संदेश

March, 2007 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

सही किसे मानें - दृष्य, दृश्य या देखें?

चित्र
राष्ट्रीय संगोष्ठी में, जिसका जिक्र इस चिट्ठे पर है, मैंने व जी. करूणाकर ने एक संयुक्त पर्चा पढ़ा था - अनुवादों व शब्दावलियों का विकास - मुक्त स्रोत के संदर्भ में जिसे अंग्रेज़ी में आप यहाँ पढ़ सकते हैं. इस पर्चे में कम्प्यूटर अनुप्रयोगों के विभिन्न प्लेटफ़ॉर्मों में इस्तेमाल में लिए जा रहे हिन्दी शब्दों पर एक छोटा-सा तुलनात्मक अध्ययन भी प्रस्तुत किया गया है, जो कि निम्नानुसार है - विंडोज़ एक्सपी हिंदी | शब्दावली आयोग| इंडलिनक्सAccessories सहायक उपकरण | सहयंत्र सहायक | उपकरण Active सक्रिय |सक्रिय | सक्रिय Add जोड़ें |योजी संकलन |जोड़ें Address bar पता पट्टी |- |पता पट्टीAddress book पता पुस्तिका| पता पुस्तक …

अभिकलन एवं प्रक्रमण के दौरान मुंबइया चिट्ठाकार संगोष्ठी

चित्र
पिछले दिनों वैज्ञानिक तथा तकनीकी शब्दावली आयोग ने सीडॅक मुंबई के तत्वावधान में एक राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन किया था जिसमें मैंने भी भाग लिया था. विषय था - भारतीय भाषाओं में कम्प्यूटर के भाषाई संसाधनों का निर्माण (क्रिएशन ऑफ़ लेक्सिकल रिसोर्सेज़ फ़ॉर इंडियन लेंगुएज कम्प्यूटिंग एंड प्रोसेसिंग). वैसे, शुद्ध साहित्यिक भाषा में इसका हिन्दी अनुवाद कुछ यूं किया गया था -भारतीय भाषी अभिकलन एवं प्रक्रमण के लिए शाब्दिक संसाधनों का सृजनकम्प्यूटिंग एंड प्रोसेसिंग की जगह अभिकलन एवं प्रक्रमण का इस्तेमाल किया गया था, जो कि न तो प्रचलित ही है और न ही सुग्राह्य. परंतु यह क्यों किया गया था या जा रहा है - इसकी कथा बाद में. शब्दावली आयोग के वर्तमान अध्यक्ष प्रो. बिजय कुमार ने जब अपना प्रजेंटेशन देना प्रारंभ किया तो पावर-पाइंट में बनाए गए प्रजेंटेशन ने हिन्दी दिखाने से मना कर दिया. जाहिर है, यह प्रजेंटेशन प्रो. बिजय कुमार के कार्यालय-सहायकों ने तैयार किया था, और यूनिकोड में नहीं वरन् किसी अन्य फ़ॉन्ट में था, जो कि एलसीडी प्रोजेक्टर से जुड़े कम्प्यूटर में उस फ़ॉन्ट के संस्थापित नहीं होने से चला ही नहीं. प…

देबाशीष चक्रवर्ती से खास साक्षात्कार

चित्र
मिलिए देबाशीष चक्रवर्ती से
"भारतीय कम्प्यूटिंग व भारतीय भाषाओं में सामग्री के विस्तार की संभावनाएँ."पुणे निवासी, सॉफ़्टवेयर सलाहकार देबाशीष चक्रवर्ती को भारत के वरिष्ठ चिट्ठाकारों में गिना जाता है. वे कई चिट्ठे (ब्लॉग) लिखते हैं जिनमें भारतीय भाषाओं में कम्प्यूटिंग से लेकर जावा प्रोग्रामिंग तक के विषयों पर सामग्रियाँ होती हैं. हाल ही में वे भारतीय चिट्ठा जगत में अच्छी खासी सक्रियता पैदा करने के कारण चर्चा में आए. उन्होंने इंडीब्लॉगीज़ नाम का एक पोर्टल संस्थापित किया है जो भारतीय चिट्ठाजगत के सभी भारतीय भाषाओं के सर्वोत्कृष्ट चिट्ठों को प्रशंसित और पुरस्कृत कर विश्व के सम्मुख लाने का कार्य करता है. देबाशीष डीमॉज संपादक हैं, तथा भारतीय भाषाओं में चिट्ठों के बारे में जानकारियाँ देने वाला पोर्टल चिट्ठाविश्व भी संभालते हैं. देबाशीष ने न सिर्फ भारत का एकमात्र और पहला बहुभाषी चिट्ठा पुरस्कार इंडीब्लॉगीज़ का भी शुभारंभ किया, बल्कि भारतीय ब्लॉग-दुनिया पर वे पैनी नजर भी रखते हैं. आपने बहुत सारे सॉफ़्टवेयर जैसे कि वर्डप्रेस, इंडिकजूमला, आई-जूमला, पेबल, स्कटल इत्यादि के स्थानीयकरण (सॉफ़…

मोबाइल से ब्लॉगिंग - क्या आप तैयार हैं?

चित्र
ब्लॉगर में मोबाइल से ब्लॉगिंग की सुविधा अमरीका में कुछ खास नेटवर्क के जरिए तो कुछ समय से उपलब्ध थी, परंतु भारत में ऐसी सरल सुविधा अब तक नहीं थी. जीपीआरएस एनेबल्ड मोबाइल फ़ोनों और स्मार्ट फ़ोनों के जरिए कुछ मोबाइल एप्स के जरिए तो यह संभव था, परंतु मेरे जैसे आम जनता को जिनके पास बहुत ही बेसिक किस्म का मोबाइल फ़ोन होता है, उससे ब्लॉगिंग संभव नहीं था.अब इबिबो नाम के ब्लॉगिंग प्लेटफ़ॉर्म में किसी भी मोबाइल के जरिए एसएमएस सेवा के इस्तेमाल से मोबाइल ब्लॉगिंग की सुविधा प्रदान की गई है. इबिबो वही सेवा है जो पिछले कुछ समय से भारतीय जनमानस में ब्लॉग लेखन के प्रति एक लहर पैदा करने की कोशिश कर रही है - ब्लॉगरों को करोड़ों रुपयों का इनाम देने का लालच देकर. परंतु इबिबो के इस प्रयास में खांटी किस्म के ब्लॉगरों ने कन्नी-सी काट रखी है.मगर, एसएमएस के जरिए ब्लॉगिंग की इस सुविधा से इबिबो के उपयोक्ता आधार में बढ़ोत्तरी निश्चित ही संभव है. मोबाइल ब्लॉगिंग अत्यंत आसान है. पंजीकरण के पश्चात् सिर्फ एसएमएस करने जितना! आपको इबिबो में एक ब्लॉग खाता खोलना होगा, और अपने मोबाइल को इस खाते के लिए पंजीकृत करना होगा. प…

नथिंग ऑफ़ीशियल अबाउट क्रिकेट

चित्र
यह आलेख कुछेक साल पहले लिखा गया था. परंतु यह आज भी समीचीन है. पढ़ें व मज़े लें. आपको दूर नहीं जाना है. इसी ब्लॉग के पृष्ठ पर कोई दो साल पहले प्रकाशित हुआ था -

एवरीथिंग ऑफ़ीशियल अबाउट क्रिकेट.

इस लेख के शीर्षक की प्रेरणा मिली थी - जब पिछले से पिछले विश्वकप क्रिकेट के लिए ऑफ़ीशियल ड्रिंक का प्रायोजन पेप्सी ने हथिया लिया था तो कोका-कोला ने एंटी कैंपेन किया - नथिंग ऑफ़ीशियल अबाउट इट! और जाहिर है, यह चल निकला था - ठीक वैसे ही जैसे विंडोज़ विस्टा ने कहा 'वॉव' तो मॅक ओएस ने कहा - वॉव तो हम पांच साल पहले कह चुके हैं!

साथ ही, क्रिकेट पर आज का देसीटून्ज यहाँ देखिए.
Tag ,,,del.icio.usDigg this

आप क्या कर रहे हैं?

चित्र
भला मुझे इसमें क्या रूचि हो सकती है कि आप क्या कर रहे हैं! या, इसके उलट, मैं इस वक्त क्या कर रहा हूँ इसमें आपको कोई रूचि हो सकती है भला?परंतु रुकिए, बिल गेट्स या अमिताभ बच्चन या ब्रिटनी स्पीयर्स इस समय क्या कर रहे होंगे? इसमें मुझे भी रूचि होगी और आपको भी. और, यदि आपका या मेरा रुतबा इनके जैसा हो तो हर किसी को यह रूचि होगी जानने में कि मैं या आप इस वक्त क्या कर रहे हैं! और, वैसे, मेरी इसमें भी रूचि है यह जानने में कि अभी फ़ुरसतिया अपने कम्प्यूटर में क्या लिख रहे हैं और उन्मुक्त किस चिट्ठे में पोस्ट कर रहे हैं और मोहल्ले में अविनाश क्या पका रहे हैं. मुझे सचमुच इसमें भी रूचि है कि प्रभासाक्षी और अभिव्यक्ति के संपादक अभी क्या कर रहे होंगे.इसी धारणा, इसी विचार को मूर्त रूप दिया गया है वेब अनुप्रयोग ट्विटर में. यह विचार पहली नजर में आपको भले ही भद्दा, बेकार और बेमतलब सा लगे, परंतु यह भी अविश्वसनीय सत्य है कि ट्विटर की साप्ताहिक वृद्धि-दर वर्तमान में बीस प्रतिशत से अधिक चल रही है, और मात्र सात महीनों के दौरान इसके साठ हजार से अधिक पंजीकृत प्रयोक्ता हैं! और, इन पंक्तियों के लिखे जाते तक ट्विट…

भाषा इंडिया, ये कौन सी भाषा है?

चित्र
माइक्रोसॉफ़्ट भाषा इंडिया पर देबाशीष का साक्षात्कार पढ़ते पढ़ते माउस इधर उधर विचरने लगा. एक कड़ी दिखी जिसमें भाषाई नया पन था. बानगी आप भी देखें- (बड़ा आकार देखने के लिए चित्र पर क्लिक करें)यह आंशिक पाठ कुछ इस तरह है -कया आप कुछ अनुक्रमणिका बताएगें मलटिमीडिया के बारे में
जी हाँ, जरुर..। हम कई रखमों में अनुक्रमणिका बनवाए है। हमने कहानी में सराशं मे, दोहे में नाटक में, नोवल में, शिकशा मे, साफटवेर मे, परिचय मे, सेहत और कई रखमें में बनवये है। और प्रोडियुस किये है। और हमने सीखना सीखाना में भी प्रोडियुस किया जैसा के हिन्दी सें अंग्रेची पडना और अंग्रेची मे पडना आदी...। और हम कई ज्ञ्यादी भाष में भी आविशकार करने कि कोशिश कर हे।

आपका भविशय सोचना कया है और आपका इस मारकेट में किस हद तक जाने का समभावना है।
मै जब भी मलटिमीडिया के बारे में सोचता हुँ, तब मुझे बोहत अच्छी तरह यकीन होता है के इसमे भविशय तोहत अच्छा रहेंगा। कयों के आज मारकेट में मलटिमीडिया का जो मुखाम है, तो लोगों मे बडता जा रहा है। बस एक चीज हमें धयान में रखना है के हमारा दाम, काम, और माल सही तरह से और अचछी…

अथ श्री उत्तम चिट्ठा आचार संहिता

चित्र
पिछले दिनों चिट्ठों के आचार संहिता बनने बनाने व उन्हें अपनाने पर खूब बहसें हुईं. इसी बीच चिट्ठाकारों के अनाम -बेनाम-कुनाम मुखौटों पर भी खूब जमकर चिट्ठाबाजी हुई. इसी बात को मद्देनजर रखते हुए इस ‘अथ श्री उत्तम चिट्ठा आचार संहिता' की रचना की गई है. सभी हिन्दी चिट्ठाकारों को इन्हें मानना व पालन करना घोर अनिवार्य है. अन्यथा उन्हें चिट्ठाकार बिरादरी से निकाल बाहर कर दिया जाएगा और उनका सार्वजनिक ‘चिट्ठा' बहिष्कार किया जाएगा. चिट्ठे विवादास्पद मुद्दों पर ही लिखे जाएँ. मसलन धर्म, जाति, आरक्षण, दंगा-फ़साद इत्यादि. इससे हिन्दी चिट्ठों का ज्यादा प्रसार-प्रचार होगा. सीधे सादे सरल विषयों पर लिखे चिट्ठों को कोई पढ़ता भी है? अतः ऐसे सीधे-सरल विषयों पर लिख कर अपना व पाठकों का वक्त व नारद-ब्लॉगर-वर्डप्रेस का रिसोर्स फ़ालतू जाया न करें. इस तरह के सादे चिट्ठों की रपट ब्लॉगर और वर्ड प्रेस को एब्यूज के अंतर्गत कर दी जाएगी और उस पर बंदिश लगाने की सिफ़ॉरिश कर दी जाएगी.अखबारी-साहित्यिक-संपादित तरह की तथाकथित ‘पवित्र' भाषा यहाँ प्रतिबंधित रहेगी. हर तरह का …

नया ब्लॉगर – एजेक्स एट इट्स बेस्ट!

अगर आज आपने ब्लॉगर पर होस्ट किए चिट्ठों (नए ब्लॉगर पर, पुराने क्लासिक टैंप्लेट वाले चिट्ठों पर नहीं) पर ध्यान से नज़र डाली होगी, तो यह सुखद बात पता चली होगी कि अब जब आप चिट्ठे के नए पुराने आलेखों को पढ़ने के लिए उसकी नेविगेशन कड़ियों को क्लिक कर रहे होंगे तो बजाय पूरा पेज फिर से लोड होने के, सिर्फ उस आलेख की सामग्री रिफ्रेश होती है – वह भी डॉयनामिकली यानी चलते-चलते.
एजेक्स तकनीक के बेहतरीन उपयोग का एक और नमूना.इससे न सिर्फ आपका पेज त्वरित गति से लोड होता है, पाठकों को भी सुखद अनुभूति होती है.कुछ दिन पहले ही ब्लॉगर ने अपने ब्लॉग लिखने के औजार मेंहिन्दी ट्रांसलिट्रेशन बटनजोड़ा था. नए ब्लॉगर से तो हमें और भी उम्मीदें हैं... देखते हैं अब वह नया क्या देता है.

हिन्दुस्तान टाइम्स में हिन्दी ब्लॉग!

चित्र
आज (शनिवार 17 मार्च 2007 का ई-पेपर देखें) के हिन्दुस्तान टाइम्स में प्रथम पृष्ठ पर हिन्दी चिट्ठों के संबंध में एक छोटा सा लेख छपा है.यह खबर, लगता है संपादन टेबल की कैंची की भेंट चढ़ गई, क्योंकि यही खबर दैनिक हिन्दुस्तान में थोड़ी बड़ी और ज्यादा अच्छी है!मुख्य धारा की मीडिया में हिन्दी चिट्ठे हलचल तो पैदा कर रहे हैं, चाहे जैसे भी हो!# अद्यतन - अंग्रेज़ी में पूरा आलेख यहाँ पढ़ें
Tag ,,,del.icio.usDigg this

यूनिकोड हिन्दी के लिए बढ़िया पेंट प्रोग्राम

चित्र
हम सभी को हिन्दी यूनिकोड अक्षरों को किसी भी पेंट प्रोग्राम में लिखने व उसका रूप-आकार सजाने संवारने में तमाम दिक्कतें आती हैं. आमतौर पर हाल फ़िलहाल अधिकतर पेंट प्रोग्रामों में यूनिकोड समर्थन नहीं है और कहीं कहीं है - जैसे कि ग़िम्प या फ़ोटोशॉप के नवीनतम संस्करण में, तो वहां भी समर्थन बस नाम का, आधारभूत जैसा ही है - यानी कि काम पूरा करने के लिए कई-कई चरणों में गुजरना होता है या फिर वांछित परिणाम प्राप्त नहीं होता - जैसा कि शुएब, जो कि पेशे से ग्राफ़िक डिजाइनर हैं, अपने इस पोस्ट में बता रहे हैं.आपकी इस समस्या को बहुत हद तक यह मुफ़्त का प्रोग्राम हल करने की क्षमता रखता है. पेंट.नेट नाम का यह फ्रीवेयर प्रोग्राम एक कम क्षमता वाला फ़ोटोशॉप जैसा ही है, जिसमें फ़िल्टर भी हैं तो प्लगइन की सुविधा भी. लेयर तथा असीमित अन-डू, री-डू का भी समर्थन है. यदि आपने माइक्रोसॉफ़्ट पेंट या फ़ोटोशॉप में काम किया हुआ है तो इसपर काम करना आपके लिए आसान है क्योंकि यह ठीक वैसा ही डिजाइन किया गया है. आधुनिक पेंट प्रोग्रामों की सारी प्रमुख ख़ूबियाँ इसमें हैं ही. ऊपर से यह मात्र 5.5 मेबा डाउनलोड है. पर हाँ, इसके लिए आ…

अपने डेस्कटॉप में विश्वकप क्रिकेट जीवंत स्कोर बोर्ड लगाएँ

चित्र
क्रिकेट का बुखार चहुँओर छाया है. आपका डेस्कटॉप क्यों अछूता रहे इससे? आइए, देखें कि आपके कम्प्यूटर को क्रिकेट बुखार से संक्रमित करने के क्या क्या तरीके हैं. एक तरीका यह है कि आप अपने कम्प्यूटर डेस्कटॉप में विश्वकप क्रिकेट का जीवंत स्कोर बोर्ड लगाएं. जब तक आप ऑनलाइन रहेंगे, ये स्कोरबोर्ड आपको ओवर-दर-ओवर जीवंत स्कोर कार्ड प्रस्तुत करते रहेंगे. आइए, कुछ विकल्पों की चर्चा करते हैं. याह! विजेट आपके जीवन को कई प्रकार से आसान बनाते हैं. एक ऐसा ही याहू! विजेट है जो कि विश्वकप क्रिकेट के स्कोर को जीवंत रुप में आपके कम्प्यूटर डेस्कटॉप पर लाइव स्ट्रीम करता है.इसके लिए, यदि आपने अभी तक आप याहू! विजेट इंजिन अपने कम्प्यूटर पर संस्थापित नहीं किया हुआ है तो इसे यहाँ से डाउनलोड कर अपने विंडोज (या मॅक) कम्प्यूटर में संस्थापित करें.फिर उसके बाद क्रिकेट विश्वकप लाइव स्कोर विजेट, जिसे सुमित राजगोपालन ने खास इस विश्वकप के लिए तैयार किया है, यहाँ से संस्थापित करें. (इस विजेट के बारे में और जानकारी यहां से लें)आप इस विजेट को अपने कम्प्यूटर पर कहीं भी खींच कर रख छोड़ सकते हैं. इसे आप F8कुंजी की सहायता से कभी…

लीजिए, आपके लिए पेश है ऑनलाइन हिन्दी शब्द संसाधक, वर्तनी जांचक के साथ!

चित्र
राइटली के गूगल द्वारा अधिग्रहण करने के साथ यह अंदेशा तो था ही कि एक संपूर्ण ऑनलाइन शब्द संसाधक बहुत-2 सी सुविधाओं के साथ हमें मिलने वाला है. क्या आपको पता है कि गूगल डॉक्स में अब हिन्दी वर्तनी जाँच की पूरी सुविधा उपलब्ध है? जी हाँ, अब यह उपलब्ध है, और बढ़िया काम करता है. हिन्दी में गलत वर्तनी लिखने वालों को गरियाने के लिए एक और वजह. यह है हिन्दी पाठ की वर्तनी जाँच गूगल डॉक्स में:और यह रही उसी पाठ की एमएस ऑफ़िस हिन्दी की वर्तनी जाँच :संभवतः एक जैसा.इसके लिए आपको कुछ नहीं करना है. जीमेल खाता अगर आपके पास है तो आप सीधे उसी खाते से गूगल डॉक्स में लागइन हो सकते हैं. हिन्दी पाठ आप सीधे लिख सकते हैं या कहीं से नकल-चिपका भी सकते हैं (उम्मीद करें कि ब्लॉगर जैसा ट्रांसलिट्रेशन बटन भी इसमें शीघ्र ही जुड़ेगा) और बस, नीचे दाएँ कोने में दिए वर्तनी जांच बटन को दबा कर हिन्दी चुनें.आप हिन्दी वर्तनी जांच के लिए वैकल्पिक शब्दों को भी गलत वर्तनी वाले शब्द को क्लिक कर देख सकते हैं तथा अपने स्वयं के शब्द भंडार में नए शब्दों को जोड़ भी सकते हैं.हां, यह सिर्फ ऑनलाइन काम करता है, और धीमे कनेक्शन में हिचकोले ख…

अंतरजाल के 50 सर्वाधिक प्रभावशाली व्यक्ति

चित्र
(गूगल के तिकड़ी कार्यकारी - चित्र - साभार पीसी वर्ल्ड, गूगल)टाइम पत्रिका ने इस वर्ष का अंतरजाल पुरुष "आपको" बनाया है - यानी कि इंटरनेट उपयोक्ता को. संभवतः प्रत्येक उपयोक्ता द्वारा इंटरनेट पर किसी न किसी रूप में सामग्री का योगदान करने की ख़ातिर. परंतु यह सच नहीं है. पीसी वर्ल्ड पत्रिका ने इंटरनेट के उन मौजूदा 50 व्यक्तियों की सूची जारी की है जिन्होंने अंतरजाल का आज का स्वरूप बनाने में खासा प्रभाव डाला है. सूची में प्रथम पाँच स्थान पर हैं -1 - एरिक स्मिट, सेर्जेई ब्रिन एवं लैरी पैज - गूगल के कार्यकारी2 - स्टीव जॉब्स - सीईओ एपल3 - ब्रॉम कोहैन - बिट टोरेन्ट के सह-संस्थापक4 - माइक मोरहैम - अध्यक्ष, बिजार्ड एंटरटेनमेंट (वर्ल्ड ऑफ़ वारक्रॉफ़्ट का नाम सुना है?)5 - जिमी वेल्स - विकीपीडिया के संस्थापकजाहिर है, पहली सूची में गूगल के संस्थापकों को तो आना ही था. पूरी सूची यहाँ पर देखें
Tag ,,,del.icio.usDigg this

विशाल लाइब्रेरी में से पढ़ें >

अधिक दिखाएं

---------------

छींटे और बौछारें का आनंद अपने स्मार्टफ़ोन पर बेहतर तरीके से लें. गूगल प्ले स्टोर से छींटे और बौछारें एंड्रायड ऐप्प image इंस्टाल करें.

इंटरनेट पर हिंदी साहित्य का खजाना:

इंटरनेट की पहली यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित व लोकप्रिय ईपत्रिका में पढ़ें 10,000 से भी अधिक साहित्यिक रचनाएँ

हिन्दी कम्प्यूटिंग के लिए काम की ढेरों कड़ियाँ - यहाँ क्लिक करें!

.  Subscribe in a reader

इस ब्लॉग की नई पोस्टें अपने ईमेल में प्राप्त करने हेतु अपना ईमेल पता नीचे भरें:

FeedBurner द्वारा प्रेषित

ऑनलाइन हिन्दी वर्ग पहेली खेलें

***

Google+ Followers

फ़ेसबुक में पसंद करें