के बस की ही बात है. बिल क्लिंटन बैंगलोर आए थे तो उन्हें खास भारतीय अंदाज में बगैर किसी परीक्षण के इंटरनेटवा के जरिए वाहन चालन लाइसेंस बनाकर दे दिया गया था. भारत की सड़कों पर वाहन चलाने के लिए किसी परीक्षण की तो जरूरते नहीं है. मुआ भारतीय नित्य परीक्षणों - नित्य नए नए परीक्षणों से और कभी वाहनों से निकलते केरोसीन के धुएं से तो कभी घरेलू गैस की बदबू से जूझता जो रहता है और अपना वाहन चालन हुनर भांजता रहता है. अब वो होगा कि नहीं तमाम विश्व का बेहतरीन, हुनर मंद वाहन चालक?


भारतीयों के पाचन स्किल के बारे में क्या खयाल है? सुनीता नारायण पेप्सी और कोकाकोला के पीछे भिड़ गईं तो हल्ला हो गया कि उसमें पेस्टीसाइड है. अऊ तमाम जनता पीने के पानी में उही पेस्टीसाइड पी रहा और पचाए जा रहा तो कौनो हल्ला नहीं. सिंथेटिक दूध और नकली घी खा खाकर भारतीय दिनों दिन मजबूते होते जा रहा है तो उसे कोई देखता नहीं. ऑक्सीटोसिन के इंजेक्शन दे देकर जबरिया निकाले जा रहे दूध को पी पीकर भारतीय का पाचन स्किल उच्चतम स्केल पर पहुँच गया है इसे कऊन देखेगा? अऊ भ्रष्टाचार के रुपिया पइसा खा के डकरने वाली बात तो अलग ही है. हर बार सर्वे में भारतीयों का नाम अव्वल ही आता है- ये बात फिर से बताने की जरूरते नहीं है. कुल मिलाकर, सुनो, हम बता रहे हैं ना - भारतीयों का पाचन स्किल उच्चतम स्तर पर है भाई!


दया धरम के मामले में भी हम भारतीय बड़े ही हुनर मंद हैं. कोई किसी धरम का फोटू बना देगा तो उसका पुतला जला देंगे दंगा फसाद कर देंगे. कोई किसी धरम का बाना पहन लेकर मसखरी करेगा तो उस पर हँसने और उस पर मजे लेने के बजाए तलवारें निकाल लेंगे. ‘भारतीय' तो एक आदमी का नाम है, परंतु उसके पास बीसियों धरम है. किसको माने और किसको नकारे. कौन अच्छा है और कौन बुरा? क्या मानूं क्या नहीं? इसी चक्कर में वह उलझता रहता है और अपने दया धरम को जब देखो तब चमकाते-दमकाते रहता है. तब होगा कि नहीं वो इस मामले में ग़ज़ब का हुनर मंद?


वइसे तो भइया, हम भारतीयों के हुनर की औरो हजारों लाखों बातें हैं. इब का बताएं अऊ का नहीं इसी में उलझ गिए हैं. आप भी तो भारतीय हो - आपको ज्यादा क्या बताना? थोड़ा लिखा ज्यादा समझना. आपे खुदै समझदार हो - हुनर मंद हो.

*****-*****

जनता चतुर सुजान

जनता के बारे में कहा जाता है कि जनता भोली होती है. जनता इमोशनल होती है. जनता को बहलाया फुसलाया जा सकता है, प्रलोभनों से बरगलाया जा सकता है. जनता को खरीदा बेचा जा सकता है. जनता को जाति-धर्म-वर्ग-वर्ण में बांटा जा सकता है. और, एक्स्ट्रीम केसेज़ में, जनता को मारा कूटा भी जा सकता है.

यूपी चुनावों के संदर्भ में अब तक ये बातें भले ही सत्य हों, पर इस दफ़ा वहां की जनता ने समीकरण पलट दिए. जनता जनता न रही वो चतुर सुजान हो गई.

राहुल के रोड शो में खूब जनता आई. रोड के रोड भर दिए, और हर जगह चक्काजाम कर दिए. गड्ढे भरी, धूलभरी, अधबनी सड़कों का एक और रेप रोड शो के माध्यम से हो गया. पर चुनाव के नतीजों से सिद्ध हो गया - जनता चतुर सुजान.

सोनिया की चुनावी सभाओं में तमाम जनता धूप में तपती बैठी रही. सूखे गले और बहते पसीने के साथ बैठी रही. भीड़ इतनी कि हर तरफ सिर ही सिर. मुलायम सरकार के ढहती क़ानून व्यवस्था के प्रश्न पर तमाम जनता ने सहमति में सिर हिलाया और इस सरकार को उखाड़ फेंकने और कांग्रेस को वोट देने की अपील पर खूब देर तक ताली बजाया. और जब चुनाव परिणाम आया तो साबित हो गया - जनता चतुर सुजान.

मुलायमी हथकंडे भी कुछ कम अमर नहीं रहे थे. बिग-बी के सिनेमाई चमत्कार युक्त ब्रांड एम्बेसेडरी से लेकर सामाजिक प्रलोभनों और एम-वाई समीकरणों सभी का जम कर इस्तेमाल किया गया. जनता मूरख के रूप में चली आती रही भीड़ की भीड़ बढ़ाती रही. और जब वोट देने का नंबर आया तो बता दिया - जनता चतुर सुजान.

बीजेपी राममंदिर का राग अलापती रही, हिन्दू हिन्दू जपती रही. जनता साथ में अखण्ड पाठ पढ़ती रही. अटल की सभा में सर्वाधिक जनता जुटी और हिन्दू हिन्दू जपी. और जब वोट देने निकली तो अपना रामनामी चोला कहीं फेंक आई और हाथी पर चढ़कर लौट आई. किसी ने पहचाना तक नहीं कि है जनता चतुर सुजान.

माया मस्त हैं. उम्मीद से ज्यादा जनता ने नवाज़ा. चाहा था चार मिला आठ. जिसे पहले गरियाए, जूतियाए, अंततः उसे गले से लिपटाए - जनता ने बता दिया - जनता चतुर सुजान.

अखबारों ने, टीवी ने, पत्रिकाओं ने जनता से पूछा - किसे वोट दे आए? जनता मुसकुराती रही. जनता सिर हिलाती रही. जनता मुँह बिसूरती रही. पत्रकारों ने माउथ गेस्चर से, बॉडी लैंग्वेज से और न जाने किन किन प्रतीकों से एक्जिट पोल के नतीजे निकाले. परिणाम उलटे आए. और भोली जनता ने भी बता दिया, कि - है वो चतुर सुजान.

****

व्यंज़ल

****

हो गई जनता चतुर सुजान

है किसी को इसका संज्ञान


मेरी बातों के हैं मेरे आधार

आप मानते रहें मेरा अज्ञान


कोई नहीं पूछता कि क्यों

छोड़े मैंने प्रार्थना और अजान


धर्म के गलियारे में अंततः

खोल ली है मैंने भी दुकान


गिरा था मैं, ये सोच के रवि

गिराव के बाद ही है उठान


***-***

न्यायिक अश्लीलता और नया राष्ट्रगीत

भाई ई समय बड़ा बलवान होत है. अउर नहीं तो क्या? अउर समय के हिसाब से अपनी पसंद भी बदल जाती है. अब ये ही देख लो - कुछ ही समय पहले हम सभी न्यायिक सक्रियता पर बड़ा खुश होते थे. न्यायाधीशों के और न्यायालयों के प्रशंसा के पुल के पुल बाँध देते थे. और आज स्थिति ये है कि न्यायिक अतिसक्रियता को हम सभी न्यायिक अश्लीलता, न्यायिक तालिबानिता और न्यायिक अनौचित्यता बताने में तुले पड़े हैं. आज हर आदमी हर ओर से न्यायालयों और न्यायाधीशों को गरिया रहा है. सरकार भी गरिया रही है और जनता भी. नेता भी और अनेता भी.

भले ही न्यायालयों में हजारों लाखों केस सुनवाई के लिए, फैसलों के लिए निलंबित पड़े हों, जनहित याचिकाओं और स्वतः संज्ञान लिए प्रकरणों के निपटारों में तीव्रता को जनता ने हाथों हाथ लिया था. जेसिका लाल प्रकरण पर जैसे ही लोगों ने भारतीय न्यायिक व्यवस्था पर थूकना चालू किया, न्यायालय ने स्वतः संज्ञान लेकर लोगों का न सिर्फ मुँह बंद किया बल्कि त्वरित फ़ैसला देकर कुछ प्रशंसा के बोल भी अपने लिए जुटाए थे. पर अब अचानक ये क्या हो गया कि न्यायालय और न्यायाधीश खुद जनता के कटघरे में खड़े दीखते हैं.

शिल्पा-गेर प्रकरण थमा ही नहीं था कि मंदिरा बेदी के साड़ी पर छपे भारतीय झंडे का मामला सामने आ गया. यानी आप गर्व से भारतीय झंडे को अपने शरीर पर लपेट भी नहीं सकते. इससे भारतीय झंडा अपमानित हो जाता है, भारत अपमानित हो जाता है. अमरीकी जनता पामेला एंडरसन जैसी हसीनाओं को अमरीकी झंडे के स्टार और स्ट्राइप के बिकिनी पहने देख खुश होती है, गर्वित होती है अमरीका और अमरीकी झंडे का सम्मान होता है. परंतु भारतीय जनता मंदिरा की साड़ी में तिरंगा देख कलपने लगती है. भारत और भारतीयता को अपमानित होता देखती है. न्यायालय में केस लग जाता है.


इधर साड़ी विवाद आता है तो उधर हुसैन की संपत्ति जब्त करने का मामला आ जाता है. हुसैन अपनी कला बनाते कहीं और हैं, प्रदर्शित करते कहीं और हैं, मीडिया में आता कहीं और है, और हरिद्वार के न्यायालय में केस दर्ज होता है हिन्दू धर्म और देवी-देवताओं के अपमान का. राजेन्द्र यादव के शब्दों में - अगर हुसैन को नग्न देवी देवताओं को चित्रित करने का दंड मिलता है, तो हर शहर और हर गांव के पंडे पुजारियों और भक्तों को ये सज़ा मिलनी चाहिये जो सार्वजनिक रूप से शिवलिंग स्थापित करते हैं और उसकी पूजा-अर्चना करते हैं.

कल को यकीनन चिट्ठाजगत् भी न्यायिक अश्लीलता के गिरफ़्त में आ जाएगा. इधर आप कुछ विवादित मुद्दों पर कुछ विवादित विचार लिख-छाप मारेंगे और उधर कोई उत्साही जनहित-याचिकाकर्ता भारतीय न्यायालय में कोई पीआईएल लगा देगा और कोई तालिबानी विचारधारा वाला न्यायाधीश आपकी गिरफ़्तारी का वारंट भेज देगा, आपको सज़ा दे देगा. भले ही आप टोरंटो में रह कर चिट्ठा लिख रहे हों, इससे कोई फ़र्क नहीं पड़ता. आप भारतीय पुलिस और भारतीय न्याय व्यवस्था के भगोड़े घोषित कर दिए जाएंगे और भारत की आपकी पैतृक संपत्ति, यदि कोई हो तो कुर्क कर ली जाएगी.

तब तक इस भय में जीते रहने के अलावा और कोई चारा नहीं है, इसीलिए आइए इंडिया का नया नेशनल एंथम गाकर इस भय को थोड़ा सा भगाने का प्रयत्न करें-

इन इंडिया,

एवरीवन केन पब्लिकली शिट एंड पिस,

बट यू केननॉट किस.

अन्य रचनाएँ

[random][simplepost]

व्यंग्य

[व्यंग्य][random][column1]

विविध

[विविध][random][column1]

हिन्दी

[हिन्दी][random][column1]

तकनीकी

[तकनीकी][random][column1]

आपकी रूचि की और रचनाएँ -

[random][column1]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget